Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजतमिलनाडु: हिंदू महासभा नेता की घर के बाहर निर्मम हत्या, सुरक्षा देने की माँग...

तमिलनाडु: हिंदू महासभा नेता की घर के बाहर निर्मम हत्या, सुरक्षा देने की माँग पुलिस ने ठुकरा दी थी

सितंबर में रंगनाथन नाम के एक दलित भाजपा नेता को कृष्णागिरि के केलमंगलम में उनके घर के बाहर बेरहमी से काट दिया गया था। रंगनाथन AIADMK छोड़ने के बाद बीजेपी में शामिल हुए थे और उन्हें कुंडुमारनप्पल्ली गाँव के बीजेपी यूथ विंग अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था।

तमिलनाडु हिंदू महासभा के राज्य सचिव नागराज की रविवार (नवंबर 22, 2020) को होसुर के आनंद नगर में उनके आवास के पास हत्या कर दी गई। रिपोर्टों के अनुसार, सुबह 8 बजे उनके आवास के पास एक अज्ञात गिरोह द्वारा उन्हें काट दिया गया। बताया जा रहा है कि अज्ञात बदमाशों ने पहले उन्हें घर से बाहर आने के लिए कहा और फिर बाहर आने पर बेरहमी से उनकी हत्या कर दी।

वहीं कुछ अन्य रिपोर्टों में बताया गया है कि नागराज सुबह सैर पर निकले थे। इसी दौरान बदमाशों ने उनके सामने अपनी कार रोक दी और फिर उनके साथ मारपीट करने लगे। जब पीड़ित नागराज ने भागने की कोशिश की, तो आरोपितों ने पीछा किया और सार्वजनिक जगह पर ही उनकी हत्या कर दी। इसके बाद आरोपित वहाँ से भागने में सफल रहे। आरोपितों ने नागराज के सिर और पर पेट पर वार किया था, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

हिंदू महासभा नेता ने पुलिस सुरक्षा माँगी थी

घटना की जानकारी मिलने पर, कृष्णागिरी पुलिस घटनास्थल पर पहुँची और मामले की जाँच शुरू कर दी। नागराज के शव को पोस्टमार्टम के लिए कृष्णागिरी सरकारी अस्पताल भेज दिया गया। कथित तौर पर नागराज ने हत्या से कुछ महीने पहले पुलिस से सुरक्षा की माँग की थी, लेकिन पुलिस ने तब उन्हें सुरक्षा प्रदान करने से इनकार कर दिया था। नागराज के परिवार में पत्नी, बेटा और तीन बेटियाँ हैं।

हत्या के बारे में बात करते हुए पुलिस अधीक्षक (एसपी) बंदी गंगाधर ने दावा किया कि शुरुआती रिपोर्ट में भीषण घटना के पीछे व्यक्तिगत दुश्मनी की बात सामने आ रही है। उन्होंने कहा कि नागराज के हत्यारों को पकड़ने के लिए 6 टीमों का गठन किया गया है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “हमें संदेह है कि नागराज की रियल एस्टेट और मनी-लेंडिंग बिजनेस में प्रतिद्वंद्विता थी।” पुलिस ने सांप्रदायिक या राजनीतिक एंगल को दरकरिनार करते हुए कहा कि अपराध करने वाले 3-5 लोगों के गिरोह पर संदेह है।

सितंबर में कृष्णगिरी में दलित भाजपा नेता की हत्या कर दी गई थी

गौरतलब है कि सितंबर में रंगनाथन नाम के एक दलित भाजपा नेता को कृष्णागिरि के केलमंगलम में उनके घर के बाहर बेरहमी से काट दिया गया था, जब वह अपने बेटे का जन्मदिन मना रहे थे। रंगनाथन AIADMK छोड़ने के बाद बीजेपी में शामिल हो गए थे और उन्हें कुंडुमारनप्पल्ली गाँव के बीजेपी यूथ विंग अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe