Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजसुशील ही नहीं, इन 2 खिलाड़ियों ने भी किया खेल को बदनाम: इकबाल ने...

सुशील ही नहीं, इन 2 खिलाड़ियों ने भी किया खेल को बदनाम: इकबाल ने माँ-बीवी को मार डाला, तनवीर ने किया बच्ची का यौन शोषण

पहलवान सुशील का ही यह कोई पहला मामला नहीं है, ​जब किसी अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी ने खेल को बदनाम किया हो। इससे पहले पूर्व भारतीय एथलीट इकबाल सिंह और तनवीर हुसैन ने अपने कुकर्मों से खेल को बदनाम करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।

दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में दो गुटों की लड़ाई में 23 साल के पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के बाद फरार चल रहे ओलंपिक विजेता सुशील कुमार को रविवार (23 मई 2021) को उनके साथी अजय के साथ गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद से खेल जगत और कुश्ती की दुनिया में हड़कंप मच गया है।

सुशील कुमार इकलौते ऐसे भारतीय खिलाड़ी हैं, जिन्होंने दो ओलंपिक मेडल जीते हैं। उनके नाम वर्ल्ड टाइटल है। इसके अलावा वह कॉमनवेल्थ गेम्स में 3 बार गोल्ड मेडल का खिताब भी अपने नाम कर चुके हैं। उन्हें पद्मश्री पुरस्कार, अर्जुन अवॉर्ड, राजीव गाँधी खेल रत्न अवॉर्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है, लेकिन सुशील को शायद इस बात का अंदाजा नहीं होगा कि वह एक दिन अपने ही जूनियर रेसलर की हत्या के मामले में सलाखों के पीछे होंगे। इस कृत्य से उनकी सभी उपलब्ध्यिों पर पानी फिर गया है। साथ ही उनके फैंस भी खासा नाराज हैं।

हालाँकि, यह कोई पहला मामला नहीं है, ​जब किसी अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी ने खेल को बदनाम किया हो। इससे पहले पूर्व भारतीय एथलीट इकबाल सिंह और तनवीर हुसैन ने अपने कुकर्मों से खेल को बदनाम करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।

मालूम हो कि अगस्त 2020 में पूर्व शॉट पुटर एथलीट इकबाल सिंह को पत्नी और माँ की हत्या के आरोप में अमेरिका में गिरफ्तार किया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पेनसिलवेनिया के डेलवारे काउंटी के रहने वाले इकबाल सिंह (62 वर्षीय) ने पुलिस को फोन कर बताया कि उसने अपनी माँ और पत्नी की हत्या कर दी है।

रिपोर्ट में कहा गया था कि पुलिस जब न्यूटाउन टाउनशिप (Newtown Square, Pennsylvania) में इकबाल के आवास पर पहुँची तो उन्होंने देखा कि वह खून से लथपथ था। उसने खुद को भी चोट पहुँचाई हुई थी और उसके घर के अंदर दो महिलाओं के शव पड़े थे। इनमें से एक उसकी पत्नी थी और दूसरी माँ थी।

पंजाब के होशियारपुर के रहने वाले इकबाल ने 1983 में कुवैत में हुए एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में शॉट पुट में भारत के लिए ब्रॉन्ज मेडल जीता था। यह उसके करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि थी। इसके बाद वह अमेरिका जाकर बस गए थे, जहाँ वह टैक्सी कैब ड्राइवर के रूप में काम करते थे।

गौरतलब है कि 80 के दशक में इकबाल भारत के शीर्ष शॉट पुट खिलाड़ियों में शामिल थे। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रद्रर्शन 18.77 मीटर था, जो उन्होंने 1988 में नई दिल्ली में हुई परमिट मीट में हासिल किया था। यहाँ उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था। इसके अलावा भारत के ऑल टाइम लिस्ट में सिंह ने टॉप-20 में जगह बनाई थी।

इसके अलावा भारत के स्नोशू एथलीट (snowshoe athlete) तनवीर हुसैन को साल 2017 में अमेरिका में 12 साल की लड़की का यौन शोषण करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। हुसैन पर आरोप था कि उसने एक नाबालिग बच्ची को जबरन किस किया था। उस समय 24 साल के तनवीर को न्यूयॉर्क की सारानैक जेल में रखा गया है, जहाँ वो 2017 में होने वाले स्नोशू चैंपियनशिप में हिस्सा लेने वाले थे।

द एडीरोनडैक डेली इंटरप्राइजेज अखबार के मुताबिक, सारांक लेक विलेज पुलिस ने हुसैन को एक मार्च को गिरफ्तार किया था। इससे 2 दिन पहले ही उसने डिवे माउंटेन रिक्रिएशन सेंटर में विश्व स्नोशू चैम्पियनशिप में हिस्सा लिया था। पुलिस का कहना था, ”हुसैन पर 12 साल की बच्ची के साथ शरीरिक संबंध बनाने की कोशिश करने के आरोप हैं। लड़की ने पुलिस को बताया कि 27 फरवरी की रात को हुसैन ने उसे पकड़ा और गलत तरीके से छुआ।” वहीं, हुसैन ने इन आरोपों का खंडन करते हुए भारत लौटने के लिए समझौता करने से भी इनकार कर दिया था।

बताया जाता है कि 25 फरवरी 2017 से शुरू हुई विश्व स्नोशू चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने के लिए हुसैन ने वीजा माँगा था, लेकिन नई दिल्ली में अमेरिकी दूतावास ने उसे वीजा देने से इनकार दिया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

पश्चिम बंगाल में दुर्गा विसर्जन से लौट रहे श्रद्धालुओं पर बम से हमला, कई घायल, पुलिस ने कहा – ‘हमलावरों की अभी तक पहचान...

हमलावर मौके से फरार हो गए। सूचना पाकर पहुँची पुलिस ने लोगों की भीड़ को हटाकर मामला शांत किया और घायलों को अस्पताल भेजा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe