Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाज'माफी माँगें जावेद अख्तर वरना देश भर में उनकी फिल्में नहीं': RSS = तालिबान...

‘माफी माँगें जावेद अख्तर वरना देश भर में उनकी फिल्में नहीं’: RSS = तालिबान पर बुरे फँसे, पुलिस में शिकायत दर्ज

''आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वालों की मानसिकता भी तालिबान जैसी ही है। उन्हें तालिबान की तरह अल्पसंख्यकों से कोई प्यार नहीं है।''

बॉलीवुड में काम करके पैसा कमाने वाले जावेद अख्तर अपने बयानों के कारण अक्सर विवादों में रहते हैं। इस बार वह आरएसएस की तुलना तालिबान से करके बुरी तरह से फँस गए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल की तुलना तालिबान से करने को लेकर जावेद अख्तर के खिलाफ शनिवार (4 सितंबर) को शिकायत दर्ज की गई है।

वकील आशुतोष जे. दुबे द्वारा मानखुर्द पुलिस स्टेशन में दायर शिकायत में ग्रेटर मुंबई पुलिस से मामले पर संज्ञान लेने और अख्तर के खिलाफ कार्रवाई करने का अनुरोध किया गया है। यह शिकायत अख्तर द्वारा शुक्रवार को NDTV पर दिए गए विवादित बयान को लेकर दर्ज कराई गई है।

वहीं, भाजपा ने जावेद अख्तर से माफी की माँग की है। भाजपा नेता राम कदम ने कहा है कि जब तक अख्तर आरएसएस और वीएचपी की तुलना तालिबान से करने वाले अपने बयान के लिए माफी नहीं माँगते, तब तक उनकी फिल्में देश में नहीं दिखाई जाएँगी।

3 सितंबर को एनडीटीवी के एक शो में अख्तर ने कहा, ”आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वालों की मानसिकता भी तालिबान जैसी ही है।” उन्होंने कहा, ”जिस तरह तालिबान एक मुस्लिम राष्ट्र बनाने की कोशिश कर रहा है। उसी तरह कुछ लोग हमारे सामने हिंदू राष्ट्र की अवधारणा पेश करते हैं।”

जावेद अख्तर ने आगे कहा, “इन लोगों की मानसिकता एक जैसी है। तालिबान हिंसक हैं। जंगली हैं। उसी तरह आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल का समर्थन करने वाले लोगों की मानसिकता एक जैसी है।

तालिबान की तुलना आरएसएस, विहिप और बजरंग दल से करते हुए अख्तर ने कहा कि हिंदू संगठन जिन विचारधाराओं का पालन करते हैं, वे तालिबान से अलग नहीं हैं। उन्होंने हँसते हुए कहा, “उन्हें तालिबान की तरह अल्पसंख्यकों से कोई प्यार नहीं है। वे चाहते हैं कि तालिबान की तरह महिलाएँ घर में ही रहें। दोनों के बीच क्या अंतर है? वे कहते हैं कि उनकी धार्मिक आस्था से बढ़कर कोई कानून नहीं है, ऐसा तालिबान भी कहता है। आप उनसे कैसे अलग हैं?”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -