Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजपीपीई किट मॉंगा तो दिल्ली के हमदर्द अस्पताल ने 84 नर्सों को नौकरी से...

पीपीई किट मॉंगा तो दिल्ली के हमदर्द अस्पताल ने 84 नर्सों को नौकरी से निकाला, हाई कोर्ट पहुँचा मामला

हमदर्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (HIMSR) के COVID-19 समर्पित HAH सेंटेनरी अस्पताल के इन कर्मचारियों को तब हटा दिया गया था जब उन्होंने स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए COVID-19 ड्यूटी के दौरान एन -95 मास्क, निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई), बेहतर काम के घंटे, पीने के पानी, मुफ्त COVID-19 टेस्ट जैसी बुनियादी सुविधाओं की माँग की थी।

कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में तैनात एचएएच सेंटेनरी अस्पताल की एक नर्स ने उसे और अस्पताल के अन्य 83 कर्मचारियों को नौकरी से बर्खास्त करने के फैसले को चुनौती देने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

वकील सुभाष चंद्रन द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि हमदर्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (HIMSR) के COVID-19 समर्पित HAH सेंटेनरी अस्पताल के इन कर्मचारियों को तब हटा दिया गया था जब उन्होंने स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए COVID-19 ड्यूटी के दौरान एन -95 मास्क, निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई), बेहतर काम के घंटे, पीने के पानी, मुफ्त COVID-19 टेस्ट जैसी बुनियादी सुविधाओं की माँग की थी। 

याचिका के अनुसार, सरकारी आदेश के बावजूद हमदर्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (HIMSR) के HAH सेंटेनरी अस्पताल ने COVID-19 के संदर्भ में वैध चिंताओं की तरफ ध्यान दिलाने पर बड़ी तादाद में स्वास्थ्य कर्मियों को नौकरी से निकाल दिया।

याचिका में कहा गया है कि कोरोना काल में 84 नर्सिंग अधिकारियों को बर्खास्त करने के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा उठाया गया कदम सरकार के निर्देशों का उल्लंघन है। याचिकाकर्ता की तरफ से कहा गया है कि 84 नर्सों को नौकरी से हटाने का निर्णय स्पष्ट रूप से COVID-19 के संदर्भ में वैध चिंताओं को बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों के खिलाफ एक जवाबी कदम है।

वकील सुभाष चंद्रन द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि हमदर्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (HIMSR) के COVID-19 समर्पित HAH सेंटेनरी अस्पताल की एक नर्स 3 जुलाई को कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई थीं और उनमें कोरोना के लक्षण दिखाने के बावजूद उनका मुफ्त टेस्ट नहीं किया गया था।

याचिका में अस्पताल प्रशासन के 11 जुलाई के उस आदेश को भी चुनौती दी गई है जिसमें कहा गया है कि नर्सों को इसलिए नौकरी से निकाल दिया गया है क्योंकि वे छुट्टी के बिना काम से अनुपस्थित थीं, जबकि इनमें से अधिकांश 11 जुलाई तक ड्यूटी पर थीं और कई क्वारंटाइन में थीं।

इसके साथ ही याचिका में कहा गया है कि इसमें कोई दो राय नहीं कि हमारी स्वास्थ्य व्यवस्था ख़तरनाक ढंग से दबाव में है, इसमें कर्मचारियों और संसाधनों की कमी है। यह महामारी नागरिकों की ज़िंदगी लील रही है और देश में भारी संख्या में लोग मर रहे हैं। इसे देखते हुए महामारी के बीच नर्सों को नौकरी से निकाल दिया, जबकि अभी स्वास्थ्यकर्मियों की भारी ज़रूरत है। अस्पताल ने दोनों ही आधार पर गलत कदम उठाया है – उसने सरकार के निर्देशों को नहीं माना है और नर्सों और एचआईएमएसआर के बीच करार को तोड़ा है।

याचिकाकर्ता ने राजधानी दिल्ली में स्वास्थ्य कर्मियों की स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए अधिक जोखिम से संबंधित गंभीर चिंताओं को दूर करने के लिए एक COVID-19 प्रबंधन प्रोटोकॉल तैयार करने और कोरोना आइसोलेशन वार्डों में काम करने वाले प्रत्येक स्वास्थ्य कर्मी के लिए COVID-19 सुरक्षा किट की उपलब्धता सुनिश्चित करने की भी माँग की है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

हॉकी में टीम इंडिया ने 41 साल बाद दोहराया इतिहास, टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची: अब पदक से एक कदम दूर

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल बाद टीम सेमीफाइनल में पहुँची है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,549FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe