Monday, January 24, 2022
Homeदेश-समाजबकरीद के पहले बकरे से प्यार वाले पोस्टर पर बवाल: मौलवियों की आपत्ति, लखनऊ...

बकरीद के पहले बकरे से प्यार वाले पोस्टर पर बवाल: मौलवियों की आपत्ति, लखनऊ में हटाना पड़ा पोस्टर

"मुस्लिम इस त्यौहार के मौके पर कुर्बानी देते हैं, यह पोस्टर बहुत गलत संदेश देता है। यह पूरी तरह आपत्तिजनक है, हमारा समुदाय इसका विरोध करता है। इसे जल्द से जल्द हटाया जाना चाहिए।"

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक खबर है। जीव-जंतुओं के हितों के लिए काम करने वाली संस्था PETA को खुद का लगाया हुआ एक पोस्टर यहाँ हटाना पड़ गया। सवाल है कि पोस्टर में ऐसा क्या था जिसके चलते उसे हटाना पड़ा? पोस्टर में एक बकरी/बकरे की तस्वीर थी, और उसकी हत्या न करने की अपील भी थी, जिसका एक सुन्नी धर्मगुरु ने विरोध किया और विरोध के बाद पोस्टर हटा दिया गयाl 

इस्लामिक सेंटर ऑफ़ इंडिया के चेयरमैन मौलाना ख़ालिद राशिद फिरंगी महली ने पोस्टर पर आपत्ति जताते हुए शहर के मंडलायुक्त को ईमेल किया था। साथ ही पोस्टर को हटाने की माँग भी की थी।

मौलाना महली का कहना था कि जब बक़रीद का त्यौहार नज़दीक है, ऐसे में बकरी की तस्वीर लगाने का क्या मतलब? उनके मुताबिक़ बक़रीद 31 जुलाई को मनाई जाएगी। उसके कुछ ही दिन पहले पोस्टर में बकरी की तस्वीर ही क्यों लगाना है? 

पोस्टर हटाने के लिए लखनऊ के कैसरबाग थाने में दो अलग-अलग शिकायतें भी दर्ज कराई गई हैं। जिस पोस्टर पर बवाल हुआ है, उसे आप नीचे देख सकते हैं, जिस पर लिखा है – “मैं जीव हूँ मांस नहीं, मेरे प्रति नज़रिया बदलें, वीगन बनें”:

लखनऊ में PETA द्वारा लगाया गया पोस्टर

PETA ने इस तरह के पोस्टर पूरे देश की अलग-अलग जगहों पर लगाया है। PETA मूल रूप से जीव जंतुओं के लिए ही काम करती है।

इसके अलावा सेंटर ऑफ़ ऑब्जेक्टिव रिसर्च एंड डवलपमेंट के निदेशक अतहर हुसैन ने भी इस मामले में एक पत्र लिखा था। उनका कहना था, “मुस्लिम इस त्यौहार के मौके पर कुर्बानी देते हैं, यह पोस्टर बहुत गलत संदेश देता है। यह पूरी तरह आपत्तिजनक है, हमारा समुदाय इसका विरोध करता है। इसे जल्द से जल्द हटाया जाना चाहिए।”   

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिजाब के लिए प्रदर्शन के बाद अब सरकारी स्कूल की क्लास में ही नमाज: हिन्दू संगठनों ने किया विरोध, डीएम ने तलब की रिपोर्ट

कर्नाटक के कोलार स्थित सरकारी स्कूल में मुस्लिम छात्रों के नमाज मामले में प्रिंसिपल का कहना है कि उन्होंने कोई भी इजाजत नहीं दी थी।

उधर ठंड से मर रहे थे बच्चे, इधर सपा सरकार ने सैफई पर उड़ा दिए ₹334 Cr: नाचते थे सलमान, मुलायम सिंह के पाँव...

एक बार तो 15 दिन के 'सैफई महोत्सव' में 334 करोड़ रुपए फूँक डाले गए। एक साल दंगा पीड़ित बेहाल रहे और इधर बॉलीवुड का नाच-गान होता रहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,155FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe