Friday, February 3, 2023
Homeदेश-समाजराजस्थान के टोंक में नाबालिग के साथ सामूहिक दुष्कर्म, निसार, सलमान, जाकिर सहित चार...

राजस्थान के टोंक में नाबालिग के साथ सामूहिक दुष्कर्म, निसार, सलमान, जाकिर सहित चार गिरफ्तार

पीड़िता के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि जाँच अधिकारी (IO) ने उसका बयान लेते समय पीड़िता को डराने-धमकाने की कोशिश की, और साथ ही पीड़िता का मेडिकल चेकअप करने वाली महिला डॉक्टर ने उस पर अश्लील टिप्पणी की, उसके साथ अभद्रता की।

लॉकडाउन के बावजूद बलात्कार जैसे जघन्य अपराध रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। 5 मई 2020 को राजस्थान के टोंक में एक नाबालिग के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया था। मामले में पुलिस ने चारों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें से एक नाबालिग है।

राजस्थान के टोंक में हुए इस गैंगरेप में गिरफ्तार आरोपितों के नाम निसार खान उर्फ नसरिया, सलमान ऊर्फ खोबड़ा और जाकिर ऊर्फ राजरड़ा हैं, जबकि चौथा आरोपित नाबालिग है।

मामला टोंक के पचेवर थाना क्षेत्र का है। जहाँ पाँच मई की रात कार सवार दो युवकों ने नाबालिग का अपहरण कर लिया। इसके बाद उसे जंगल में ले गए, जहाँ उसके दो साथी भी आ गए। इसके बाद आरोपितों ने उसके साथ सारी हदें पार दी। आरोपितों ने रात भर उसके साथ बारी-बारी से रेप किया और विरोध करने पर उसके साथ मारपीट भी की।

वारदात के बाद अगली सुबह यानी 6 मई 2020 को आरोपित उसे गाँव के बाहर छोड़ कर फरार हो गए। इसकी जानकारी पुलिस अधीक्षक (एसपी) आदर्श सिद्धू ने शुक्रवार (मई 8, 2020) को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दी। बताया जा रहा है कि चारों आरोपित भागने की फिराक में थे, मगर इससे पहले ही वो पुलिस ने उन्हें धर दबोचा।

पीड़िता के भाई की ओर से बुधवार (मई 6, 2020) को दर्ज शिकायत के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 363, 366,376 डी और पॉक्सो (POCSO) के तहत मामला दर्ज कर तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया। मामले में शामिल एक अन्य नाबालिग आरोपित को हिरासत में लिया गया है।

इधर पत्रिका की रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि जाँच अधिकारी (IO) ने उसका बयान लेते समय पीड़िता को डराने-धमकाने की कोशिश की, और साथ ही पीड़िता का मेडिकल चेकअप करने वाली महिला डॉक्टर ने उस पर अश्लील टिप्पणी की, उसके साथ अभद्रता की।

इस बात का खुलासा होने पर शुक्रवार को सांसद व विधायक के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर धरना दिया। इस दौरान उन्होंने जाँच अधिकारी को बदलने और डॉक्टर के खिलाफ कार्यवाही करने एवं पीड़िता को उचित मुआवजा दिलाने की माँग की। इसके साथ ही उन्होंने गिरफ्तार आरोपितों के लिए फाँसी की सजा की भी माँग की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी फिर बने दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता: अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस… सबके लीडर टॉप-5 से भी बाहर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता सातवें आसमान पर है। वह एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता चुने गए हैं।

उपराष्ट्रपति को पद से हटवा देंगे जज-वकील: जानिए क्या है प्रक्रिया, सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम को लेकर पागलपन किस हद तक?

कॉलेजियम और केंद्र के बीच खींचतान जारी है। ऐसे में उपराष्ट्रपति और कानून मंत्री को कोर्ट हटा सकता है? क्या कहता है संविधान?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
243,756FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe