Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजपंजाब में हिंदूवादी नेता की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या: कूड़े में मिली थी भगवान...

पंजाब में हिंदूवादी नेता की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या: कूड़े में मिली थी भगवान की मूर्ति, मंदिर के बाहर धरने पर बैठे थे

अमृतसर में मंदिर की मूर्तियों की बेअदबी मामले पर प्रदर्शन कर रहे शिवसेना हिंदुस्तान के नेता सुधीर सूरी को गोली मार दी गई। घटना गोपाल मंदिर के बाहर घटी। गोली सीधे सुधीर की छाती पर लगी जिसके कारण अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

पंजाब के अमृतसर में मंदिर की मूर्तियों की बेअदबी मामले पर प्रदर्शन कर रहे शिवसेना हिंदुस्तान के नेता सुधीर सूरी को गोली मार दी गई। घटना गोपाल मंदिर के बाहर घटी। गोली की आवाज सुनते ही हड़कंप मच गया। कहा जा रहा है कि प्रदर्शनस्थल में जुटी भीड़ में से कोई हमलावर था जिसे पुलिस ने पकड़ लिया है।

गोली लगने के बाद सूरी की हालत नाजुक थी। उनको अस्पताल में भर्ती करवाया गया। डॉक्टरों ने उन्हें संभव इलाज देने का प्रयास भी किया लेकिन इलाज के वक्त सूरी ने दम तोड़ दिया। गोली उनकी छाती में लगी थी।

पुलिस ने गोली मारने वाले संदिग्ध को गिरफ्तार कर लिया है। उसकी पहचान संदीप के तौर पर हुई है। पुलिस को उसके पास से हथियार भी बरामद हुआ है। सूरी काफी समय से खालिस्तानियों के निशाने पर थे। कुछ समय पहले खुलासा भी हुआ था कि विदेश में बैठकर खालिस्तानी उनकी हत्या की साजिश रच रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि सुधीर सूरी कुछ दिन से कूड़े में भगवान की मूर्तियाँ मिलने के बाद गोपाल मंदिर के बाहर धरना दे रहे थे। उनकी माँग थी कि मंदिर के बाहर रखा कूड़ा साफ हो और इस तरह देवी-देवताओं का अपमान न हो। इसी प्रदर्शन के वक्त उन पर गोली चली।

चश्मदीद डॉ अजय शर्मा ने बताया, “दो सरदार बाइक पर आए। उन्होंने गाड़ी खड़ी की। इसके बाद उन्होंने 5-6 गोली मारी। एक उनके माथे पर लगी। 2 छाती पर लगी। 1 कंधे पर लगी। उन लोगों ने सुधीर सूरी को पहले से निशाना बनाया हुआ था। एक को पुलिस ने पकड़ लिया है।”

इससे पहले गुरुवार को भी एक शिवसेना नेता के घर के पास फायरिंग की घटना घटी थी। गुरुवार (3 नवंबर 2022) को टिब्बा रोड स्थित ग्रेवाल कॉलोनी में पंजाब शिवसेना नेता अश्विनी चोपड़ा के घर के पास दो साइकिल सवार लोगों ने फायरिंग की थीं। हमलावर मौके से निकल गए थे। लेकिन उनकी फुटेज घर के बाहर लगे सीसीटीवी में कैद हो गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -