आतंकियों पर ‘एयर स्ट्राइक’ के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा ‘शुक्रिया IAF’

भारतीय वायुसेना की इस महत्वपूर्ण उपलब्धि पर भारतीय सेना ने भी ट्वीट किया है। इंडियन आर्मी के ट्विटर हैंडल से दिनकर की कविता को ट्वीट किया गया है, ''क्षमाशील हो रिपु-समक्ष तुम हुए विनत जितना ही, दुष्ट कौरवों ने तुमको कायर समझा उतना ही।"

पुलवामा आतंकी हमले के बाद सरकार और भारतीय सेना से, मीडिया से लेकर आम जनमानस तक यही उम्मीद लगाए बैठा था कि मोदी सरकार इस बार आतंकवादियों को जरूर कोई सबक सिखाएगी। मंगलवार (फरवरी 26, 2019) की सुबह देशवासियों को सबसे पहली यही खबर मिली कि भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के घर में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के अड्डे पर ‘एयर स्ट्राइक’ से 1000 किलो बमबारी कर तहस-नहस कर दिया, जिसमें 300 से ज्यादा आतंकवादी मारे गए। इसके बाद सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई।

भारतीय वायुसेना के 12 मिराज-2000 लड़ाकू विमानों ने बालाकोट, चाकोटी और मुजफ्फराबाद में आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को इस हमले में ध्वस्त कर दिया।

पुलवामा हमले के जवाब में भारत की एयर स्ट्राइक से पाकिस्तान से लेकर भारतीय मीडिया के समुदाय विशेष में बौखलाहट देखने को मिल रही है। देशभर के लोगों में जहाँ एक बड़ा वर्ग भारतीय वायुसेना के इस जज़्बे से उत्साहित है वहीं एक ऐसा वर्ग भी है, जो आतंकवादियों पर हुई इस दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक से सदमे में चला गया है।

देखते हैं सोशल मीडिया पर क्या रही लोगों की प्रतिक्रिया

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भारतीय वायुसेना की इस प्रतिक्रिया पर भारतीय सेना ने भी ट्वीट किया है। इंडियन आर्मी के ट्विटर हैंडल से इस कविता को ट्वीट किया गया है, ”क्षमाशील हो रिपु-समक्ष तुम हुए विनत जितना ही, दुष्ट कौरवों ने तुमको कायर समझा उतना ही।”

भारतीय वायुसेना की इस विजय गाथा पर प्रियंका गाँधी के भाई और कॉन्ग्रेस पार्टी अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी ट्वीट कर सिर्फ भारतीय वायुसेना के ‘पायलेट्स’ को सैलूट करते हुए ट्वीट किया। जिसके जवाब में ऑपइंडिया CEO राहुल रौशन ने कटाक्ष करते हुए लिखा, “क्या आप उन्हीं ‘पायलेट्स’ को सैलूट कर रहे हैं, जिन्हें आप नहीं चाहते कि आधुनिक फाइटर जेट्स दिया जाए, क्योंकि आपके परिवार को ‘कमीशन’ नहीं मिल रहा था?” राहुल रौशन का इशारा कॉन्ग्रेस पार्टी के राफ़ेल विमान को लेकर कॉन्ग्रेस की असहमति को लेकर था।

पूर्व सेनाध्यक्ष और वर्तमान भाजपा संसद जनरल वीके सिंह ने अपने ट्विटर एकाउंट पर भारतीय वायुसेना को धन्यवाद देते हुए एक ऐसी तस्वीर के ज़रिए अपनी बात रखी है, जिसमें बाज साँप को दबोच रहा है। इसके साथ उन्होंने लिखा है, “वो कहते हैं कि वो इंडिया को 1000 घाव देना चाहते हैं, हम कहते हैं कि जब भी तुम हम पर हमला करोगे, हम हर बार और मजबूती और ताकत से तुम्हें सबक सिखाएँगे।”

वरुण गाँधी ने भी ट्वीट के माध्यम से सेना और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आतंकवादी अड्डों को तबाह करने के लिए बधाई दी है।

सामाजिक मुद्दों पर अक्सर मुखर रहने वाले लोगों के चाहते वीरेंद्र सहवाग ने अपने ही अंदाज में वायुसेना के इस पराक्रम पर ट्वीट किया है। सहवाग ने लिखा है, “लड़कों ने बहुत अच्छा खेला, सुधर जाओ, वरना सुधार देंगे।”

@Oyevivekk नाम के ट्विटर यूज़र ने 2009 में हुए मुंबई आतंकी हमले से पुलवामा हमले की तुलना करते हुए कॉन्ग्रेस सरकार और मोदी सरकार की तुलना की है। विवेक ने लिखा है कि 2009 में सरकार को कड़ा एक्शन लेने की राय दी गई थी लेकिन तत्कालीन सरकार ने इसमें असमर्थता जताई थी। जबकि वर्तमान सरकार ने तुरंत सैनिकों की मौत का बदला लिया और सैनिकों के मनोबल को बढ़ाया है, इसलिए देश को नरेंद्र मोदी की जरूरत है।

@rishibagree ने अपने ट्वीट में लिखा है कि पाकिस्तानी आतंकवादियों को मरने के लिए अब LOC पार करने की जरूरत नहीं है, हमारी वायुसेना अब ‘होम डिलीवरी’ कर के अपना लक्ष्य पूरा कर रही है।

ट्विटर सेलिब्रिटी @Gabbbarsingh ने पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर के ट्वीट पर जबरदस्त व्यंग्य करते हुए लिखा कि घटनास्थल पर तुम्हारे एयरक्राफ्ट से पहले तुम्हारा फोटोग्राफर पहुँच गया है। गफूर ने आज सुबह घटनास्थल की तस्वीरें ट्वीट कर ये बताया था कि मुजफ्फराबाद सेक्टर में भारतीय विमानों ने घुसपैठ की कोशिश की।

अक्षय कुमार ने अपनी प्रतिक्रिया में ट्वीट किया है कि आतंकवादियों के ठिकानों को खत्म करने पर हमें अपनी भारतीय वायुसेना पर गर्व है। साथ ही कि ‘अंदर घुस के मारो!’

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: