Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजबहन पर तेजाब डालने वाले इरफ़ान, रिज़वान और इमरान गिरफ्तार, गैर-मुस्लिम संग प्रेम का...

बहन पर तेजाब डालने वाले इरफ़ान, रिज़वान और इमरान गिरफ्तार, गैर-मुस्लिम संग प्रेम का मामला

सलमा को उसके भाई इरफ़ान और रिज़वान नोएडा घुमाने के बहाने लाए। इसके बाद कोट नहर के सामने भाइयों ने सलमा का गला दबाया, उसके मुँह पर तेजाब डाला और फिर उसे मरने के लिए छोड़कर...

दादरी पुलिस ने रविवार (जून 3, 2019) की रात उन तीनों भाइयों को गिरफ्तार कर लिया है, जिन्होंने कुछ दिन पहले अपनी छोटी बहन पर तेजाब डालकर उसे मारने की कोशिश की थी। अभियुक्तों का नाम इरफान, रिजवान और इमरान है। तीनों बुलंदशहर के रहने वाले हैं। ये आरोपित अलग-अलग फैक्टरियों और कंस्ट्रक्शन स्थल पर बतौर मजदूर काम कर रहे थे।

पुलिस अधिकारी नीरज मलिक के मुताबिक 5 मई को इन तीनों भाइयों ने अपनी बहन को मारने के लिए प्लान बनाया। खबरों के अनुसार पहले गुलावठी की रामनगर निवासी सलमा को उसके भाई इरफ़ान और रिज़वान नोएडा घुमाने के बहाने लाए। इसके बाद कोट नहर के सामने भाइयों ने सलमा का गला दबाया, उसके मुँह पर तेजाब डाला और फिर उसे मृत समझकर चले गए।

दादरी कोतवाली क्षेत्र के  कोट नहर के पास सलमा को झुलसी हालत में देख उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहाँ उसकी हालत गंभीर थी। सलमा के चेहरे और गले पर ज्यादा घाव बताए गए। अस्पताल पहुँचने के बाद सलमा का बयान लिया गया। दादरी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और फरार आरोपितों पर 25,000 के इनाम की घोषणा की। रविवार रात पुलिस को इन तीनों भाइयों को दादरी रेलवे क्रॉसिंग के पास देखे जाने की खबर मिली। पुलिस ने वहाँ छापेमारी की और इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अधिकारी नीरज मलिक ने बताया कि पूछताछ के दौरान तीनों ने अपने गुनाह को मान लिया है। आरोपितों ने बताया है कि उनकी बहन एक शादीशुदा व्यक्ति के साथ संबंध में थी। परिवार इस रिश्ते के ख़िलाफ़ था। सलमा को कई बार उस आदमी से दूर रहने के लिए कहा गया लेकिन वह नहीं मानी। 5 मई को जब वह लोग अलीगढ़ से किसी रिश्तेदार के घर से लौट रहे तो इरफान, रिजवान ने सलमा को स्कूटर से घर छोड़ने की बात कही। लेकिन घर ले जाने के रास्ते में ही दोनों ने उसका गला दबाया और उस पर तेजाब से हमला किया। इसके बाद उन्होंने उसे लुहारली ब्रिज से नीचे फेंक दिया, ये सोचकर कि वो मर गई है।

पुलिस का कहना है कि इरफान और रिजवान को अपराध करने के लिए गिरफ्तार किया गया है जबकि इमरान पर साजिश रचने का मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने आरोपितों के ख़िलाफ़ धारा 307 (हत्या की कोशिश), 326(A) (तेजाब फेंकने के लिए दंड), और 120 B (साजिश रचना) के तहत मामला दर्ज किया है। तीनों को पहले कोर्ट में पेश किया गया और फिर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

पीड़िता अब भी अस्पताल में भर्ती है। 22 वर्षीय सलमा का चेहरा इस घटना के बाद बुरी तरह झुलस गया था और उसकी आँखें तेज़ाब की वजह से जल गई थी। अभी उसके कंधे और गले पर जलने के काफ़ी घाव हैं। पुलिस ने बताया है कि सलमा को एक महीने अभी अस्पताल में और रखा जाएगा। उसके घरवालों ने उसके साथ रहने से मना कर दिया है। इसलिए लड़की की सुरक्षा में एक महिला कॉन्स्टेबल को उसकी देख-रेख के लिए तैनात किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe