Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजराजस्थान: ताबड़तोड़ फायरिंग में बजरंग दल के नेता सुरेंद्र जड़िया की गोली मार कर...

राजस्थान: ताबड़तोड़ फायरिंग में बजरंग दल के नेता सुरेंद्र जड़िया की गोली मार कर हत्या

वारदात को अंजाम देने के बाद तीनों बदमाश वहाँ से फरार हो गए। सूचना मिलते ही वहाँ पर पुलिस आ गई। चौतरफा नाकाबंदी के बाद भी आरोपितों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है।

राजस्थान के चुरू जिले के सादुलपुर कस्बे में गुरूवार (मई 9, 2019) को थाने से महज 300 मीटर की दूरी पर बाइक पर आए तीन नकाबपोश बदमाशों ने बजरंग दल के प्रखंड संयोजक और ट्रांसपोर्ट कंपनी के संचालक सुरेंद्र जड़िया की गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद तीनों बदमाश वहाँ से फरार हो गए। सूचना मिलते ही वहाँ पर पुलिस आ गई। चौतरफा नाकाबंदी के बाद भी हत्यारों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है। घटनास्थल पर गोली के खाली खोखे व एक लोडेड मैगजीन मिली है।

खबर के मुताबिक, तीनों बदमाशों की सुरेंद्र के साथ कोई आपसी दुश्मनी थी, जिसका बदला लेने के लिए उन्होंने सुरेंद्र पर ताबड़तोड़ गोलियाँ चलाकर उनकी हत्या कर दी। वो लोग सुरेंद्र को मारने की नीयत से उनके ऑफिस के बाहर पहले से ही मौजूद थे और जैसे ही वो ऑफिस के बाहर निकले, बदमाशों ने उन पर लगातार 10 फायरिंग की, जिसमें से 3 गोलियाँ सुरेंद्र को लगी और वो वहीं जमीन पर गिर पड़े और तीनों बदमाश बाइक पर बैठकर वहाँ से फरार हो गए।

सुरेंद्र को आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी था। सुरेंद्र की मौत हो चुकी थी। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मामले की जाँच कर रही पुलिस को सीसीटीवी फुटेज में 3 संदिग्ध नजर आए हैं। जिसके बाद अब पुलिस उनकी तलाश करने में जुट गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe