Tuesday, May 17, 2022
Homeदेश-समाजयूक्रेन में सुरक्षित है नवीन का पार्थिव शरीर, बमबारी रुकने का इंतजार: कर्नाटक के...

यूक्रेन में सुरक्षित है नवीन का पार्थिव शरीर, बमबारी रुकने का इंतजार: कर्नाटक के CM ने कहा- भारत अवश्य लाया जाएगा शव

भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा कर्नाटक के हावेरी जिले के चलगेरी के रहने वाले थे। वह भूख से बेहाल अपने साथियों के लिए खाना लेने निकले थे, इसी दौरान वे गोलीबारी के शिकार हो गए थे।

रूस-यूक्रेन के बीच चल रही जंग के बीच भारतीय छात्र नवीन कुमार की मौत हो गई थी। उनके परिवार आज भी उनके पार्थिव शरीर का इंतजार कर रहा है। कर्नाटक के रहने वाले नवीन शेखरप्पा ज्ञानगौदर की खारकीव में गोलीबारी में मौत हो गई थी। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि नवीन का पार्थिव शरीर अवश्य भारत लाया जाएगा। उन्होंने मंगलवार (8 मार्च 2022) को मीडिया से बात करते हुए कहा, “विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने हमें सूचित किया है कि नवीन का पार्थिव शरीर यूक्रेन के एक शवगृह में रखा गया है। बमबारी रुकने के बाद उनका पार्थिव शरीर भारत लाया जाएगा।”

मुख्यमंत्री बोम्मई ने पिछले दिनों कहा था कि युद्ध ग्रस्त यूक्रेन से नवीन का शव लाना सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने शोक संतप्त परिवार से मुलाकात भी की थी और 25 लाख रुपए का एक चेक सौंपा था। साथ ही पीएचडी कर रहे नवीन के भाई को नौकरी का आश्वासन दिया था।

बता दें कि भारतीय छात्र नवीन शेखरप्पा कर्नाटक के हावेरी जिले के चलगेरी के रहने वाले थे। वह भूख से बेहाल अपने साथियों के लिए खाना लेने निकले थे, इसी दौरान वे गोलीबारी के शिकार हो गए थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नवीन चाहते तो वो यूक्रेन से निकल चुके होते, लेकिन वे वहाँ रुक कर खुद से पहले अपने जूनियर सहयोगियों को निकालना चाहते थे। उन्हें बुधवार (2 मार्च, 2022) को खारकीव से निकलना था, मगर मंगलवार (1 मार्च, 2022) को जब वे खाना लेने निकले तभी गोलीबारी के शिकार हो गए।

नवीन की मौत के बाद उनके पिता शेखरप्पा ज्ञानगौदर ने देश के एजेकुशन सिस्टम पर सवाल उठाए थे। शेखरप्पा ने कहा था कि टॉपर होने के बावजूद नवीन को सरकारी मेडिकल कॉलेज में सीट नहीं मिल सकी। उन्होंने कहा कि यहाँ शिक्षा महँगी है। करोड़ों रुपए चुकाने पड़ते हैं। भारत में जातिवार सीटें आवंटित की जाती हैं। पीयूसी में 97 फीसदी अंक हासिल करने के बावजूद उनका बेटा राज्य में मेडिकल सीट हासिल नहीं कर सका और उसे पढ़ाई के लिए यूक्रेन जाना पड़ा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभिनेत्री के घर पहुँची महाराष्ट्र पुलिस, लैपटॉप-फोन सहित कई उपकरण जब्त किए: पवार पर फेसबुक पोस्ट, एपिलेप्सी से रही हैं पीड़ित

अभिनेत्री ने फेसबुक पर 'ब्राह्मणों से नफरत' का आरोप लगाते हुए 'नर्क तुम्हारा इंतजार कर रहा है' - ऐसा लिखा था। हो चुकी हैं गिरफ्तार। अब घर की पुलिस ने ली तलाशी।

जिसे पढ़ाया महिला सशक्तिकरण की मिसाल, उस रजिया सुल्ताना ने काशी में विश्वेश्वर मंदिर तोड़ बना दी मस्जिद: लोदी, तुगलक, खिलजी – सबने मचाई...

तुगलक ने आसपास के छोटे-बड़े मंदिरों को भी ध्वस्त कर दिया और रजिया मस्जिद का और विस्तार किया। काशी में सिकंदर लोदी और खिलजी ने भी तबाही मचाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,227FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe