Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाजटोक्यो ओलंपिक का हिस्सा रहे तीरंदाज प्रवीण जाधव के परिवार को महाराष्ट्र में मिल...

टोक्यो ओलंपिक का हिस्सा रहे तीरंदाज प्रवीण जाधव के परिवार को महाराष्ट्र में मिल रही धमकियाँ, पिता ने कहा- गाँव छोड़ने को हूँ मजबूर

जाधव का परिवार जहाँ उनका पहले से ही एक छोटा सा मकान है, उसे वो बड़ा बनाना चाहते हैं। प्रवीण के परिवार का आरोप है कि पड़ोसी उन्हें उनकी ही जमीन पर कंस्ट्रक्शन नहीं करने दे रहे हैं और धमका रहे हैं।

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय दल का हिस्सा रहे तीरंदाज प्रवीण जाधव के परिवार को लगातार धमकियाँ मिल रही हैं, जिससे वह बेहद परेशान हैं। महाराष्ट्र के सतारा जिले के सराडें गाँव में जाधव के माता-पिता रहते हैं। यहाँ उनका परिवार घर बनाना चाहता है, लेकिन पड़ोसी उन्हें ऐसा करने से धमका रहे हैं और घर का ​निर्माण करने से रोक रहे हैं। पड़ोसियों के इस रवैये से उनका परिवार बेहद दुखी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, जाधव का परिवार जहाँ उनका पहले से ही एक छोटा सा मकान है, उसे वो बड़ा बनाना चाहते हैं। प्रवीण के परिवार का आरोप है कि पड़ोसी उन्हें उनकी ही जमीन पर कंस्ट्रक्शन नहीं करने दे रहे हैं और धमका रहे हैं। खिलाड़ी के पिता रमेश जाधव ने कहा है कि अगर यह विवाद जल्दी नहीं सुलझा तो उन्हें गाँव छोड़ने पर मजबूर होना पड़ेगा।

टोक्यो से लौटने के बाद प्रवीण ने बताया था कि मेरे माता-पिता स्टेट एग्रीकल्चर कॉरपोरेशन में मजदूरी करते थे। कॉरपोरेशन ने ही उन्हें यह जमीन पट्टे पर दी थी, जिसका कोई लिखित समझौता नहीं हुआ था। अब मेरा परिवार इस जमीन पर बड़ा मकान बनाना चाहता है, लेकिन पड़ोसी उन्हें लगातार धमका रहे हैं। वे इसे अपनी जमीन बता रहे हैं। उन्होंने बताया कि पड़ोसी पहले भी परेशान करते थे और एक अलग लेन चाहते थे, जिस पर हम राजी हो गए थे। हालाँकि, अब वे पूरी जमीन की माँग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम इस मकान में बरसों से रह रहे हैं और हमारे पास सारे कागजात हैं।

वहीं, स्थानीय प्रशासन का इस पूरे विवाद पर कहना है कि जिस जमीन पर प्रवीण का परिवार मकान बनाकर रह रहा है, वह अभी भी एग्रीकल्चर कॉरपोरेशन के नाम पर ही है। बता दें कि इस समय जाधव सोनीपत में हैं और उनका परिवार गाँव में हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,642FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe