Monday, September 27, 2021
Homeदेश-समाजदो से अधिक बच्चे होने पर मताधिकार व सरकारी नौकरी नहीं दी जानी चाहिए:...

दो से अधिक बच्चे होने पर मताधिकार व सरकारी नौकरी नहीं दी जानी चाहिए: योग गुरु रामदेव

"हिंदू हों या मुस्लिम सभी लोगों के लिए ऐसे नियम बनाने की ज़रूरत है कि दो से अधिक बच्चे होने पर लोगों को सरकारी मेडिकल के साथ ही साथ मताधिकार व सरकारी नौकरी की सुविधाएँ नहीं दी जानी चाहिए।"

देश की बढ़ती जनसंख्या पर योग गुरु रामदेव स्वामी ने एक बड़ा बयान दिया है। रामदेव स्वामी ने बढ़ती जनसंख्या पर चिंता ज़ाहिर करते हुए कहा कि जिनके दो या दो से अधिक बच्चे हों, उन सभी लोगों को मताधिकार और सरकारी नौकरी नहीं दी जानी चाहिए।

देश की बढ़ती जनसंख्या पर अपने विचार रखते हुए एक कार्यक्रम में योग गुरु रामदेव ने यह बयान दिया। योग गुरु रामदेव ने वर्तमान समय में जनसंख्या को देश की बड़ी चुनौती बताते हुए कहा, “हिंदू हों या मुस्लिम सभी लोगों के लिए ऐसे नियम बनाने की ज़रूरत है कि दो से अधिक बच्चे होने पर लोगों को सरकारी मेडिकल के साथ ही साथ मताधिकार व सरकारी नौकरी की सुविधाएँ नहीं दी जानी चाहिए।” योग गुरु रामदेव ने यह भी कहा कि ऐसे लोगों से चुनाव लड़ने के अधिकार भी छिन लिया जाना चाहिए।

इससे पहले भी इस मुद्दे पर बोल चुके हैं रामदेव

यह पहली बार नहीं है जब किसी कार्यक्रम में जनसंख्या के मुद्दे पर योग गुरु ने इस तरह का बयान दिया है। इससे पहले भी जनसंख्या के मामले में योग गुरु बयान देते रहे हैं। पिछले साल नवंबर में योग गुरु ने जनसंख्या पर बयान दिया था कि जिन्होंने शादी नहीं की है, ऐसे लोगों के सम्मानित किया जाना चाहिए। इसी कार्यक्रम के दौरान उन्होंने यह भी कहा था कि मेरे जैसे लोग जिन्होंने शादी नहीं की है, ऐसे लोगों को सरकार द्वारा सम्मानित किया जाना चाहिए। जबकि जिनके दो से अधिक बच्चे हैं, उनको मताधिकार से वंचित कर देना चाहिए।    

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe