Thursday, September 29, 2022
Homeदेश-समाजसुरेश रैना के परिवार वालों के हत्यारे शाहजान और उसके साथी तालिब को UP...

सुरेश रैना के परिवार वालों के हत्यारे शाहजान और उसके साथी तालिब को UP पुलिस ने पैर में मारी गोली, नहीं पकड़ पाई थी पंजाब पुलिस

UP पुलिस से हुई इस मुठभेड़ के बाद वायरल हो रहे वीडियो में दोनों आरोपित (शहजान और तालिब) पुलिस के आगे हाथ जोड़ते नजर आए।

उत्तर प्रदेश की मुज़फ्फरनगर पुलिस ने क्रिकेटर सुरेश रैना के रिश्तेदारों सहित 3 लोगों की हत्या में शामिल आरोपितों को गिरफ्तार किया है। आरोपित का नाम शहजान है, जिसके साथ उसका साथी तालिब भी गिरफ्तार हुआ है। मुठभेड़ में दोनों आरोपितों के पैर में गोली लगी है।

UP पुलिस से हुई इस मुठभेड़ के बाद वायरल हो रहे वीडियो में दोनों आरोपित (शहजान और तालिब) पुलिस के आगे हाथ जोड़ते नजर आए। घटना 19-20 सितम्बर रात की है।

मीडिया रिपोर्ट्स में मुजफ्फरनगर के SSP विनीत जायसवाल के हवाले से बताया गया है कि मुखबिर ने दोनों आरोपितों के किदवई नगर में होने की सूचना दी थी। सूचना में ये भी बताया गया था कि दोनों किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के मकसद से घूम रहे हैं। पुलिस ने इस सूचना पर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) विंग के साथ मिल कर अभियान चलाया और शहजान और तालिब को घेर लिया।

खुद को घिरा देख कर दोनों बदमाशों ने गय्यूर के ऑफिस के पास पुलिस पर गोलियाँ बरसानी शुरू कर दीं। इसका जवाब पुलिस ने गोली से ही दिया। मुठभेड़ के दौरान दोनों आरोपितों के पैर में गोली लगी और वो घायल हो गए। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तारी के दौरान वायरल हुए वीडियो में दोनों को कराहते सुना जा सकता है। वीडियो में एक आरोपित पुलिस के आगे हाथ भी जोड़ रहा है। दोनों आरोपित छपमार गैंग के सदस्य बताए जा रहे हैं। आरोपितों के पास से अवैध हथियार और एक बाइक भी बरामद हुई है।

गौरतलब है कि 19 अगस्त 2020 को पंजाब के पठानकोट में स्थित गाँव थारयाल में छयमार गैंग ने सुरेश रैना के फूफा अशोक कुमार के घर में डाका डाला था। इस दौरान विरोध करने पर डकैतों ने अशोक कुमार के साथ उनके बेटे कौशल को भी मार डाला था। इसके अलावा एक अन्य मौत भी इस दौरान हुई थी जबकि रैना की बुआ गंभीर रूप से घायल हो गईं थीं।

इस मामले में पंजाब पुलिस ने SIT का गठन किया था और 15 सितम्बर 2020 को 3 संदिग्धों को गिरफ्तार किया था। हालाँकि पंजाब पुलिस शहजान को गिरफ्तार नहीं कर पाई थी, वो फरार चल रहा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्या कंडोम भी देना पड़ेगा मुफ्त’: IAS अफसर की विवादित टिप्पणी पर महिला आयोग ने 7 दिन में जवाब माँगा, बिहार छात्राओं के ‘सैनिटरी...

IAS हरजोत कौर ने कहा था, “बेवकूफी की भी हद होती है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। वोट तुम पैसों के लिए देती हो क्या।”

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe