Wednesday, May 18, 2022
Homeदेश-समाजबंगाल में फर्जी IAS ने TMC सांसद मिमी चक्रवर्ती को ठगा, फेक वैक्सीनेशन सेंटर...

बंगाल में फर्जी IAS ने TMC सांसद मिमी चक्रवर्ती को ठगा, फेक वैक्सीनेशन सेंटर पर बुलाकर लगाया टीका

“वैक्सीन प्रमाणपत्र में 3-4 दिन नहीं लगने चाहिए। मैंने अन्य लोगों (जिन्होंने शिविर में टीका लिया) से पूछा कि क्या उन्हें पंजीकरण संदेश मिला है। उन्होंने कहा कि उन्होंने कोई पंजीकरण नहीं किया या कोई संदेश नहीं मिला। मुझे तुरंत गड़बड़ लगी और स्थानीय प्रशासन और पुलिस की मदद से मैंने उसे गिरफ्तार करवाया।”

तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद मिमी चक्रवर्ती ने बुधवार (जून 23, 2021) को कोलकाता में फर्जी वैक्सीनेशन सेंटर का भंडाफोड़ करने का दावा किया है। उन्होंने बताया है कि उन्हें एक धोखेबाज ने फर्जी IAS बनकर कॉल किया और उनसे अनुरोध किया कि वह वैक्सीनेशन कैंप में आएँ जो कलकत्ता के दक्षिण में कस्बा क्षेत्र में उसके द्वारा आयोजित करवाया जा रहा है।

मीमी चक्रवर्ती के अनुसार, फर्जी आईएएस ने बताया था कि वह ट्रांसजेंडर्स और विकलांगों के लिए स्पेशल वैक्सीनेशन ड्राइव चला रहे हैं। इस अनुरोध के बाद अगले दिन वह सेंटर पर पहुँची। जहाँ उनके साथ 200 से 250 लोगों को कोविशील्ड वैक्सीन लगाई गई। 

चक्रवर्ती कहती हैं कि इस दौरान उन्होंने लोगों का मनोबल बढ़ाने के लिए कोविशील्ड की वैक्सीन भी लगवाई। लेकिन कभी भी को-विन से कंफर्मेशन का मैसेज उनके पास नहीं आया। इसके बाद उन्होंने कोलकाता पुलिस से शिकायत की और आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया। मिमी चक्रवर्ती ने कहा कि वह शख्स फर्जी स्टीकर और नीली बत्ती भी अपनी गाड़ी पर इस्तेमाल कर रहा था।

इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में मीमी ने कहा टीका अभियान के आयोजकों ने शुरू में उन्हें सूचित किया कि उन्हें कुछ ही घंटों में टीका प्रमाणपत्र मिल जाएगा। बाद में, कहा गया कि इसमें 3-4 दिन लगेंगे। इससे उनका शक बढ़ गया। उन्होंने शिविर में अन्य लोगों से पूछा कि क्या उन्हें कोई पुष्टिकरण संदेश या टीका प्रमाणपत्र मिला है। जब उनमें से किसी को भी CoWin ऐप और वैक्सीन सर्टिफिकेट से कोई एसएमएस नहीं मिला, तो मिमी ने महसूस किया कि कुछ गड़बड़ है और उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

चक्रवर्ती ने कहा, “वैक्सीन प्रमाणपत्र में 3-4 दिन नहीं लगने चाहिए। मैंने अन्य लोगों (जिन्होंने शिविर में टीका लिया) से पूछा कि क्या उन्हें पंजीकरण संदेश मिला है। उन्होंने कहा कि उन्होंने कोई पंजीकरण नहीं किया या कोई संदेश नहीं मिला। मुझे तुरंत गड़बड़ लगी और स्थानीय प्रशासन और पुलिस की मदद से मैंने उसे गिरफ्तार करवाया।”

मिमी की शिकायत के बाद पुलिस मंगलवार शाम छह बजे टीकाकरण शिविर पहुँची। वहाँ पता चला कि भले ही शिविर केएमसी में आयोजित किया गया था, लेकिन न तो केएमसी के विशेष आयोग और न ही स्थानीय पार्षद सुशांत घोष को इस तरह के किसी भी टीकाकरण अभियान की जानकारी थी।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, आरोपित की पहचान देबंजन के तौर पर हुई है। उसने पूछताछ के दौरान खुद को केएमसी के संयुक्त आयुक्त के रूप में पेश किया और यहाँ तक ​​कि एक आईएएस अधिकारी का पहचान पत्र भी प्रस्तुत किया। हालाँकि, उसके बयानों में विसंगतियों के चलते आरोपित को हिरासत में लिया गया और उसे पुलिस स्टेशन लाया गया। कड़ी पूछताछ होने पर, देबंजन टूट गया और अपना गुनाह कबूल लिया। उसके पास से बड़ी संख्या में फर्जी पहचान पत्र, सरकारी टिकट, स्वास्थ्य भवनों से टीके एकत्र करने के लिए माँग पत्र सहित दस्तावेज बरामद किए गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सबा नकवी ने एटॉमिक रिएक्टर को बता दिया शिवलिंग, विरोध होने पर डिलीट कर माँगी माफ़ी: लोग बोल रहे – FIR करो

सबा नकवी ने मजाक उड़ाते हुए कहा कि भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर में सबसे बड़े शिवलिंग की खोज हुई। व्हाट्सएप्प फॉरवर्ड बता कर किया शेयर।

गुजरात में बुरी तरह फेल हुई AAP की ‘परिवर्तन यात्रा’, पंजाब से बुलाई गाड़ियाँ और लोग: खाली जगह की ओर हाथ हिलाते रहे नेता

AAP नेता और पूर्व पत्रकार इसुदान गढ़वी रैली में हाथ दिखाकर थक चुके थे लेकिन सामने कोई उनकी बात का जवाब नहीं दे रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,677FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe