Wednesday, July 6, 2022
Homeबड़ी ख़बरन्यूज़ीलैंड की 2 मस्जिद में फायरिंग, बांग्लादेश क्रिकेट टीम बाल-बाल बची

न्यूज़ीलैंड की 2 मस्जिद में फायरिंग, बांग्लादेश क्रिकेट टीम बाल-बाल बची

ताजा खबर के अनुसार एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया जा चुका है। हालाँकि इस घटना में कितने लोग हतातहत हुए उसकी कोई जानकारी स्पष्ट नहीं है।

भारतीय समयानुसार शुक्रवार (15 मार्च) की सुबह न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर के अल नूर मस्जिद में गोलीबारी का मामला सामने आया है, जिसमें कई लोगों के हताहत होने की खबर है। इस घटना के बारे में न्यूज़ीलैंड पुलिस ने अपने बयान में कहा, ”क्राइस्टचर्च में गंभीर स्थिति पैदा हो गई है। यहां एक शूटर मौजूद है। पुलिस इससे निपटने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है, लेकिन अभी भी खतरे का माहौल है।”

शहर के सभी स्कूलों को बंद करवा दिया गया है। पुलिस ने क्राइस्टचर्च में सभी को भीड़भाड़ वाले इलाके से बचने की सलाह दी है। किसी भी तरह की संदिग्ध गतिविधि के बारे में तुरंत सूचित करने को कहा है और साथ ही लोगों से घर के अंदर रहने का आग्रह किया है।

बताया जा रहा है कि गोलीबारी की घटना के दौरान एक मस्जिद में बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी भी मौजूूद थे। बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी तमीम इकबाल ने ट्वीट कर कहा, ”गोलीबारी में पूरी टीम बाल-बाल बच गई। बेहद डरावना अनुभव था।”

घटने का प्रत्यक्षदर्शी लेन पनेहा ने बताया कि उसने काले कपड़े पहने एक शख्स को मस्जिद अल नूर में आते देखा और इसके बाद दर्जनों गोलियों की आवाजें सुनाई दीं। गोलीबारी होते ही मस्जिद में अफरातफरी मच गई, लोग इधर-उधर भागने लगे। उसने बताया कि गोलीबारी के बाद शख्स वहाँ से भाग निकला। लेन ने आगे बताया कि गोलीबारी होने के बाद वह मस्जिद में लोगों की मदद करने के लिए अंदर भी गया लेकिन वहाँ पर उसे हर तरफ लाशें और खून ही खून ही दिखाई दिया।

ताजा खबर के अनुसार एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया जा चुका है। हालाँकि इस घटना में कितने लोग हतातहत हुए उसकी कोई जानकारी स्पष्ट नहीं है। न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री ने कहा कि यह देश के इतिहास का सबसे काला दिन है। अमेरिका समेत कई देशों ने इस घटना की निंदा की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe