Thursday, June 30, 2022
Homeदेश-समाज16 साल की उम्र में मुस्लिम लड़की हो जाती है निकाह के लायक: पंजाब...

16 साल की उम्र में मुस्लिम लड़की हो जाती है निकाह के लायक: पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में ‘इस्लामी कानून’ देख कर फैसला

जस्टिस जसजीत सिंह बेदी की पीठ ने एक मुस्लिम जोड़े की याचिका पर ये टिप्पणी की। ये याचिका एक 21 साल के लड़के और 16 साल की लड़की ने प्रोटेक्शन पाने के लिए हाईकोर्ट में डाली थी।

मुस्लिम लड़कियों के निकाह की सही उम्र के मामले पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट की टिप्पणी आई है। कोर्ट ने कहा है कि एक मुस्लिम लड़की 16 साल की उम्र में निकाह के लायक हो जाती है। ऐसे में वह चाहे तो अपने पसंद के लड़के से निकाह कर सकती है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, जस्टिस जसजीत सिंह बेदी की पीठ ने एक मुस्लिम जोड़े की याचिका पर ये टिप्पणी की। ये याचिका एक 21 साल के लड़के और 16 साल की लड़की ने प्रोटेक्शन पाने के लिए हाईकोर्ट में डाली थी।

याचिकाकर्ताओं ने याचिका में कहा था कि उन दोनों को कुछ समय पहले एक दूसरे से प्यार और उन्होंने निकाह करने की ठानी। अंतत: दोनों का निकाह 8 जून 2022 मुस्लिम रीति-रिवाजों से हुआ। घरवालों की आपत्ति के कारण उन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

उन्होंने याचिका में कहा कि मुस्लिम कानून के अनुसार, वह दोनों बालिग हो चुके हैं और उन्हें एक दूसरे से निकाह का अधिकार है, इसमें परिवार वाले हस्तक्षेप नहीं कर सकते। अपनी याचिका में मुस्लिम जोड़े ने बताया कि उन्हें जान का खतरा है और इस बारे में वह पठानकोट के एसएसपी को भी बता चुके हैं। हालाँकि अब तक कोई एक्शन नहीं लिया गया।

मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस बेदी ने कहा, “कानून स्पष्ट है कि मुस्लिम लड़की की शादी मुस्लिम पर्सनल लॉ के अनुसार हुई है। ऐसे में दीनशाह फरदूनजी मुल्ला की किताब ‘प्रिंसिपल्स ऑफ मोहम्मडन लॉ’ के अनुच्छेद 195 के अनुसार, याचिकाकर्ता लड़की अपने पसंद के व्यक्ति से निकाह करने के लिए सक्षम है। लड़के की उम्र भी 21 है। इस तरह दोनों याचिकाकर्ता मुस्लिम पर्सनल लॉ के अनुसार निकाह लायक हैं। “

कोर्ट ने पठानकोट एसएसपी को निर्देश देते हुए कहा कि इस मामले में याचिकाकर्ताओं की माँग से मुँह नहीं फेरा जा सकता। सिर्फ इसलिए कि उन्होंने परिवार के विरुद्ध निकाह किया उन्हें उनके अधिकारों से वंचित नहीं कर सकते जैसा कि भारत के संविधान में भी कहा गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe