Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजBeaches Of India... समुद्री तटों का आनंद लेना चाहते हैं तो ये कंपनी दे...

Beaches Of India… समुद्री तटों का आनंद लेना चाहते हैं तो ये कंपनी दे रही भारी डिस्काउंट, लक्षद्वीप यात्रा के लिए भी ऑफर

सोशल मीडिया से निकली बहस ने मालदीव के तीन मंत्रियों की कुर्सी छीन ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लक्षद्वीप की यात्रा के बाद शुरू हुए विवाद ने मालदीव के पर्यटन को काफी नुकसान पहुँचाया है। वहीं, भारत का लक्षद्वीप एकाएक लोगों की नजर में आ गया है। बुकिंग करने वाली कंपनी 'मेक माय ट्रिप' ने बताया है कि लक्षद्वीप के बारे में लोग खूब सारी इन्क्वॉयरी कर रहे हैं।

सोशल मीडिया से निकली बहस ने मालदीव के तीन मंत्रियों की कुर्सी छीन ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लक्षद्वीप की यात्रा के बाद शुरू हुए विवाद ने मालदीव के पर्यटन को काफी नुकसान पहुँचाया है। वहीं, भारत का लक्षद्वीप एकाएक लोगों की नजर में आ गया है। बुकिंग करने वाली कंपनी ‘मेक माय ट्रिप’ ने बताया है कि लक्षद्वीप के बारे में लोग खूब सारी इन्क्वॉयरी कर रहे हैं। सिर्फ लक्षद्वीप ही नहीं, भारत के अन्य बीच वाले ठिकानों के बारे में भी लोग जानना चाह रहे हैं।

सोशल मीडिया पर #BoycottMaldives ट्रेंड के बीच लोग बीच (Beach) वाले भारतीय शहरों के बारे में सर्च कर रहे हैं। कंपनी के अनुसार, लक्षद्वीप के लिए उसके प्लेटफॉर्म पर हुए सर्च में 3400% की बढ़ोतरी हुई है। इसके बाद ‘मेक माय ट्रिप’ ने लक्षद्वीप के लिए एक नया अभियान शुरू किया है। इस अभियान का नाम “Beaches of India” है।

इस अभियान में कंपनी लक्षद्वीप और अन्य भारतीय द्वीपों के लिए यात्रा पैकेजों में छूट एवं ऑफर प्रदान कर रही है। वहीं, लक्षद्वीप के बारे में गूगल पर 50 हजार से अधिक लोगों ने सर्च किया।

सर्च में 3400 प्रतिशत की बढ़ोतरी

मेक माय ट्रिप ने अपने एक्स हैंडल पर लिखा, “न्यूज़फ्लैश: हमने माननीय प्रधानमंत्री की यात्रा के बाद से लक्षद्वीप के लिए ऑन-प्लेटफॉर्म खोजों में 3400% की वृद्धि देखी है। भारतीय समुद्र तटों में इस रुचि ने हमें भारतीय यात्रियों को देश के आश्चर्यजनक समुद्र तटों का पता लगाने के लिए प्रोत्साहित किया है और इसके लिए ऑफ़र एवं छूट के साथ मंच पर ‘भारत के समुद्र तट’ अभियान शुरू करने के लिए प्रेरित किया है। इस स्थान को देखते रहें!

ट्रैवल कंपनी ने मालदीव के लिए बुकिंग कैंसिल की

एक अन्य ट्रैवल वेबसाइट, EaseMyTrip ने घोषणा की है कि उसने मालदीव के लिए उड़ानों और होटलों की सभी बुकिंग को रद्द कर दिया है। एक्स पर एक पोस्ट में कंपनी के सह-संस्थापक और सीईओ निशांत पिट्टी ने कहा कि मालदीव के मंत्रियों द्वारा पीएम मोदी के खिलाफ की गई अपमानजनक टिप्पणियों के बाद सभी मालदीव उड़ान बुकिंग निलंबित कर दी गई हैं।

EaseMyTrip के सह-संस्थापक प्रशांत पिट्टी ने कहा, “हमारी कंपनी पूरी तरह से घरेलू और भारत में बनी है। पीएम मोदी की लक्षद्वीप यात्रा पर मालदीव के सांसद की पोस्ट पर विवाद के बीच हमने फैसला किया है कि हम मालदीव के लिए कोई भी बुकिंग स्वीकार नहीं करेंगे। हम चाहते हैं कि अयोध्या और लक्षद्वीप अंतर्राष्ट्रीय डेस्टिनेशन बने।”

गौरतलब है कि लक्षद्वीप द्वीप समूह भारत का एक केंद्र शासित प्रदेश है। यह द्वीपसमूह हिंद महासागर में स्थित है। लक्षद्वीप में कई खूबसूरत समुद्र तट हैं। द्वीप समूह में कई ऐतिहासिक स्थल भी हैं। वहीं, मालदीव भारतीय पर्यटकों के लिए लोकप्रिय पर्यटनस्थलों में से एक है। देश के पर्यटन मंत्रालय के आँकड़ों के मुताबिक, साल 2023 के दौरान मालदीव जाने वालों में भारतीयों की संख्या सबसे ज्यादा थी। भारत से 2.05 लाख पर्यटन मालदीव पहुँचे थे तो दूसरे नंबर पर 2.03 लाख पर्यटक रूस से मालदीव पहुँचे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -