Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजमंसूरी समुदाय की कब्रिस्तान पर भू-माफियों का कब्जा: बढ़ा तनाव, यथास्थिति बनाए रखने का...

मंसूरी समुदाय की कब्रिस्तान पर भू-माफियों का कब्जा: बढ़ा तनाव, यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश

करारी नगर पंचायत के नया पुरवा, तुरतीपुर, रहीमपर मोलानी गाँव में मंसूरी समुदाय के लोग काफी समय से रहते हैं। इस पूरी घटना की जानकारी मिलते ही एसडीएम राजेश चंद्र ने इस मामले पर अग्रिम आदेश तक यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया।

उत्तरप्रदेश के कौशांबी में भू-माफियों द्वारा एक कब्रिस्तान पर किए कब्जे के कारण उपजे तनाव की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि नगर पंचायत के अंसारगंज मोहल्ले में स्थित ईदगाह के समीप मंसूरी समुदाय के पूर्वजों का कब्रिस्तान है। जिसपर भू-माफियों द्वारा कुछ समय पहले कब्जा किया गया था और अब उसपर निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। पूर्वजों के कब्रिस्तान पर जबरन कब्जा देखकर मंसूरी समुदाय के लोगों में तनाव फैल गया। इसलिए एसडीएम ने यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिए।

उल्लेखनीय है कि करारी नगर पंचायत के नया पुरवा, तुरतीपुर, रहीमपर मोलानी गाँव में मंसूरी समुदाय के लोग काफी समय से रहते हैं।

इनका दावा है कि उनके समुदाय के पूर्वजों का सैंकड़ो वर्ष पुराना कब्रिस्तान अंसारगंज में स्थित है। जिसका उल्लेख राजस्व अभिलेखों में भी है। लेकिन कुछ समय पहले कस्बे के लोगों ने इसपर कब्जा कर लिया था और 2 दिन पहले इसपर निर्माण कार्य शुरू कर दिया।

इस संबंध में मंसूरी समुदाय के आशिक अली मंसूरी, हसन अली मंसूरी, रफीक अहमद मंसूरी, मुस्ताक अहमद मंसूरी, हासिम अली, अहमद अली ने उच्च अधिकारियों को शिकायत पत्र भी दिया। उन्होने उक्त बातों के अलावा अपने पत्र में बताया कि उनके समुदाय के कब्रिस्तान पर धनबल और बाहुबल के जरिए भू-माफिए कब्जा कर रहे हैं। जिससे इलाके में तनाव है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार इस पूरी घटना की जानकारी मिलते ही एसडीएम राजेश चंद्र ने इस मामले पर अग्रिम आदेश तक यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -