Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजमस्जिद से निकलती भीड़ को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर मारा, भागते समय भी जूते-चप्पल...

मस्जिद से निकलती भीड़ को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर मारा, भागते समय भी जूते-चप्पल समेटने पर था ध्यान

संपूर्ण देश में लॉकडाउन का उल्लंघन कर कई लोग बेलगाम की मस्जिद में नमाज के लिए पहुँच गए। स्थानीय पुलिस ने ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए नमाज के बाद मस्जिद से निकलते समय डंडे से पिटाई की।

धर्म आस्था का विषय है, व्यक्तिगत विषय है। लेकिन शायद सबके लिए नहीं! कर्नाटक के बेलगाम (Belgaum) में एक मस्जिद में गई भीड़ के लिए तो बिल्कुल भी नहीं। इस भीड़ के लिए नमाज पढ़ने से ज्यादा मस्जिद में नमाज पढ़ना जरूरी है। इस भीड़ के लिए जरूरी यह भी है कि देश अगर संकट के दौर से गुजर रहा हो तो भी अंधभक्ति को प्राथमिकता देना है।

संपूर्ण देश में लॉकडाउन का उल्लंघन कर कई लोग बेलगाम की मस्जिद में नमाज के लिए पहुँच गए। स्थानीय पुलिस ने ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए नमाज के बाद मस्जिद से निकलते समय डंडे से पिटाई की। कुछ लोग इस विडियो को “कर्नाटक में पुलिस की बर्बरता” कह कर शेयर कर रहे हैं। उनके लिए यह जानना जरूरी है कि लॉकडाउन के दौरान मंदिर-मस्जिद में भी जाना प्रतिबंधित है।

मामला सिर्फ बेलगाम की मस्जिद तक सीमित नहीं है। देहरादून के भी कुछ कट्टरपंथियों ने मस्जिद में जमा होकर नमाज पढ़ने की जिद ठान ली थी। पुलिस जब पहुँची तो डर कर भागे। उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में तो हद ही कर दिया कट्टरपंथियों ने। लॉकडाउन के बाद भी भीड़ नमाज के लिए जुट गई। और तो और, समझाने पहुँची पुलिस से भी वहाँ की मस्जिद में जुटे नमाजी भिड़ गए।

लॉकडाउन के बाद भी मैनपुरी की मस्जिद में जुटे नमाजी, मौके पर पहुँची पुलिस से भिड़े

लॉकडाउन के बाद भी देहरादून की मस्जिद में जमा हुए नमाजी, पुलिस को देखते ही हुए फरार

65 साल की राबिया का कोरोना से मौत: जहाँ गई थी CAA विरोध-प्रदर्शन में, वहाँ हिस्सा लेने वाले हर लोग खौफ में!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माँ का किडनी ट्रांसप्लांट, खुद की कोरोना से लड़ाई: संघर्ष से भरा लवलीना का जीवन, ₹2500/माह में पिता चलाते थे 3 बेटियों का परिवार

टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली लवलीना बोरगोहेन के पिता गाँव के ही एक चाय बागान में काम करते थे। वो मात्र 2500 रुपए प्रति महीने ही कमा पाते थे।

फ्लाईओवर के ऊपर ‘पैदा’ हो गया मज़ार, अवैध अतिक्रमण से घंटों लगता है ट्रैफिक जाम: देश की राजधानी की घटना

ताज़ा घटना दिल्ली के आज़ादपुर की है। बड़ी सब्जी मंडी होने की वजह से ये इलाका जाना जाता है। यहाँ के एक फ्लाईओवर पर अवैध मजार बना दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,105FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe