Sunday, June 23, 2024
Homeदेश-समाजउत्तराखंड में भारी बारिश के कारण तबाही, अब तक 8 लोगों की मौत, केदारनाथ...

उत्तराखंड में भारी बारिश के कारण तबाही, अब तक 8 लोगों की मौत, केदारनाथ से लौट रहे 22 श्रद्धालुओं को SDRF ने बचाया

रामनगर में कोसी नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से कई रिसॉर्ट्स में पानी घुस चुका है। नैनीताल के रामगढ़ का एक हिस्सा जल में डूब चुका है और लोग मदद की गुहार लगा रहे हैं।

बारिश के कारण उत्तराखंड में जगह-जगह भूस्खलन हो रहे हैं और लोगों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। सोमवार (18 अक्टूबर) को एसडीआरएफ और उत्तराखंड पुलिस ने 22 श्रद्धालुओं को जंगल चट्टी से निकाला है। ये श्रद्धालु केदारनाथ से लौटते वक्त भारी बारिश के बीच फँस गए थे। इन श्रद्धालुओं को गौरी कुंड भेजा गया है। वहीं, चलने में परेशानी महसूस कर रहे 55 वर्षीय एक श्रद्धालु को स्ट्रेचर के के जरिये शिफ्ट किया गया।

दरअसल, उत्तराखंड में भारी बारिश के कारण जगह-जगह भू-स्खलन भी हो रहे हैं। मौसम विभाग ने बारिश को लेकर राज्य में मंगलवार के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं, हालात की गंभीरता को देखते हुए चार धाम यात्रा को फिलहाल रोक दिया गया है। आज स्कूलों को बंद रखा गया है। इस आपदा में अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है।

वहीं, रामनगर में कोसी नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से कई रिसॉर्ट्स में पानी घुस चुका है। नैनीताल के रामगढ़ का एक हिस्सा जल में डूब चुका है और लोग मदद की गुहार लगा रहे हैं। अल्मोड़ा में एक मकान के गिरने से कुछ लोगों के मलबों में दबे होने की आशंका है, लेकिन बदतर हालात के कारण रेस्क्यू टीम मौके तक नहीं पहुँच पा रही है।

वहीं, पौड़ी के लैंसडाउन में भूस्खलन के कारण एक नेपाली परिवार के 3 लोगों के मारे जाने की खबर है, जबकि चंपावत जिले में दो और रुद्रप्रयाग जिले में कानपुर के एक पर्यटक की मौत हो गई है। भूस्खलन और भारी बारिश के चलते जगह जगह रास्ते बंद हो गए हैं।

स्काईमेट वेदर के मुताबित, अगले 24 घंटों के दौरान हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम, असम, मेघालय में बारिश की चेतावनी दी है। वहीं, उत्तर प्रदेश के पश्चिमी और मध्य भागों, पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों, ओडिशा के तटीय क्षेत्रों, झारखंड के कुछ हिस्सों और मध्य प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में बारिश की संभावना है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -