Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजकोरोना के संदिग्ध मरीज़ों की सूचना देना बबलू को पड़ा महँगा, पीट-पीटकर गाँव वालों...

कोरोना के संदिग्ध मरीज़ों की सूचना देना बबलू को पड़ा महँगा, पीट-पीटकर गाँव वालों ने कर दी हत्या

कोरोना जाँच से लौट कर जब दोनों घर पहुँचे तो सुरक्षा लिहाज से की गई इस जाँच को अपनी शान में गुस्ताखी समझा। इसके बाद वो शिकायत करने वाले लड़के के घर गए। दोनों ने अपने परिवार वालों के साथ मिलकर युवक को इतना मारा कि...

कोरोना को लेकर लोगों के मन में व्यापक स्तर पर डर बसा हुआ है। लोग खुद को इससे बचाने के लिए हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं। लोगों की कोशिश है कि उन्हें जिन लोगो में इस बीमारी के लक्षण दिखाई दें, वे उससे दूरी बनाएँ और उसकी सूचना फौरन प्रशासन को दें। अब हालाँकि, जागरूकता अभियान के कारण कई जगहों पर लोग इसका अनुसरण कर रहे हैं। लेकिन बिहार के सीतामढ़ी में जागरूक होने के कारण एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। घटना सीतामढ़ी जिले रुन्नीसैदपुर थाना के मधौल गाँव में घटी। यहाँ कोरोना के संदिग्धों की सूचना प्रशासन को देने के कारण एक युवक को मार डाला गया।

न्यूज18 की खबर के अनुसार, आरोपित पक्ष युवक से सिर्फ इसलिए नाराज था क्योंकि उसने उनके कोरोना वायरस से संक्रमित संदिग्ध होने की सूचना मेडिकल हेल्पलाइन नंबर पर दे दी थी। बता दें कि युवक ने महाराष्ट्र से लौटे दो लोगों के कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज होने की सूचना दी थी। जिसके बाद मेडिकल टीम गाँव में पहुँचकर दोनों युवकों को जाँच के लिए ले गए। लेकिन कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं होने पर दोनोंं को रिहा कर दिया गया।

अब घर पहुँचते ही दोनों युवकों ने सुरक्षा लिहाज से की गई इस जाँच को शान में गुस्ताखी समझ लिया और अपने परिवार के सदस्यों के साथ लड़के के घर पर पहुँच गए। दोनों ने परिजनों के साथ मिलकर युवक को खूब मारा और उसे पीट-पीटकर जख्मी कर दिया। 

गंभीर हालत देखकर उसे रुन्नीसैदपुर पीएचसी में भर्ती कराया गया। लेकिन वहाँ भी उसका इलाज संभव नहीं हुआ। जिसके बाद उसे मुजफ्फपुर रेफर कर दिया गया। मुजफ्फरपुर एसकेएमसीएच में ले जाने के दौरान उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान बबलू कुमार के रूप में हुई।

मृतक के घरवालों ने इस मामले में मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाने में पुलिस को अपना बयान दर्ज करवा दिया है। पोस्टमॉर्टम के बाद बबलू का शव उन्हें सौंपा जाएगा। मृतक के भाई गुड्डू के बयान पर पुलिस ने गाँव के ठगा महतो, सुधीर कुमार, विकास महतो, मदन महतो, दीपक कुमार और मुन्ना महतो को अभियुक्त बनाया है। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए दो आरोपितों सुधीर महतो और मुन्ना महतो को गिरफ्तार कर लिया है। अब इन पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,052FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe