Tuesday, September 21, 2021
Homeदेश-समाजबिहार में 'सुदर्शन न्यूज़' के पत्रकार का अपहरण, 3 दिन बाद गड्ढे में मिला...

बिहार में ‘सुदर्शन न्यूज़’ के पत्रकार का अपहरण, 3 दिन बाद गड्ढे में मिला शव: मोहम्मद अरशद आलम समेत 13 के खिलाफ FIR

मनीष के पिता RTI कार्यकर्ता के रूप में भी काम करते थे। कई मामलों को उजागर करने के कारण परिवार को पहले भी धमकी मिलती रही है।

तीन दिनों से लापता पत्रकार मनीष कुमार सिंह का शव बरामद होने से परिजनों समेत ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। पत्रकार मनीष का शव बिहार के पूर्वी चंपारण स्थित हरसिद्धि थाना क्षेत्र अंतर्गत मठलोहियार गाँव के गाछी टोला चेवर में एक गड्ढे से बरामद किया गया। मृतक पत्रकार ‘सुदर्शन न्यूज़’ चैनल में अरेराज अनुमंडल संवाददाता के पद पर कार्य करते थे। वहीं मृतक के पिता संजय सिंह अरेराज दर्शन समाचार पत्र के संपादक हैं।

मृतक पहाड़पुर थाना क्षेत्र के कोटवा पंचायत स्थित बथूआहा टोला के वार्ड संख्या 15 के निवासी थे। इस वारदात के संदर्भ में मृतक के पिता संजय कुमार सिंह ने स्थानीय थाना में एक आवेदन देकर पत्रकार के दो साथी अमरेन्द्र कुमार व मोहम्मद अरशद आलम सहित 13 लोगों को नामजद करते हुए बताया कि उनके गाँव में जमीनी विवाद चल रहा था, जिसमें उन्होंने स्थानीय थाना में विगत 25 जुलाई को एक मामला दर्ज कराया था।

मनीष के पिता ने आशंका जताई है कि आरोपितों ने धोखे से उनके बेटे को बुलाया और एक साजिश के तहत अपहरण कर के हत्या कर दी। इस मामले में स्थानीय पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अमरेन्द्र कुमार व मोहम्मद अरसद आलम को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इसकी पुष्टि करते हुए अरेराज डीएसपी संतोष कुमार ने बताया कि उक्त दोनों की गिरफ्तारी सीसीटीवी फुटेज के आधार पर की गई है।

पुलिस ने आश्वासन दिया है कि मामलें की जाँच कर उचित कार्रवाई की जाएगी। स्थानीय मीडियाकर्मियों में इस घटना को लेकर भय का माहौल है और उन्होंने मनीष कुमार सिंह की हत्या पर शोक व्यक्त किया है। जहाँ से मनीष का शव बरामद हुआ, वहाँ बारिश का पानी जमा हुआ था। मनीष के पिता RTI कार्यकर्ता के रूप में भी काम करते थे। कई मामलों को उजागर करने के कारण परिवार को पहले भी धमकी मिलती रही है।

पहाड़पुर थाना क्षेत्र के निवासी पत्रकार मनीष कुमार सिंह किसी पार्टी में शामिल होने के लिए निकले थे, लेकिन उसके बाद से ही उनका फोन स्विच ऑफ आ रहा था। 3 दिन बाद उनका शव बरामद हुआ। पानी में पड़ा रहने के कारण उनके शव की पहचान मुश्किल हो रही थी। उनके पिता ने ये आशंका भी जताई है कि खबरों को उजागर करने या फिर जमीन के विवाद में उनके बेटे की हत्या की गई हो सकती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe