Tuesday, April 20, 2021
Home देश-समाज इन बातों से नाराज था न्यूज़ीलैंड हमले का आरोपित, लम्बे समय से बना रहा...

इन बातों से नाराज था न्यूज़ीलैंड हमले का आरोपित, लम्बे समय से बना रहा था योजना

कानून हाथ में लेकर निर्दोष व्यक्तियों की हत्या करना एक सभ्य समाज में कभी भी किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। इसलिए बदले की भावना से भरे इस भटके हुए हमलावर की जितनी कड़ी से कड़ी निंदा की जाए कम है।

शुक्रवार (15 मार्च, 2019) को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर के 2 प्रार्थना स्थलों में एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध गोलीबारी कर करीब 49 लोगों की हत्या कर दी। इस घटना से सारी दुनिया को गहरा दुःख पहुँचा है, जो स्वभाविक है। इस मामले की जाँच पड़ताल से पता चलता है कि बंदूकधारी ने यह हमला किसी उग्रवादी संगठन के बहकावे में आकर, जल्दबाजी में या मानसिक रोग की वजह से नहीं किया है।

ये बात जानकार हैरानी होती है कि ब्रेनटेन टैरेंट नाम के इस आरोपित ने अपना एक 74 पेज का घोषणापत्र जारी किया था, जिसमें उसने अपनी सोच, उद्देश्य व हमले के कारण लिखे थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वह करीब 2 साल से हमले की तैयारी कर रहा था। हमले वाले स्थलों को उसने 3 महीने पहले ही चुन लिया था, और 24 घंटे पहले ही सोशल मीडिया के माध्यम से धमकी भी दी थी।

हमले के वक्त आरोपित ब्रेनटेन टैरेंट ने लगातार 17 मिनट तक वीडियो का लाइव टेलीकास्ट भी किया। हमले के पीछे उसने कई कारणों को जिम्मेदार बताया है। यह कारण जानना इसलिए भी जरूरी है, ताकि वैश्विक शांति के लिए दहशतगर्दी की जड़ को पहचानकर और समझकर, उसका समाधान किया जा सके, जिससे कि भविष्य में ऐसे किसी नृशंस कार्य व हिंसा द्वारा मानवता को शर्मसार करने वाली अप्रिय घटना से बचा जा सके। हालाँकि, यह एक दिवास्वप्न मात्र है।

  1. हमलावर ने अपने घोषणापत्र में सबसे पहले बेतहाशा बढ़ रहे शरणार्थियों का विरोध किया है, वह कहता है, “मुस्लिम शरणार्थी हमारी भूमि पर अतिक्रमण कर रहे हैं। यह भूमि श्वेतों की है।” हमलावर ने चिंता जताई है कि शरणार्थी अधिक प्रजनन करके पश्चिमी देशों की धार्मिक जनसांख्यिकी को बुरी तरह प्रभावित कर रहे हैं। वह शरणार्थियों पर पश्चिम देशों की संस्कृति व शांति भंग करने का आरोप लगाता है।
  2. हमलावर पूरे इतिहास में यूरोपीय भूमि में विदेशी आक्रमणकारियों के कारण हुई हजारों मौतों का बदला लेने की बात कहता है। साथ ही इस्लामिक आक्रान्ताओं पर यूरोप के लाखों लोगों को गुलाम/दास बनाने का भी आरोप लगाता है।
  3. आरोपित ब्रेनटेन टैरेंट यूरोप में हुए जिहादी हमलों में हुई मौतों का जिक्र करता है। गौरतलब है कि शरणार्थियों को शरण देने के बाद से यूरोप में आतंकी घटनाओं में अत्यधिक वृद्धि दर्ज की गई है, जिसमें 2017 का स्टॉकहोम हमला भी शामिल है।
  4. वह ‘एब्बा एकरलैंड’ नाम की एक 12 साल की मूक-बधिर बच्ची जिसकी अप्रैल 2017 के स्टॉकहोम
    आतंकी हमले में मृत्यु हो गई थी, की बात करता है। गौरतलब है कि स्टॉकहोम हमला रख्मत नाम के
    एक शरणार्थी ने इस्लामिक स्टेट आतंकी संगठन के समर्थन में किया था।
  5. वह ऐसे राजनेताओं को खुद के देश के लोगों का शत्रु बताता है जो शरणार्थी समर्थक हैं, इसलिए वो उन्हें भी आतंकी संगठनों के खिलाफ कड़े कदम उठाने के लिए संदेश देने की बात करता है। वह कहता है कि शून्यवाद, सुखवाद, व्यक्तिवाद व स्वार्थ ने पश्चिमी विचारों पर नियंत्रण कर लिया है, वह इसे नष्ट करना चाहता है।
  6. हमलावर इस कृत्य द्वारा नाटो (NATO ) के सदस्य राष्ट्रों, यूरोप के देशों व तुर्की के बीच दरार डालना चाहता था, जिससे नाटो से तुर्की को निकाल दिया जाए और वह फिर से एकजुट होकर यूरोपीय सेना में बदल जाए। दरअसल नाटो (नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गनाइजेशन) एक अंतर्राष्ट्रीय राज्यसंघ है, जिसमें कुल 29 देश हैं। इनमें 2 देश संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के, 26 देश यूरोप के हैं व एक देश तुर्की है। संधि की अनुसार, इसमें से किसी भी देश पर हमला सभी देशों पर हमला माना जाता है। इनमें से तुर्की एकमात्र इस्लामिक देश है, जिस पर नाटो संधियों के उल्लंघन के आरोप लगते रहे हैं। जैसे वर्ष 2003 में ईराक में आतंकवाद के खिलाफ सेना भेजने से इंकार करना आदि। ऐसे कारणों व सीरिया समस्या के बाद से पश्चिमी देशों में तुर्की को इस्लामिक पक्षपाती देश के रूप में देखा जाने लगा है।
  7. इसके अलावा हमलावर ने ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, फिनलैंड, जर्मनी व अन्य पश्चिमी देशों में अप्रवासी, शरणार्थियों आदि द्वारा किए गए महिलाओं के बलात्कार व बाल यौनशोषण के करीब 20 लिंक देते हुए बदला लेने की बात कही है।

हमलावर ने अपना एक चिन्ह भी जारी किया है, जिसमें उसने 8 उद्देश्य रखे हैं

  1. पृथ्वी के पर्यावरण की रक्षा
  2. जिम्मेदार मार्केट
  3. व्यसन मुक्त समाज
  4. कानून एवं व्यवस्था
  5. जातीय स्वराज्य
  6. संस्कृति और परंपरा की रक्षा
  7. कामगारों के अधिकार
  8. साम्राज्यवाद का विरोध

इसके अतिरिक्त भी हमलावर ने कई बातें कहीं हैं, जो उग्र, संगीन, हिंसा समर्थक व विवादित होने के कारण प्रकाशित नहीं किए जा सकते हैं। इस हमले से आज सारा विश्व दुखी महसूस कर रहा है। कानून हाथ में लेकर निर्दोष व्यक्तियों की हत्या करना एक सभ्य समाज में कभी भी किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता। इसलिए बदले की भावना से भरे इस भटके हुए हमलावर की जितनी कड़ी से कड़ी निंदा की जाए कम है। इस समय हमें वैश्विक शांति के लिए एक समाज, एक शांतिप्रिय विश्व के रूप में एकजुट होना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से लड़ाई में मजबूत कदम बढ़ाती मोदी सरकार: फर्जी प्रश्नों के सहारे फिर बेपटरी करने निकली गिद्धों की पाँत

गिद्धों की पाँत फिर से वैसे ही बैठ गई है। फिर से हेडलाइन के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह के सहारे वक्तव्य दिए जा रहे हैं। फिर से श्मशान घाट की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही हैं। नेताओं द्वारा फ़र्ज़ी प्रश्न उठाए जा रहे हैं। शायद फिर उसी आकाँक्षा के साथ कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई हार जाएगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने पूर्व CM के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, शिवसेना नेता कहा- ‘फडणवीस के मुँह में डाल देता कोरोना’

शिवसेना के विधायक संजय गायकवाड़ ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उन्हें कहीं कोरोना वायरस मिल जाता, तो वह उसे भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के मुँह में डाल देते।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 26 अप्रैल तक 5 शहरों में लगाए कड़े प्रतिबन्ध, योगी सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन से किया इनकार

योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहरों में लॉकडाउन लगाने से इंकार कर दिया है। यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में कई कदम उठाए गए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जाएँगे। गरीबों की आजीविका को भी बचाने के लिए काम किया जा रहा है।

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

‘कुम्भ में जाकर कोरोना+ हो गए CM योगी, CMO की अनुमति के बिना कोविड मरीजों को बेड नहीं’: प्रियंका व अलका के दावों का...

कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने CMO की अनुमति के बिना मरीजों को अस्पताल में बेड्स नहीं मिल रहे हैं, अलका लाम्बा ने सीएम योगी आदित्यनाथ के कोरोना पॉजिटिव होने और कुम्भ को साथ में जोड़ा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,231FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe