Sunday, September 19, 2021
Homeदेश-समाज'माफी माँगें जावेद अख्तर वरना देश भर में उनकी फिल्में नहीं': RSS = तालिबान...

‘माफी माँगें जावेद अख्तर वरना देश भर में उनकी फिल्में नहीं’: RSS = तालिबान पर बुरे फँसे, पुलिस में शिकायत दर्ज

''आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वालों की मानसिकता भी तालिबान जैसी ही है। उन्हें तालिबान की तरह अल्पसंख्यकों से कोई प्यार नहीं है।''

बॉलीवुड में काम करके पैसा कमाने वाले जावेद अख्तर अपने बयानों के कारण अक्सर विवादों में रहते हैं। इस बार वह आरएसएस की तुलना तालिबान से करके बुरी तरह से फँस गए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल की तुलना तालिबान से करने को लेकर जावेद अख्तर के खिलाफ शनिवार (4 सितंबर) को शिकायत दर्ज की गई है।

वकील आशुतोष जे. दुबे द्वारा मानखुर्द पुलिस स्टेशन में दायर शिकायत में ग्रेटर मुंबई पुलिस से मामले पर संज्ञान लेने और अख्तर के खिलाफ कार्रवाई करने का अनुरोध किया गया है। यह शिकायत अख्तर द्वारा शुक्रवार को NDTV पर दिए गए विवादित बयान को लेकर दर्ज कराई गई है।

वहीं, भाजपा ने जावेद अख्तर से माफी की माँग की है। भाजपा नेता राम कदम ने कहा है कि जब तक अख्तर आरएसएस और वीएचपी की तुलना तालिबान से करने वाले अपने बयान के लिए माफी नहीं माँगते, तब तक उनकी फिल्में देश में नहीं दिखाई जाएँगी।

3 सितंबर को एनडीटीवी के एक शो में अख्तर ने कहा, ”आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वालों की मानसिकता भी तालिबान जैसी ही है।” उन्होंने कहा, ”जिस तरह तालिबान एक मुस्लिम राष्ट्र बनाने की कोशिश कर रहा है। उसी तरह कुछ लोग हमारे सामने हिंदू राष्ट्र की अवधारणा पेश करते हैं।”

जावेद अख्तर ने आगे कहा, “इन लोगों की मानसिकता एक जैसी है। तालिबान हिंसक हैं। जंगली हैं। उसी तरह आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल का समर्थन करने वाले लोगों की मानसिकता एक जैसी है।

तालिबान की तुलना आरएसएस, विहिप और बजरंग दल से करते हुए अख्तर ने कहा कि हिंदू संगठन जिन विचारधाराओं का पालन करते हैं, वे तालिबान से अलग नहीं हैं। उन्होंने हँसते हुए कहा, “उन्हें तालिबान की तरह अल्पसंख्यकों से कोई प्यार नहीं है। वे चाहते हैं कि तालिबान की तरह महिलाएँ घर में ही रहें। दोनों के बीच क्या अंतर है? वे कहते हैं कि उनकी धार्मिक आस्था से बढ़कर कोई कानून नहीं है, ऐसा तालिबान भी कहता है। आप उनसे कैसे अलग हैं?”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe