Friday, May 31, 2024
Homeदेश-समाजसीसीटीवी फुटेज में नाश्ता करते दिखे 7 संदिग्ध, एनकाउंटर के डर से कोर्ट पहुँचा...

सीसीटीवी फुटेज में नाश्ता करते दिखे 7 संदिग्ध, एनकाउंटर के डर से कोर्ट पहुँचा लॉरेंस बिश्नोई: ट्रैक्टर पर निकली सिद्धू मूसेवाला की अंतिम यात्रा

याचिका में तिहाड़ जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में पंजाब पुलिस को उसकी कस्टडी नहीं देने का निर्देश देने की माँग की है। लॉरेंस को डर है कि पंजाब पुलिस उसे फर्जी मुठभेड़ में मार सकती है।

फेमस पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला के गाँव मूसेवाला में दुख का माहौल है। सिद्धू मूसेवाला का अंतिम संस्कार गाँव के श्मशान घाट के बजाए उनकी अपनी जमीन पर किया गया। अंतिम संस्कार के लिए पार्थिव शरीर को उसी ट्रैक्टर पर ले जाया जाया गया है जिस पर वो अपने गानों में अक्सर टशन दिखाया करते थे। वहीं फैंस के ऐसे कई वीडियो सामने आए हैं जहाँ लोगों ने बोला कि दो-दो दिनों से उनके घर खाना नहीं बना है।

सिद्धू मूसेवाला की मौत से हर कोई गमजदा है। लोगों में गुस्सा भी है। वहीं यह भी खबर आ रही है कि मूसेवाला के पालतू कुत्तों ने भी दो दिनों से खाना नहीं खाया है। कहा जा रहा है कि मूसेवाला खुद उन्हें सुबह और शाम में खाना खिलाया करते थे। ऐसे में उनके आने की उम्मीद में वो भी भूखे हैं।

जहाँ अंतिम संस्कार से पहले लाखों की भीड़ उन्हें आखिरी विदाई देने सड़कों पर उतर आई है। वहीं उनके पिता का एक वीडियो भी सामने आया है। जहाँ रो-रो कर बेहाल हो चुके पिता, अपने बेटे के शव के पास बैठे हैं और अंतिम समय में अपने बेटे की मूछों को ताव दे रहे हैं।

CCTV फुटेज में नजर आए संदिग्ध

पंजाब के मनसा जिले में 29 मई को दिन दहाड़े सिद्धू मूस वाला की हत्या में उनकी कथित संलिप्तता के लिए कुछ नाम सामने आए हैं। शीर्ष खुफिया सूत्रों हवाले से मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि, ये लोग या तो शामिल थे या उनके पास मूसेवाला को मारने की साजिश के बारे में पता था।

खुफिया सूत्रों के अनुसार हिसार (हरियाणा) का एक भोला, नारनौद (हरियाणा) का सतेंदर काला, सोनू काजल और बिट्टू, अजय गिल, अमित काजला, गोल्डी बराड़, लॉरेंस बिश्नोई, सचिन (पंजाबी गायक मनकीरत औलाक के प्रबंधक) और जग्गू भगवानपुरिया हैं।

पंजाब पुलिस द्वारा मनसा के भीखी रोड स्थित मनसुख ढाबा से जारी सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक, सात संदिग्धों को हत्या से कुछ घंटे पहले 29 मई की सुबह एक साथ नाश्ता करते देखा जा सकता है। इनमें से दो की पहचान कुसा के मनप्रीत सिंह मन्नू और पंजाब के एक छोटे से गाँव जौरा के जगरूप सिंह रूपा के रूप में हुई है।

गोल्डी बरार को छोड़कर ज्यादातर संदिग्ध पंजाब और हरियाणा के हैं, जिन्होंने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए कथित तौर पर इस अपराध की जिम्मेदारी ली थी। बरार ने यह भी कहा कि विक्की मिधुखेड़ा और गुरलाल बराड़ की मौत का बदला लेने के लिए वह और लॉरेंस बिश्नोई समूह ने हत्या की योजना बनाई। यहाँ तक कि सोशल मीडिया पोस्ट में वो जिम्मेदारी लेते भी नजर आए।

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को सता रहा एनकाउंटर का डर

वहीं पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल बताए जा रहे गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को अब मौत का डर सता रहा है। बिश्नोई ने अपनी सुरक्षा पुख्ता करने और उसे दिल्ली की तिहाड़ जेल से बाहर नहीं भेजने को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। हालाँकि, सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई से मना कर दिया था। इसके बाद आज लॉरेंस बिश्नोई के वकील ने दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया है।

याचिका में तिहाड़ जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में पंजाब पुलिस को उसकी कस्टडी नहीं देने का निर्देश देने की माँग की है। लॉरेंस को डर है कि पंजाब पुलिस उसे फर्जी मुठभेड़ में मार सकती है।

गौरतलब है कि पंजाब पुलिस ने रविवार को कहा था कि गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या गिरोहों के बीच आपसी रंजिश का परिणाम है और इसमें लॉरेंस बिश्नोई गिरोह लिप्त है। बता दें कि मूसेवाला की रविवार (29 मई, 2022) को पंजाब के मानसा जिले में अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उससे एक दिन पहले राज्य की भगवंत मान सरकार ने उसकी सुरक्षा कम कर दी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -