Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाज100 बेड के साथ चालू हुआ देश का पहला 'कोरोना वायरस डेडिकेटेड अस्पताल', रिसर्च...

100 बेड के साथ चालू हुआ देश का पहला ‘कोरोना वायरस डेडिकेटेड अस्पताल’, रिसर्च में जुटे रिलायंस के वैज्ञानिक व डॉक्टर

ये अपने आप में एक वर्ल्ड क्लास हेल्थकेयर संस्थान है, जिसने विदेश से आने वालों के लिए स्पेशल मेडिकल फैसलिटीज की व्यवस्था करने का निर्णय लिया है। यहाँ जल्द ही संक्रमित लोगों के इलाज और आइसोलेशन की व्यवस्था पूरी कर ली जाएगी। यहाँ के डॉक्टर्स और रिसचर्स लगातार कोरोना वायरस का तोड़ ढूँढने में लगे हुए हैं, ताकि इसका कोई स्थायी इलाज निकल कर सामने आए।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कोरोना वायरस से निपटने और लोगों की परेशानियों का ख्याल रखने में सरकार का पूर्ण सहयोग करने का वादा किया और इसी क्रम में कई घोषणाएँ की। इनमें कोरोना वायरस के मरीजों के लिए एक स्पेशल अस्पताल खोलने की बात भी कही गई थी, जिसे सिर्फ़ 2 सप्ताह में तैयार कर लिया गया है। अब हम आपको उस असपताल की डिटेल्स बताते हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बताया है कि ये देश का पहला ‘कोविड-19 डेडिकेटेड हॉस्पिटल’ है। इसमें 100 बेड हैं और इसे बृहनमुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (बीएमसी) के साथ मिल कर तैयार किया गया है। इसे ‘सेवन हिल्स हॉस्पिटल’ के एक सेंटर के रूप में तैयार किया गया है।

रिलायंस ने बताया है कि ये अपने आप में भारत का पहला ऐसा सेंटर है और इसे पूर्णरूपेण रिलायंस फाउंडेशन द्वारा फंड किया गया है। क्रॉस-कंटैमिनेशन को रोकने और संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए एक ‘नेगेटिव प्रेशर रूम’ का निर्माण किया गया है। सभी बिस्तरों को सारी ज़रूरी सुविधाओं, जैसे बायोमेडिकल इंस्ट्रूमेंट्स और अन्य इंफ्रास्ट्रक्टर से लैस किया गया है। जैसे- वेंटीलेटर, पेसमेकर, डायलिसिस मशीन और पेसेंट मॉनिटरिंग डिवाइसेज की सुविधा सभी बेड के लिए है। इसके अलावा एचएन रिलायंस फाउंडेशन हॉस्पिटल ने भी क़दम बढ़ाए हैं।

ये अपने आप में एक वर्ल्ड क्लास हेल्थकेयर संस्थान है, जिसने विदेश से आने वालों के लिए स्पेशल मेडिकल फैसलिटीज की व्यवस्था करने का निर्णय लिया है। यहाँ जल्द ही संक्रमित लोगों के इलाज और आइसोलेशन की व्यवस्था पूरी कर ली जाएगी। यहाँ के डॉक्टर्स और रिसचर्स लगातार कोरोना वायरस का तोड़ ढूँढने में लगे हुए हैं, ताकि इसका कोई स्थायी इलाज निकल कर सामने आए। महाराष्ट्र की लोधीवाली में भी रिलायंस का एक बड़ा आइसोलेशन सेंटर है, जिसे जिला प्रशासन को सौंप दिया गया है। रिलायंस ने मुख्यमंत्री राहत कोष में भी 5 करोड़ रुपए जमा किए हैं। देखें रिलायंस के ‘कोरोना वायरस डेडिकेटेड हॉस्पिटल’ का वीडियो:

सोमवार (मार्च 23, 2020) को ही रिलायंस ने घोषणा की थी कि रिलायंस फाउंडेशन देश के विभिन्न शहरों में लोगों को मुफ्त भोजन भी देगा। ये काम कई एनजीओ के माध्यम से किया जाएगा। इमरजेंसी सेवाओं की गाड़ियों को रिलायंस अपने पेट्रोल पम्प्स पर मुफ्त में तेल भी देगा। पूरे देश में रिलायंस के 736 ग्रोसरी स्टोर्स हैं, जिन्हें लोगों के डिमांड्स को पूरा करने के लिए तैयार किया जा रहा है। अब ये सभी स्टोर्स सुबह 7 बजे से रात 11 बजे तक खुले रहेंगे। इन स्टोर्स में सब्जियों व अन्य चीजों का इंतजाम किया जाएगा। साथ ही बुजुर्गों के लिए होम डिलीवरी की व्यवस्था की जाएगी। रिलायंस ने प्रतिदिन 1 लाख मास्क के उत्पादन की भी जानकारी दी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe