Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजभारत में पाकिस्तानी कलाकारों को बैन करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, कहा- इतनी...

भारत में पाकिस्तानी कलाकारों को बैन करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, कहा- इतनी छोटी सोच मत रखो

अदालत ने याचिका को ख़ारिज करते हुए कहा कि अपने देश से प्रेम दिखाने के लिए किसी और देश से नफ़रत करना जरूरी नहीं है। सच्चे देशभक्त की पहचान के तौर पर सुप्रीम कोर्ट ने देश के लिए निस्वार्थ समर्पण की भावना होना जरूरी बताया।

सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तानी कलाकारों के भारत में प्रदर्शन पर रोक लगाने की माँग को ले कर दायर याचिका को ख़ारिज कर दिया। सुनवाई के दौरान अदालत ने इसे याचिकाकर्ता की छोटी सोच बताया। मंगलवार (28 नवम्बर, 2023) सुनाए गए इस फैसले के दौरान अदालत ने याचिकाकर्ता से ऐसा न करने के लिए भी कहा। यह याचिका एक स्वघोषित सिनेमा वर्कर फैज़ कुरैशी ने दायर की थी। सुप्रीम कोर्ट से पहले मुंबई हाईकोर्ट से भी फैज़ कुरैशी की यही याचिका ख़ारिज हो चुकी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन लगाने की याचिका की सुनवाई न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और एसवीएन भट्टी की बेंच में हुई। याचिकाकर्ता ने इस याचिका में सूचना और प्रसारण मंत्रालय, विदेश मंत्रालय और गृह मंत्रालय को पक्षकार बनाया था। याचिका में कहा गया था कि संबंधित मंत्रालय पाकिस्तानी कलाकारों को न सिर्फ आने से रोकें बल्कि उनके द्वारा एप्लाई किया जाने वाला वीजा भी निरस्त कर दिया करें। फैज़ कुरैशी ने कहा था कि अगर ऐसा न किया गया तो इससे भारतीय कलाकारों के प्रति भेदभाव की भावना बढ़ेगी।

दोनों देशों की तुलना करते हुए याचिका में यह भी बताया गया था कि जो सुविधा और सहूलियत पाकिस्तानी कलाकारों को भारत में प्रदर्शन के लिए दी जाती है वो पाकिस्तान में भारतीय कलाकारों को नहीं मिलती। साथ ही कहा गया कि अगर पाकिस्तानी खिलाड़ियों को भारत में खेलने की अनुमति दी जाती है तो उसकी आड़ में पाकिस्तान अपने गायक आदि जैसे कई कलाकार भेज कर खेल के आयोजन का दुरूपयोग कर सकते हैं।

सुनवाई के दौरान ही जस्टिस खन्ना ने कहा, “क्षमा करें। ऐसा न कीजिए। ये आपको एक अच्छी सलाह है। छोटी सोच का प्रदर्शन मत कीजिए।” अदालत ने याचिका को ख़ारिज करते हुए कहा कि अपने देश से प्रेम दिखाने के लिए किसी और देश से नफ़रत करना जरूरी नहीं है। सच्चे देशभक्त की पहचान के तौर पर सुप्रीम कोर्ट ने देश के लिए निस्वार्थ समर्पण की भावना होना जरूरी बताया। अदालत ने यह भी कहा कि कला, संगीत, खेल, संस्कृति, नृत्य आदि शांति लाती हैं।

बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट से पहले मुंबई हाईकोर्ट भी फैज़ कुरैशी की यही याचिका खारिज कर चुका है। तब हाईकोर्ट ने याचिका में दम न होना बताते हुए इसे शांति और सद्भाव के खिलाफ बताया था। मुंबई हाईकोर्ट ने अपनी टिप्पणी में यह भी कहा था कि इस प्रकार के प्रतिबंध लगाने से भारतीय नागरिकों द्वारा किए जा रहे व्यापार आदि पर भी गलत असर पड़ेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG में 0.001% की भी लापरवाही हुई तो… : सुप्रीम कोर्ट ने NTA और केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर माँगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर 0.001 प्रतिशत भी किसी की खामी पाई गई तो हम उससे सख्ती से निपटेंगे।

तेजस्वी यादव के बगल में खड़े इस राजा को देखिए, वहीं के व्यवसायी को सुपारी देकर मरवाया जहाँ से माँ थी RJD उम्मीदवार: हत्या...

बिहार के पूर्णिया में 2 जून, 2024 को हुई एक व्यवसायी गोपाल यादुका की हत्या की सुपारी राजद नेता बीमा भारती के बेटे राजा ने दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -