Saturday, November 27, 2021
Homeदेश-समाजयाद हैं न बलिदानी रतनलाल: परिवार की मदद के लिए आएँ आगे, ये रहे...

याद हैं न बलिदानी रतनलाल: परिवार की मदद के लिए आएँ आगे, ये रहे बैंक डिटेल्स

बैंक अकाउंट की पुष्टि के लिए ऑपइंडिया ने रतनलाल के भाई दिनेश से बात की। सारी डिटेल्स सही निकली। जब ऑपइंडिया ने उनके भाई से पूछा कि उनके परिवार को क्या-क्या जरूरत है... तो उनकी आवाज भारी हो गई और वह केवल यही कह पाए, "जैसी जिसकी भावना।"

दिल्ली में हुए हिंदू विरोधी दंगों में हेड कॉन्सटेबल रतनलाल वीरगति को प्राप्त हो गए। उनकी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ कि दंगाइयों की गोली लगने के कारण उनकी मृत्यु हुई। रिपोर्ट में बताया गया कि दंगे के दौरान मारी गई गोली उनके बाएँ कंधे में जाकर लगी और दाएँ कंधे में जाकर फँस गई। गोली को पोस्टमॉर्टम के दौरान निकाला गया।

रतनलाल मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिले के फतेहपुर तिहवाली गाँव के निवासी थे। लेकिन अपनी पत्नी और 3 बच्चों के साथ वो पिछले काफी समय से दिल्ली के बुराड़ी में ही रह रहे थे। उन्होंने अपनी माँ से इन छुट्टियों में गाँव आने का वादा किया था। लेकिन हिंदू-विरोधी दंगों में उनकी ख्वाहिश अधूरी ही रह गई। वो माँ को किया वादा पूरा करने से पहले ही दुनिया को छोड़कर चले गए।

उनके जाने के बाद अब उनका परिवार बिलकुल अकेला है। उनके पीछे उनकी पत्नी पूनम के अलावा दो मासूम बेटियाँ सिद्धि (12) और कनक (10) के साथ-साथ एक बेटा राम (7) रह गया है। इनके अलावा रतनलाल की माँ और एक छोटा भाई दिनेश भी हैं। ये दोनों गाँव में रहते हैं। पिता बृजमोहन का तो ढाई साल पहले ही देहांत हो चुका है। अब ऐसे में आखिर उनका घर चलाने वाला है ही कौन?

ऐसे में रतनलाल के परिवार की आर्थिक मदद के लिए कुछ दिन पहले अरुण बोथरा नाम के एक IPS ऑफिसर ने सोशल मीडिया पर रतनलाल के परिवार (पत्नी) का बैंक डिटेल्स अपलोड किया था। बैंक अकाउंट की पुष्टि के लिए ऑपइंडिया ने उनके भाई दिनेश से बात की। सारी डिटेल्स सही निकली। जब ऑपइंडिया ने रतनलाल के भाई से पूछा कि उनके परिवार को क्या-क्या जरूरत है… तो उनकी आवाज भारी हो गई और वह केवल यही कह पाए, “जैसी जिसकी भावना।”

अब अगर आप भी इन दंगों में वीरगति को प्राप्त हुए हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल के परिवार की मदद करना चाहते हैं या फिर आर्थिक सहयोग करने में सक्षम हैं, तो हम उनकी बैंक डिटेल्स नीचे साझा कर रहे हैं। कृपया उनकी मदद के लिए आगे आएँ, जो खुद की जान की परवाह किए बिना दंगाइयों के सामने सीना ताने खड़े रहे और हमारे और आपके लिए अपने पूरे परिवार को छोड़कर चले गए।

Name: Mrs Poonam Bari
A/C no: 33150100023786
Bank of Baroda
IFSC Code – BARB0BURARI
(Fifth Character is Zero)

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बढ़ता आरक्षण हो, समान नागरिक संहिता या… कुछ और: संविधान दिवस बनेगा विमर्शों का कारण, पिछले 7 सालों में PM मोदी ने दी है...

विमर्शों का कोई अंतिम या लिखित निष्कर्ष निकले यह आवश्यक नहीं पर विमर्श हो यह आवश्यक है क्योंकि वर्तमान काल भारतीय संवैधानिक लोकतंत्र की यात्रा के मूल्यांकन का काल है।

कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंकियों के कमांडर हाजी आरिफ को मार गिराया, 2018 के बैट हमले में इस पूर्व पाक सैनिक की थी अहम...

जम्मू-कश्मीर में एलओसी के निकट सुरक्षाबलों ने आतंकियों के मददगार हाजी आरिफ को मार गिराया। पहले पाकिस्तानी सेना में था यह आतंकी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
139,817FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe