Saturday, June 19, 2021
Home देश-समाज राम मंदिर पर नवंबर तक फैसला संभव, अब सुप्रीम कोर्ट में हफ्ते के पॉंचों...

राम मंदिर पर नवंबर तक फैसला संभव, अब सुप्रीम कोर्ट में हफ्ते के पॉंचों दिन सुनवाई

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पाँच सदस्यीय संविधान पीठ ने राम लला विराजमान के वकील से पूछा, "क्या जन्म स्थान को कानूनी व्यक्ति माना जा सकता है।"

अयोध्या मामले में पिछले तीन दिनों से सुनवाई कर रहे सुप्रीम कोर्ट (SC) ने फैसला लिया है कि संविधान पीठ अब से इस मामले की सप्ताह के पाँचो दिन सुनवाई करेगी। आमतौर पर संविधान पीठ सिर्फ़ तीन (मंगलवार, बुधवार और गुरुवार) दिन मामले की सुनवाई करती है। लेकिन, इस मामले की गंभीरता को देखते हुए कोर्ट ने परंपरा से हटते हुए यह फैसला लिया है। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही कि 17 नवंबर को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के रिटायर होने से पहले इस मामले में फैसला आ सकता है।

इससे पहले चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पाँच सदस्यीय संविधान पीठ ने राम लला विराजमान की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता के. परासरन से जानना चाहा कि इस मामले में एक पक्षकार के रूप में क्या ‘राम जन्मस्थान’ कोई वाद दायर कर सकता है। पीठ ने जानना चाहा, “क्या जन्म स्थान को कानूनी व्यक्ति माना जा सकता है। जहां तक देवताओं का संबंध है तो उन्हें कानूनी व्यक्ति माना गया था।”

पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एसए बोबडे, न्यायमूर्ति धनंजय वाई चन्द्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर शामिल हैं। पीठ के सवाल के जवाब में परासरन ने कहा, “हिन्दू धर्म में किसी स्थान को उपासना के लिए पवित्र स्थल मानने के लिए वहॉं मूर्तियों का होना जरूरी नहीं है। नदी और सूर्य की भी पूजा होती है और जन्म स्थान को भी कानूनी व्यक्ति माना जा सकता है।”

इस दौरान जस्टिस बोबडे ने उत्तराखंड के हालिया फैसले का हवाला दिया उत्तराखंड उच्च न्यायालय के एक फैसले का भी जिक्र किया जिसमे पवित्र गंगा नदी को एक कानूनी व्यक्ति माना गया है जो मुकदमे को आगे बढ़ाने की हकदार है।

उल्लेखनीय है कि इस मामले में कि निर्मोही अखाड़ा की ओर से सुशील जैन ने सुनवाई के दूसरे दिन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पाँच न्यायाधीशों की संविधान पीठ के सामने बड़ी रोचक दलीलें रखी थी। सुनवाई के दूसरे दिन सर्वोच्च न्यायालय ने जब निर्मोही अखाड़ा से अयोध्या में रामजन्मभूमि पर कब्जे के सबूत माँगे तो इस पर हिंदू परिवार ने दावा किया कि उसने 1982 में की एक डकैती में पैसों के साथ उन रिकॉर्डों को खो दिया है। अब उनके पास काेई रिकाॅर्ड नहीं है।

इसके बाद जब मुख्य न्यायाधीश गोगोई ने फिर पूछा कि अगर आपके पास इस मुद्दे से जुड़े कोई दूसरे सबूत हैं तो वे पेश करें। इस पर निर्मोही अखाड़ा की ओर से पेश वरिष्ठ वकील सुशील जैन ने कहा कि राम जन्मभूमि देवताओं की भूमि बन गई है। यह स्थान हिंदुओं के लिए पूजा स्थल बन गया है। इसके साथ ही कहा कि वाल्मीकि रामायण में तीन स्थानों पर उल्लेख है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। 

सुशील कुमार जैन ने सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को बताया कि पूजा और प्रार्थना में बाधा ने उन्हें सिविल सूट दायर करने के लिए मजबूर किया। यह मालिकाना हक नहीं बल्कि कब्जे की लड़ाई है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सांसद और केरल कॉन्ग्रेस प्रमुख सुधाकरण ने मेरे बच्चों के अपहरण की साजिश रची थी’ – केरल के CM विजयन का गंभीर आरोप

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने केरल के ही पीसीसी अध्यक्ष और कॉन्ग्रेस के लोकसभा सांसद सुधाकरण पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने...

कोरोना के टीकों से बढ़ जाती है मर्दों की प्रजनन क्षमता: 26-36 से बढ़ कर 30-44 का आया रिजल्ट

शोध में पाया गया कि फाइजर, मॉडर्ना के टीके पुरुषों की प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करते। दोनों खुराक के बाद शुक्राणुओं का स्तर...

राजस्थान में रायमाता मंदिर की जमीन पर कब्जे को लेकर विवाद: आम रास्ता की बात कह प्रशासन ने 9 को किया गिरफ्तार

मंदिर के महंत दशमगिरी ने आरोप लगाया कि मंडावा विधायक रीटा चौधरी के दबाव में प्रशासन ने यह कार्रवाई की है। पुलिस ने गांगियासर के...

खीर भवानी माता मंदिर: शुभ-अशुभ से पहले बदल जाता है कुंड के जल का रंग, अनुच्छेद-370 पर दिया था खुशहाली का संकेत

हनुमान जी लंका से माता खीर भवानी की प्रतिमा को ले आए और उन्हें जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर से 14 किमी दूर तुलमुल गाँव में स्थापित कर दिया।

‘देश का कानून सर्वोपरि, आपका नियम नहीं’ – शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति ने ट्विटर को सुनाई दो टूक

केंद्र सरकार के नए आईटी नियमों को लेकर सरकार और ट्विटर में जारी तनाव के बीच सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को संसदीय समिति ने...

‘ताबीज के कारण गर्भ में हुई बच्चे की मौत, इसी कारण गुस्से में बुजुर्ग को पीटा’ – UP पुलिस के सामने आरोपित ने कबूला

इस मामले में गाजियाबाद पुलिस ने 4 और आरोपितों को गिरफ्तार किया। इन आरोपितों के नाम हिमांशु, अनस, शावेज और बाबू हैं।

प्रचलित ख़बरें

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

‘…इस्तमाल नहीं करो तो जंग लग जाता है’ – रात बिताने, साथ सोने से मना करने पर फिल्ममेकर ने नीना गुप्ता को कहा था

ऑटोबायोग्राफी में नीना गुप्ता ने उस घटना का जिक्र भी किया है, जब उन्हें होटल के कमरे में बुलाया और रात बिताने के लिए पूछा।

वामपंथी नेता, अभिनेता, पुलिस… कुल 14: साउथ की हिरोइन ने खोल दिए यौन शोषण करने वालों के नाम

मलयालम फिल्मों की एक्ट्रेस रेवती संपत ने एक फेसबुक पोस्ट में 14 लोगों के नाम उजागर कर कहा है कि इन सबने उनका यौन शोषण किया है।

मोटरसाइकल बनवाने गया था रोहित, सलाम-सद्दाम ने क्लच वॉयर से गला घोंट मार डाला: गैराज में दफन कर ऊपर हैंडपंप लगाया

रोहित ने सद्दाम व सलाम को बताया था कि उसके खाते में बड़ी रकम है। इतना सुनकर आरोपित उधार माँगने लगे, रोहित टालता रहा। इससे खफा होकर...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,871FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe