Saturday, October 1, 2022
Homeदेश-समाजबिहार में 'सुदर्शन न्यूज़' के पत्रकार का अपहरण, 3 दिन बाद गड्ढे में मिला...

बिहार में ‘सुदर्शन न्यूज़’ के पत्रकार का अपहरण, 3 दिन बाद गड्ढे में मिला शव: मोहम्मद अरशद आलम समेत 13 के खिलाफ FIR

मनीष के पिता RTI कार्यकर्ता के रूप में भी काम करते थे। कई मामलों को उजागर करने के कारण परिवार को पहले भी धमकी मिलती रही है।

तीन दिनों से लापता पत्रकार मनीष कुमार सिंह का शव बरामद होने से परिजनों समेत ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। पत्रकार मनीष का शव बिहार के पूर्वी चंपारण स्थित हरसिद्धि थाना क्षेत्र अंतर्गत मठलोहियार गाँव के गाछी टोला चेवर में एक गड्ढे से बरामद किया गया। मृतक पत्रकार ‘सुदर्शन न्यूज़’ चैनल में अरेराज अनुमंडल संवाददाता के पद पर कार्य करते थे। वहीं मृतक के पिता संजय सिंह अरेराज दर्शन समाचार पत्र के संपादक हैं।

मृतक पहाड़पुर थाना क्षेत्र के कोटवा पंचायत स्थित बथूआहा टोला के वार्ड संख्या 15 के निवासी थे। इस वारदात के संदर्भ में मृतक के पिता संजय कुमार सिंह ने स्थानीय थाना में एक आवेदन देकर पत्रकार के दो साथी अमरेन्द्र कुमार व मोहम्मद अरशद आलम सहित 13 लोगों को नामजद करते हुए बताया कि उनके गाँव में जमीनी विवाद चल रहा था, जिसमें उन्होंने स्थानीय थाना में विगत 25 जुलाई को एक मामला दर्ज कराया था।

मनीष के पिता ने आशंका जताई है कि आरोपितों ने धोखे से उनके बेटे को बुलाया और एक साजिश के तहत अपहरण कर के हत्या कर दी। इस मामले में स्थानीय पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अमरेन्द्र कुमार व मोहम्मद अरसद आलम को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इसकी पुष्टि करते हुए अरेराज डीएसपी संतोष कुमार ने बताया कि उक्त दोनों की गिरफ्तारी सीसीटीवी फुटेज के आधार पर की गई है।

पुलिस ने आश्वासन दिया है कि मामलें की जाँच कर उचित कार्रवाई की जाएगी। स्थानीय मीडियाकर्मियों में इस घटना को लेकर भय का माहौल है और उन्होंने मनीष कुमार सिंह की हत्या पर शोक व्यक्त किया है। जहाँ से मनीष का शव बरामद हुआ, वहाँ बारिश का पानी जमा हुआ था। मनीष के पिता RTI कार्यकर्ता के रूप में भी काम करते थे। कई मामलों को उजागर करने के कारण परिवार को पहले भी धमकी मिलती रही है।

पहाड़पुर थाना क्षेत्र के निवासी पत्रकार मनीष कुमार सिंह किसी पार्टी में शामिल होने के लिए निकले थे, लेकिन उसके बाद से ही उनका फोन स्विच ऑफ आ रहा था। 3 दिन बाद उनका शव बरामद हुआ। पानी में पड़ा रहने के कारण उनके शव की पहचान मुश्किल हो रही थी। उनके पिता ने ये आशंका भी जताई है कि खबरों को उजागर करने या फिर जमीन के विवाद में उनके बेटे की हत्या की गई हो सकती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe