Wednesday, December 7, 2022
Homeदेश-समाजगुरुग्राम में सार्वजनिक जगह पर नमाज का स्थानीय लोगों ने किया विरोध, कहा- जब...

गुरुग्राम में सार्वजनिक जगह पर नमाज का स्थानीय लोगों ने किया विरोध, कहा- जब से ये शुरू हुआ चेन स्नेचिंग, छेड़खानी बढ़ी: देखिए Video

"इससे महिलाएँ बेहद डरी हुई हैं। जब से सड़कों पर नमाज पढ़ना शुरू हुआ है, तब से चेन स्नेचिंग, छेड़खानी की घटनाएँ बढ़ गई हैं। सड़कों पर इस अवैध नमाज को रोका जाना चाहिए।"

हरियाणा के गुरुग्राम का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में कुछ लोग सार्वजनिक जगह पर नमाज पढ़ने का विरोध करते हुए दिखाई दे रहे हैं। मामला गुरुग्राम के सेक्टर-47 की है।

वीडियो में देखा जा सकता है लोग नमाज का विरोध कर रहे हैं। इनमें से एक व्यक्ति पुलिस से कहता है ‘सवाल पूछने का मतलब दंगा भड़काना नहीं है’। साथ ही इस स्थिति पर चिंता जताते हुए यह भी पूछता है कि नमाज का विरोध कर रहे एक अन्य व्यक्ति को पुलिस ने हिरासत में क्यों लिया है। उस व्यक्ति ने कहा कि यहाँ से 2 किमी दूर एक मस्जिद है, ये लोग वहाँ जाकर नमाज क्यों नहीं पढ़ते? अगर मै यहाँ बैठकर पूजा करने लग जाऊँ तो ये लोग मेरा गला दबा देंगे। पुलिस यहाँ से एक भी आदमी को क्यों नहीं उठा पा रही है? उन पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है?

वहाँ मौजूद अन्य व्यक्ति ने कहा कि हम हनुमान चलीसा पढ़ने मंदिरों में जाते हैं, लेकिन इन्हें नमाज पढ़ने के लिए यही जगह मिलती है क्या। ये लोग हमारी बहन-बेटियों के साथ गलत व्यवहार करते हैं। हमें इनसे डर लगता है। बताया जा रहा है कि पुलिस प्रशासन द्वारा सार्वजनिक जगह पर नमाज पढ़ने वालों पर कार्रवाई नहीं किए जाने से वहाँ रहने वाले लोग बेहद परेशान हैं। इससे उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

हिंदू समूहों के अनुसार, ये लोग दरगाहों का निर्माण कर भूमि पर अवैध रूप से कब्जा करने के लिए सार्वजनिक जगह पर नमाज अदा करते हैं। स्थानीय निवासियों का कहना है, “इससे महिलाएँ बेहद डरी हुई हैं। जब से सड़कों पर नमाज पढ़ना शुरू हुआ है, तब से चेन स्नेचिंग, छेड़खानी की घटनाएँ बढ़ गई हैं। सड़कों पर इस अवैध नमाज को रोका जाना चाहिए।” एक अन्य स्थानीय निवासी ने कहा, “हम यहाँ अवैध मस्जिद या मजार नहीं बनने देंगे।”

सार्वजनिक नमाज का विरोध करने वाले स्थानीय निवासियों में से एक ने कहा, “जिस तरह से मेरठ की लड़की को मारा गया और फरीदाबाद की लड़की को मौत के घाट उतार दिया गया, कहीं ये सब भविष्य में हमारी बेटियों का साथ भी ना हो जाए।” उन्होंने कहा, “पुलिस कुछ नहीं कर रही है, क्योंकि उनके पास हमारे खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश है।”

रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरुग्राम सेक्टर-47 में रहने वाले लोग अपने पड़ोस में मुस्लिमों द्वारा सड़कों पर नमाज अदा करने से बेहद परेशान हैं। स्थानीय लोगों ने मौके पर इकट्ठा हुए मुस्लिमों का विरोध किया और उन पर कानून-व्यवस्था तोड़ने का आरोप लगाया।

गौरतलब है कि इससे पहले भी गुरुग्राम में सार्वजनिक रूप से नमाज अदा करने के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन हो चुके हैं। इस साल मार्च में, स्थानीय निवासियों ने गुरुग्राम के सेक्टर-40 में सार्वजनिक जगह पर नमाज अदा करने का विरोध किया था। मई 2018 में भी गुरुग्राम में 76 स्थानों पर भारी पुलिस बल और लोगों के विरोध के बीच सार्वजनिक स्थान पर नमाज पढ़ी गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आमदनी से 3 गुना ज़्यादा है MCD का खर्च, कैसे चलेगी AAP की रेवड़ी वाली राजनीति? केंद्र सरकार से भी मिलता है पैसा, टैक्स...

एमसीडी आम आदमी पार्टी के लिए काँटो भरा ताज है। इसके आय और व्यय के बीच का जो अंतर है, उसे पाटना आम आदमी पार्टी के लिए आसान नहीं होगा।

काशी तमिल संगमम: जीवंत परंपराओं को आत्मसात करने की विशेषता ही भारतीय सांस्कृतिक संपूर्णता का आधार

प्रथम तमिल संगम मदुरै में हुआ था जो पाण्ड्य राजाओं की राजधानी थी और उस समय अगस्त्य, शिव, मुरुगवेल आदि विद्वानों ने इसमें हिस्सा लिया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,221FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe