Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजरातों-रात अवैध मस्जिद बनाने का प्रयास: निर्माण रोकने पर मचा बवाल, पुलिस बल तैनात

रातों-रात अवैध मस्जिद बनाने का प्रयास: निर्माण रोकने पर मचा बवाल, पुलिस बल तैनात

कुछ महीने पहले एक मदरसे के अंदर कुछ लोगों ने नमाज़ अता करना शुरू कर दिया था। बाद में उसी मदरसे में मस्जिद के निर्माण का काम भी शुरू हो गया। इसके आसपास रहने वाले लोगों ने इस अवैध मस्जिद के निर्माण पर आपत्ति जताई तो.....

उत्तर प्रदेश के संभल ज़िले में कथित तौर पर अवैध मस्जिद निर्माण को रोकने पर इलाक़े में भारी तनाव की स्थित पैदा हो गई है। किसी हिंसात्मक गतिविधि को अंजाम न दिया जा सके, इसके लिए पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। दरअसल, सरैतारीन इलाक़े में बुधवार (13 नवंबर) की रात को मस्जिद निर्माण का काम उस वक़्त रोकना पड़ा, जब कुछ लोगों ने इस पर आपत्ति जताई। 

ख़बर के अनुसार, इमारत की छत का काम पहले ही पूरा कर लिया गया था। लेकिन, पुलिस ने इस इमारत में नमाज़ अता करने से लोगों को रोकने के लिए पूरे परिसर की घेराबंदी कर दी। 

इस मामले पर ज़िला मैजिस्ट्रेट अविनाश कृष्ण सिंह ने जानकारी देते हुए बताया इलाक़े में किसी भी तरह की तनावपूर्ण स्थिति से निपटने के लिए पुलिस की टीम को तैनात कर दिया गया है। ख़बरों के मुताबिक़, सरैतारीन में कुछ महीने पहले एक मदरसे के अंदर कुछ लोगों ने नमाज़ अता करना शुरू कर दिया था। बाद में उसी मदरसे में मस्जिद के निर्माण का काम भी शुरू हो गया। इसके आसपास रहने वाले लोगों ने इस अवैध मस्जिद के निर्माण पर आपत्ति जताई।

पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मस्जिद के निर्माण का काम रोका गया। इसके लिए उप-विभागीय मजिस्ट्रेट ने आदेश जारी किया था कि आगे से कोई भी निर्माण कार्य नहीं हो सकता। मजिस्ट्रेट के आदेश के बावजूद वहाँ बुधवार को मस्जिद के निर्माण का काम फिर से शुरू हो गया। आसपास के लोगों ने इसकी सूचना जब पुलिस को दी तो हयात नगर पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस अफ़सर (SHO) रवीन्द्र कुमार मौक़े पर पहुँचे और परिसर में ताला लगा दिया।

इसके बाद आसपास को कुछ लोग (मुस्लिम) पास की मस्जिद में गए और वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान किया कि पुलिस ने उन्हें नमाज़ अता नहीं करने दी और नई मस्जिद से पवित्र पुस्तकों को बाहर फेंक दिया। तनावपूर्ण स्थिति को गंभीरता से लेते हुए कुछ वरिष्ठ अधिकारी और ज़िला पुलिस के आला अधिकारी घटना-स्थल पर तुरंत पहुँचे। 

आपसी विवाद की स्थिति को भाँपते हुए घटना-स्थल पर रैपिड एक्शन फ़ोर्स को तैनात कर दिया गया। इसके अलावा, वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले पर अधिक जानकारी जुटाने के लिए वहाँ मौजूद लोगों से भी पूछताछ की। फ़िलहाल, स्थिति नियंत्रण में बताई जा रही है और मस्जिद के निर्माण कार्य को पूरी तरह से रोक दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोगों में डर पैदा करने के लिए RSS कार्यकर्ता से लेकर हिंदू नेता तक हत्या: मर्डर से पहले PFI-SDPI के लोग रचते थे साजिश,...

देश के लोगों द्वारा लंबे समय से जिस चीज की माँग की जा रही थी, अंतत: केंद्र की मोदी सरकार ने PFI पर प्रतिबंध लगाकर उसे पूरा कर दिया।

‘मन की अयोध्या तब तक सूनी, जब तक राम न आए’: PM मोदी ने याद किया लता दीदी का भजन, अयोध्या के भव्य ‘लता...

पीएम मोदी ने बताया कि जब अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन संपन्न हुआ था, तो उनके पास लता दीदी का फोन आया था, वो काफी खुश थीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe