Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजरेलवे के खाने में बार-बार छिपकली: बुजुर्ग करता था फ्री खाने के लिए नाटक

रेलवे के खाने में बार-बार छिपकली: बुजुर्ग करता था फ्री खाने के लिए नाटक

यह वही आदमी है। उसने 14 जुलाई को जबलपुर रेलवे स्टेशन पर समोसा खाने की बात कही थी और बताया था कि उसे इसमें छिपकली मिली। इसके बाद गंटकल रेलवे स्टेशन में बिरयानी में छिपकली मिलने की भी शिकायत की थी।

रेलवे के खाने में छिपकली पाए जाने की एक भ्रामक खबर का आखिरकार खंडन हो गया है। सुरेंद्र पाल नाम के एक बुजुर्ग की चालाकी पकड़े जाने के बाद रेलवे के ही एक वरिष्ठ कॉमर्सियल मैनजेर ने इस प्रकार की शिकायतों में एक संदेहास्पद और एक समान प्रक्रिया पाने के बाद सम्बंधित अधिकारियों को भी इस बारे में सतर्क किया है।

बसंत कुमार शर्मा, वरिष्ठ DCM, जबलपुर ने PTI से फोन कॉल पर कहा- “यह वही आदमी है। उसने 14 जुलाई को जबलपुर रेलवे स्टेशन पर समोसा खाने की बात कही थी और बताया था कि उसे इसमें छिपकली मिली। इसके बाद गंटकल रेलवे स्टेशन में बिरयानी में छिपकली मिलने की भी शिकायत की थी। मुझे इस बारे में संदेह हुआ और मैंने वरिष्ठ DCM को इस बारे में सतर्क किया। मैंने उन्हें तस्वीरें भी दिखाई। वो एक 70 साल से भी ज्यादा उम्र का आदमी निकला, जो ऐसा फ्री का खाना खाने के लिए करता था।” उन्होंने यह भी बताया कि सुरेंद्र पाल ऐसा काफी समय से करते आ रहा था।

रिपोर्ट्स के अनुसार, गंटकल स्टेशन पर जब वरिष्ठ अधिकारियों ने पूछताछ की, तो उसने वीडियो बनाते हुए स्वीकार किया कि वो इस ट्रिक के लिए किसी ‘दिमागी बिमारी ठीक करने वाली मछली’ का इस्तेमाल करता था। वीडियो में अधिकारी उसे समझते हुए देखे जा सकते हैं कि रेलवे एक राष्ट्रीय सम्मान का विषय है और जनता से जुड़ी हुई संपत्ति है। अधिकारी उसे रेलवे का नाम ख़राब करने के लिए डाँट भी रहे हैं। साथ ही, सुरेंद्र पाल को हिदायत दी गई कि उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी यदि वह इस प्रकार की हरकतों को भविष्य में नहीं दोहराएगा।

वीडियो में सुरेंद्र पाल अधिकारियों से कह रहा है, “मैंने गलत काम किया है। मैं बुजुर्ग आदमी हूँ और दिमागी रूप से अस्थिर हूँ, मुझे ब्लड कैंसर है। कृपया मुझे छोड़ दो। पंजाब में एक आयुर्वेदिक दवाई मिलती है। मैंने एक मछली इस्तेमाल की, जो दिमाग की कमजोरी और हड्डियों की बिमारी को ठीक करती है।”

पाल ने बताया कि उसके पिता भी एक वरिष्ठ DCM थे, इस पर अधिकारी उसे समझा रहे हैं कि उसे रेलवे के साथ धोखा नहीं करना चाहिए था क्योंकि यह उसके लिए परिवार जैसा है।

हालाँकि, यह पता नहीं लगाया जा सका कि उसे कैंसर है। अक्टूबर तक रेलवे को यात्रियों द्वारा 7,500 से ज्यादा शिकायतें मिलीं, जो खाने की ख़राब गुणवत्ता को लेकर थीं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe