Saturday, December 4, 2021
Homeदेश-समाजपिंकी को अफसर अली ने घर बुलाया, परिजनों संग मिल गला दबाया, पेड़ से...

पिंकी को अफसर अली ने घर बुलाया, परिजनों संग मिल गला दबाया, पेड़ से लटका दिया: गोपालगंज में प्यार के बदले मर्डर

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से भी पिंकी की हत्या गला घोंट कर किए जाने की पुष्टि हुई है। मुख्य आरोपित अपना गुनाह कबूल चुका है। मामले में अब तक 4 गिरफ्तारी हुई है। एक की तलाश अब भी जारी है।

बिहार के गोपालगंज जिले का सहदुल्लेपुर मठिया गाँव। 14 फरवरी 2021 को गाँव के बगीचे में पिंकी कुमारी नाम की युवती पेड़ से लटकी मिली। जो बैग लेकर पिंकी घर से निकली थी, वह तो पुलिस को मौके पर ही मिल गई, लेकिन उसका मोबाइल गायब था। पिंकी का मोबाइल बरामद करते हुए पुलिस ने खुलासा किया है कि उसकी हत्या की गई थी।

हत्या के आरोप में उसी अफसर अली को गिरफ्तार किया गया है, जिससे पिंकी प्यार करती थी। अफसर अली ने उसे अपने घर बुलाया और फिर परिजनों संग मिलकर गला दबा दिया। हत्या के बाद उन्हीं लोगों ने उसका शव पेड़ से लटका दिया था। पिंकी का मोबाइल भी अफसर अली के ही घर से बरामद किया गया है।

ऑपइंडिया से बात करते हुए सदर थाने के एसएचओ प्रशांत कुमार ने बताया कि पिंकी का खोया हुआ फोन उन्हें कुछ दिन पहले उसके प्रेमी (अफसर अली) के घर से मिला, जो बिलकुल टूटी हालत में था।

इसके अलावा पोस्टमार्टम रिपोर्ट से भी पिंकी की हत्या गला घोंट कर किए जाने की पुष्टि हुई है। एसएचओ ने बताया कि जाँच जारी है। मुख्य आरोपित अपना गुनाह कबूल चुका है। मामले में अब तक 4 गिरफ्तारी हुई है। एक की तलाश अब भी जारी है।

बता दें कि पिंकी के माता-पिता बरौली थाना क्षेत्र के बतरदेह गाँव में रहते हैं। लेकिन वह बचपन से ही सहदुल्लेपुर मठिया स्थित अपने मामा प्रमोद यादव के घर पर रही थी। 

13 फरवरी की शाम वह मामा से सामान खरीदने के लिए बाजार जाने की बात कहकर घर से निकली थी। जब देर शाम तक वह घर नहीं लौटी, तो परिवार के लोगों ने उसे ढूँढना शुरू किया। अगली सुबह वह पेड़ से लटकी मिली। मामले की सूचना पुलिस के पास पहुँचने पर अधिकारी घटनास्थल पर पहुँचे और जाँच शुरू की। 

टेक्निकल सेल की मदद से जब पड़ताल हुई तो पता चला पिंकी जिससे प्रेम करती थी उसका नाम अफसर अली है। उसने पिंकी को अपने घर बुलाया था।

25 फरवरी को दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर के अनुसार, पुलिस ने पूछताछ के बाद अफसर अली, उसके पिता नासिर आलम, माँ सोनिया खातून और वार्ड सदस्य नैमुल हक को गिरफ्तार किया। इन लोगों ने पूछताछ के दौरान बताया कि पिंकी को घर बुलाने के बाद उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी। इसके बाद शव को गाँव के समीप बगीचे में ले जाकर एक पेड़ से लटका दिया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विनोद दुआ को कैसे याद करूँ… पाखंड हुआ नहीं जाता और गोधरा में जलाए गए रामभक्त भी याद आए जा रहे

इसे पाखंड कहूँ या विडंबना विनोद दुआ को उसी इस तरह की श्रद्धांजलि खूब पड़ रही है जो वे नहीं चाहते थे। दुखद यह है कि ऐसा उनके लिबरल-सेकुलर मित्र भी कर रहे।

‘आतंक का कोई मजहब नहीं होता’ – एक आदमी जिंदा जला कर मार डाला गया और मीडिया खेलने लगी ‘खेल’

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैलाया जा रहा प्रोपगेंडा जिन स्थानीय खबरों पर चल रहा है उनमें बताया जा रहा है कि ये सब अराजक तत्वों ने किया था, इस्लामी भीड़ ने नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,521FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe