Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाजकेरल में दिनदहाड़े RSS वर्कर की हत्या, शरीर पर गुदे मिले 50 निशान: बंगाल...

केरल में दिनदहाड़े RSS वर्कर की हत्या, शरीर पर गुदे मिले 50 निशान: बंगाल में भी BJP समर्थक का शव मिला

केरल केवल अकेला राज्य नहीं है जहाँ आए दिन संघ कार्यकर्ता या भारतीय जनता पार्टी से जुड़े लोग निशाना बनाए जाते हैं। बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर में भी रविवार को एक भाजपा समर्थक को मौत के घाट उतार दिया गया।

केरल के पल्लकड़ में ए संजीत नामक राष्ट्रीय स्वयंसेवक कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई। संजीत सोमवार (नवंबर 15, 2021) की सुबह करीब 9 बजे अपनी बीवी के साथ बाइक पर कहीं जाने के लिए बाहर निकले थे, तभी उन पर हमला हुआ। 

अभी तक की जानकारी के मुताबिक, इस हमले के पीछे पॉपुलर फ्रंट इंडिया के छात्र संगठन एसडीपीआई सदस्यों का हाथ है। कथिततौर पर SDPI के लोगों ने 26 वर्षीय संजीत पर आज सुबह हमला किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक संजीत के शरीर पर 50 से ज्यादा धारदार हथियार से वार के निशान मिले हैं। हत्या के बाद इलाके में तनाव वाला माहौल है। पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है और मामले की जाँच कर रही है।

बता दें कि यह पहली दफा नहीं है कि केरल में किसी आरएसएस कार्यकर्ता की इस तरह बेरहमी से हत्या की गई हो।  इसी साल फरवरी में एक नंदू नामक संघ कार्यकर्ता को भी मौत के घाट उतारा गया था।

उल्लेखनीय है कि केरल केवल अकेला राज्य नहीं है जहाँ आए दिन संघ कार्यकर्ता या भारतीय जनता पार्टी से जुड़े लोग निशाना बनाए जाते हैं। बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर में भी रविवार (14 नवंबर 2021) को एक भाजपा समर्थक को मौत के घाट उतार दिया गया।

पश्चिम बंगाल के भगबानपुर में भास्कर बेरा का शव बरामद हुआ। वहाँ बीजेपी ने आरोप लगाया कि उसे टीएमसी समर्थकों ने मारा है। पार्टी के उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि 2 मई को चुनावों के परिणाम आने के बाद से 80 कार्यकर्ता को मारा जा चुका है।

ताजा घटना के बाद मृतक भास्कर बेरा की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल है। देख सकते हैं कि हत्या के बाद उनका शरीर रेड़ी पर पड़ा है और आसपास खून बह रहा है। भाजपा ने जहाँ इस हत्या के लिए टीएमसी को दोषी बताया है वहीं टीएमसी ने कहा कि बेरा शनिवार को जुलूस में शराब के नशे में था। हो सकता है कि ज्यादा शराब पी लेने के कारण ये मृत्यु हुई हो।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -