विदेश में रहकर चुकाया देश का कर्ज़, अब घर बैठे कर सकेंगे श्री काशी विश्वनाथ के दर्शन

लगभग 25 साल पहले वो बतौर टाटा स्टील के कर्मचारी बनकर यूएस की तरफ मुड़ गए थे और अब वो वतन को कुछ देना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने इस ऐप का निर्माण किया है, ताकि वो अपने देश को कुछ लौटा सकें।

वाराणसी का एक लड़का जो कुछ समय पहले मिशिगन में जाकर बस गया था। उसने एक ऐसी ऐप को बनाया है जिससे लोग काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन अपने घर में बैठे ही कर पाएंगे।

हमारा भारतीय समाज अपने धर्म और संस्कारों की वज़ह से पूरे विश्व भर में जाना जाता है। लेकिन, आज के समय में कुछ भारतीय ऐसे भी है जो बेहतर भविष्य की कल्पना करते हुए विदेश पहुँचकर भारत को भुला देते हैं। ऐसे लोगों के लिए रुपेश श्रीवास्तव नाम के ये व्यक्ति एक प्रेरणा की तरह हैं।

हाल ही में रुपेश ने एक ऐसी ऐप को बनाया किया है, जिससे काशी विश्वनाथ मंदिर को देखने की इच्छा रखने वाले कई श्रद्धालु घर बैठे ही पूरे मंदिर के दर्शन कर पाएँगे। इस ऐप का इस्तेमाल करने के लिए आपको सिर्फ इस ऐप को डाउनलोड करना है और थ्री डी चश्मे की मदद से इसका आनंद उठाना शुरू कर देना है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एक तरफ जहाँ काशी विश्वनाथ में होने वाली आरती, पूजा-पाठ के दर्शन करने के लिए लोगों की लंबी लाइन लगती हैं, वहीं इस ऐप की मदद से लोग आसानी से लाइव पूजा आरती को सुन और देख पाएँगे।

वर्चुअल स्पेस द्वारा मिलने वाले इस मंदिर के दर्शन को योगी आदित्यनाथ ने प्रवासी भारतीय दिवस के दिन सोमवार (21 जनवरी, 2019) को लांच किया है। बता दें कि कुम्भ में इसकी प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी।

मिशिगन में यंगसॉफ्ट इंक (Youngsoft Inc) के सीईओ रुपेश श्रीवास्तव ने इस ऐप को बनाया है। श्रीवास्तव इस मुकाम पर पहुँचने के बाद कहते हैं कि लगभग 25 साल पहले वो बतौर टाटा स्टील के कर्मचारी बनकर यूएस की तरफ मुड़ गए थे और अब वो वतन को कुछ देना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने इस ऐप का निर्माण किया है, ताकि वो अपने देश को कुछ लौटा सकें।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: