Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजNSUI ने राम मंदिर के लिए शुरू किया चंदा अभियान, वामपंथियों ने चेताया- बंद...

NSUI ने राम मंदिर के लिए शुरू किया चंदा अभियान, वामपंथियों ने चेताया- बंद नहीं किया तो कॉन्ग्रेस खो देगी परंपरागत वोट

कार्यक्रम 15 दिनों तक चलाया जाएगा। छात्र संगठन की ओर से कार्यक्रम को लेकर कहा गया है कि वह न सिर्फ कॉलेज बल्कि प्रदेश के सभी स्कूली छात्र-छात्राओं के बीच भी चंदा माँगने जाएँगे।

राजस्थान में कॉन्ग्रेस की छात्र विंग NSUI ने राम मंदिर निर्माण के लिए अभियान शुरू किया है। इस अभियान का नाम है- ‘1 रुपया राम के नाम’। कहा जा रहा है इस पैसे को इकट्ठा करके अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दिया जाएगा। NSUI ने भी स्वयं कहा कि वह 15 दिन की इस पहल से मिली राशि को अयोध्या के राम मंदिर अधिकारियों को सौंप देंगे। 

कार्यक्रम की शुरुआत जयपुर के कॉमर्स कॉलेज से की गई। NSUI के प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक चौधरी ने बताया कि इसका मकसद स्पष्ट रूप से समाज के सभी लोगों को इस नेक कार्य से जोड़ना है। उन्होंने कहा कि राममंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रित करने का काम प्रदेश के सभी जिलों में संगठन के पदाधिकारी करेंगे।

इसके अतिरिक्त यह भी बताया गया कि कार्यक्रम 15 दिनों तक चलाया जाएगा। छात्र संगठन की ओर से कार्यक्रम को लेकर कहा गया है कि वह न सिर्फ कॉलेज बल्कि प्रदेश के सभी स्कूली छात्र-छात्राओं के बीच भी चंदा माँगने जाएँगे।

बता दें कि एक तरफ कॉन्ग्रेस की छात्र ईकाई इस अभियान को शुरू करके आरएएस पर हमला.बोल रही है और ये जता रही है कि एक रुपया व एक करोड़ दोनों बराबर हैं। वहीं पार्टी के दिग्गज नेताओं ने इस अभियान पर आपत्ति जताई है।

पार्टी नेता पवन बंसल ने कहा कि दिल्ली के लेवल पर राम मंदिर के लिए कॉन्ग्रेस की चंदा इकट्ठा करने की कोई योजना नहीं है। उनसे संपर्क किया गया था, लेकिन उन्होंने इसके लिए मना कर दिया। वह कहते हैं, “मेरे लिए धर्म मेरी व्यक्तिगत आस्था और निजी मामला है, कॉन्ग्रेस पार्टी के तौर पर सेकुलर है, भाजपा ने राम मंदिर के नाम पर कई बार चंदा इकट्ठा किया है।”

उधर राणा अयूब ने भी इस अभियान की जानकारी होने पर ट्विटर पर आपत्ति जाहिर की। उन्होंने पीटीआई की खबर को शेयर करते हुए लिखा, “ओह हेलो! राहुल गाँधी।” हालाँकि, बाद में उसे डिलीट कर दिया गया।

इसके अलावा कई अन्य कट्टरपंथियों ने भी इस जानकारी पर एनएसयूआई का विरोध किया था। उस्मान अहमद ने लिखा, “आखिर इसकी जरूरत क्या है? तुम्हें मालूम है कि राम मंदिर अवैध भूमि पर बन रहा है, ये सुप्रीम कोर्ट के निर्णय में भी। मुस्लिम आखिर कॉन्ग्रेस का समर्थन ही क्यों करें।”

मो शान ने कहा, “राम मंदिर का फ़ैसला भाजपा की वजह से आया है अब एनएसयूआई या कॉन्ग्रेस का कोई भी संगठन कुछ भी कर ले, राम मंदिर के नाम पर वोट नहीं ले पाएँगे। उल्टा ग़लत फ़ैसले को समर्थन करने की वजह से परंपरागत वोट का नुक़सान ही होगा। समय रहते NSUI ये बंद करे ताकि कॉन्ग्रेस का नुक़सान न हो।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe