Tuesday, July 5, 2022
Homeदेश-समाजहिंदू हूँ, लेकिन ईसा मसीह की कृपा से यहाँ तक पहुँची: जस्टिस आर भानुमति...

हिंदू हूँ, लेकिन ईसा मसीह की कृपा से यहाँ तक पहुँची: जस्टिस आर भानुमति ने विदाई भाषण में बताई ‘आस्था’

"मैं हिंदू हूँ फिर भी ईसा मसीह की धार्मिक शिक्षा में विश्वास करती हूँ। उनकी कृपा के चलते मेरी पढ़ाई पूरी हुई और मैं जीवन में यहाँ तक पहुँच पाई। न्यायिक सेवा के दौरान मेरे सामने दिक्कतों का पहाड़ था जिनका कोई अर्थ तक नहीं था। लेकिन जिस तरह ईसा मसीह ने मेरी मदद की ऐसा कोई और नहीं कर सका था। शायद कोई इंसान भी नहीं।"

जस्टिस आर भानुमति 19 जुलाई को रिटायर होने वाली हैं। शुक्रवार को विदाई भाषण में उन्होंने जीसस क्राइस्ट में अपनी आस्था का खुलासा किया। उन्होंने कहा, “यद्यपि मैं हिंदू। लेकिन मैं जीसस की धार्मिक शिक्षा पर भरोसा करती हूॅं। उनके आशीर्वाद से ही पढ़ाई पूरी हुई और जीवन में सफल हो पाई।”

लाइव लॉ की रिपोर्ट के मुताबिक़ जस्टिस भानुमति ने कहा कि उन्हें अपने जीवन में काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ा। लेकिन जिस तरह से ईसा मसीह ने उनकी मदद की उस तरह कोई इंसान भी नहीं कर पाता। 

उन्होंने कहा, “मैं हिंदू हूँ फिर भी ईसा मसीह की धार्मिक शिक्षा में विश्वास करती हूँ। उनकी कृपा के चलते मेरी पढ़ाई पूरी हुई और मैं जीवन में यहाँ तक पहुँच पाई। न्यायिक सेवा के दौरान मेरे सामने दिक्कतों का पहाड़ था जिनका कोई अर्थ तक नहीं था। लेकिन जिस तरह ईसा मसीह ने मेरी मदद की ऐसा कोई और नहीं कर सका था। शायद कोई इंसान भी नहीं।”    

जस्टिस भानुमति ने अपनी न्यायिक सेवा की शुरुआत उच्च न्यायिक सेवा, तमिलनाडु से बतौर ज़िला जज की थी। साल 2003 में वह मद्रास उच्च न्यायालय का हिस्सा बनी थीं। साल 2013 में उन्होंने झारखंड उच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश पद सँभाला। इसके ठीक एक साल बाद वह सर्वोच्च न्यायालय की न्यायाधीश बनीं। इसके साथ ही वह देश की सबसे बड़ी अदालत में न्यायाधीश का पद सँभालने वाली 6वीं महिला बनीं। उन्होंने कुल 6 साल तक सर्वोच्च न्यायालय में अपनी सेवाएँ दी।    

उनके विदाई समारोह के दौरान अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने भी कुछ बातें कहीं। उन्होंने इस दिन एक दुखद दिन बताया और उम्मीद जताई कि जस्टिस भानुमति जल्द ही कानून के क्षेत्र में दोबारा सक्रियता दिखाएँगी।   

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज नूपुर शर्मा की गर्दन माँग रहा अजमेर दरगाह का खादिम, कभी देश के सबसे बड़े सेक्स कांड (100+ छात्राओं का रेप) में भी...

आज अजमेर दरगाह का खादिम नूपुर शर्मा का गला काटने को उकसा रहा। कभी 100 से अधिक छात्राओं से रेप में भी खादिम शामिल थे।

‘हम (मुस्लिम) 75%, नियम हो हमारे’: क्या भारत में ही है गढ़वा? रिपोर्ट में दावा- स्कूल की प्रार्थना बदलवाई, बच्चों को हाथ जोड़ने से...

मुस्लिम समुदाय ने प्रिंसिपल को कहा कि क्षेत्र में उनकी आबादी 75% है। इसलिए नियम भी उन्हीं के हिसाब से होंगे। समुदाय के दबाव के चलते स्कूल की प्रार्थना बदल गई है। 

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,565FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe