Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजअपहृत सपा नेता की धारदार हथियार से हत्या, नक्सलियों ने सड़क पर फेंका शव

अपहृत सपा नेता की धारदार हथियार से हत्या, नक्सलियों ने सड़क पर फेंका शव

छत्तीसगढ़ में बिगड़ती क़ानून व्यवस्था को लेकर सरकार विपक्ष के निशाने पर है। हाल ही में नक्सलियों ने बस्तर से एकमात्र भाजपा विधायक भीमा मंडावी की भी हत्या कर दी थी।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों का आतंक थमता नहीं दिख रहा है। ताज़ा घटना में समाजवादी पार्टी के एक नेता की निर्मम हत्या कर दी गई है। राज्य के बीजापुर में सपा नेता की पहले तो धारदार हथियार से हत्या कर दी गई और फिर शव को सड़क पर फेंक दिया गया। मंगलवार (जून 18, 2019) को नक्सलियों ने उन्हें उनके पैतृक आवास से अपहृत कर लिया था। बीजापुर के एसपी दिव्यांग पटेल ने बताया कि अभी तक इस घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है। ये वारदात इलमिडी थाना क्षेत्र के मरिमल्ला गाँव में हुई है।

मृतक नेता का नाम संतोष पुनेम है और वह पार्टी के विधानसभा प्रत्याशी रह चुके हैं। वह किसी काम से गाँव स्थित अपने पैतृक आवास पहुँचे थे, जहाँ नक्सलियों ने मौक़ा देखते ही उनका अपहरण कर लिया। इसके बाद तमाम तरह के क़यास लगाए जा रहे थे लेकिन उनके बारे में कुछ पता नहीं चल पा रहा था। बुधवार की सुबह उनकी लाश सड़क पर पड़ी मिली। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत लोधेड़-मारिमल्ला में निर्माण कार्य किया जा रहा था, जिस वजह से संतोष नक्सलियों के निशाने पर थे।

वहीं पुलिस ने अभी तक इस बारे में खुल कर कुछ नहीं बताया है, अतः हत्या के और भी कारण हो सकते हैं। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। संतोष कॉन्ट्रेक्टर भी थे। वह गाँव में सड़क निर्माण सम्बन्धी कार्यों का जायजा लेने पहुँचे थे। जहाँ उनकी लाश मिली, वह जगह पुलिस थाने से 16 किलोमीटर दूर जंगल के भीतर है। पुनेम को विधानसभा चुनाव में 999 मत प्राप्त हुए थे। बता दें कि हाल ही में नक्सलियों ने बस्तर से एकमात्र भाजपा विधायक भीमा मंडावी की भी हत्या कर दी थी।

जब पुनेम की लाश मिली, तब आसपास काफ़ी ख़ून बिखरा हुआ था। वह बस्तर में सपा के उपाध्यक्ष भी थे। छत्तीसगढ़ में बिगड़ती क़ानून व्यवस्था को लेकर सरकार विपक्ष के निशाने पर है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,571FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe