Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजसब्जी में नमक-मिर्च कम, पति को खाने में नहीं आया स्वाद तो आरफा को...

सब्जी में नमक-मिर्च कम, पति को खाने में नहीं आया स्वाद तो आरफा को दे दिया तीन तलाक

9 सितंबर को आरफा के ससुराल में कुछ रिश्तेदार आए थे, जिनके लिए उसने खाना बनाया था। लेकिन सब्जी में नमक-मिर्च कम होने के कारण उसके पति को खाने में स्वाद नहीं आया और उसने गुस्से में आरफा को तीन तलाक दे दिया।

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर से तीन तलाक का एक अजीब मामला सामने आया है। यहाँ एसएसपी के सामने आरफा नाम की महिला ने अपने परिवारवालों के साथ पेश होकर न्याय की गुहार लगाई है और बताया है कि उसके पति आजाद ने सिर्फ़ सब्जी में नमक-मिर्च कम डले होने के कारण उसे तलाक दे दिया और अतिरिक्त दहेज की माँग करते हुए उसे हत्या की धमकी भी दी।

जहाँगीराबाद कोतवाली क्षेत्र की रहने वाली आरफा बुधवार (सितंबर 18, 2019) को अपनी शिकायत लेकर एसएसपी के पास पहुँची। एसएसपी को आप बीती सुनाते हुए महिला ने बताया कि 9 सितंबर को उसके ससुराल में कुछ रिश्तेदार आए थे, जिनके लिए उसने खाना बनाया था। लेकिन सब्जी में नमक-मिर्च कम होने के कारण उसके पति को खाने में स्वाद नहीं आया और उसने गुस्से में आरफा को तीन तलाक दे दिया।

हिंदुस्तान अखबार के बुलंदशहर संस्करण में प्रकाशित खबर

बात यही नहीं खत्म हुई। तीन तलाक देने के बाद आजाद ने आरफा से मारपीट भी की और फिर उसे घर से भी निकाल दिया। पीड़िता की मानें तो उसे उसके पति ने अतिरिक्त दहेज के बिना वापस लौटने पर हत्या करने की भी धमकी दी।

इस घटना के बाद ही आरफा ने अपने एक साल के बच्चे को गोद में लेकर एसएसपी के आगे न्याय की गुहार लगाई है। जिसके मद्देनजर एसएसपी ने जहाँगीराबाद कोतवाली पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करके कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं और बताया है कि मामूली बात पर तीन तलाक देने के मामले में रिपोर्ट दर्ज करके जाँच की कार्रवाई की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो आरफा की शादी 4 दिसंबर 2016 को दिल्ली निवासी आजाद से हुई थी। लेकिन शादी के बाद से ही उसका पति, सास, ससुर, नंदोई समेत अन्य ससुराल के लोग उससे अतिरिक्त दहेज की माँग करते हुए उसे उत्पीड़ित करते थे और उसके साथ आए दिन मारपीट भी होती थी। जिसके चलते वो एक बार पहले भी शिकायत दर्ज करवा चुकी है। साथ ही उसके माएके वाले भी उसके ससुरालवालों को बातचीत करके समझाने का भी प्रयास कर चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पीवी सिंधु ने ओलम्पिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता: वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग के बाद बैडमिंटन ने दिलाया देश को तीसरा मेडल

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता। चीनी खिलाड़ी को 21-13, 21-15 से हराया।

PM मोदी रचने जा रहे एक और इतिहास: 75 साल में सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले बनेंगे पहले भारतीय प्रधानमंत्री

75 साल में ये पहला मौका है, जब एक भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय निकाय के एक कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,477FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe