Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजमामूली विवाद पर जला दिया था पुलिसकर्मी का पुतला: 10 भाई-बहन है उदयपुर का...

मामूली विवाद पर जला दिया था पुलिसकर्मी का पुतला: 10 भाई-बहन है उदयपुर का हत्यारा रियाज, परिवार का दावा – 20 साल से संपर्क नहीं

हत्या के मुख्य आरोपित रियाज के परिवार लोगों ने उसके कृत्य की निंदा करते हुए खुद को इस मामले से ही अलग कर लिया है। उसके परिवार वालों का दावा है कि पिछले 20 सालों से उसका परिवार से किसी भी तरह का कोई संबंध नहीं है।

राजस्थान के उदयपुर में हिन्दू टेलर कन्हैया लाल की तालिबानी तरीके से बेरहम हत्या करने के आरोपित रियाज जब्बार और गौस मोहम्मद पुलिस की गिरफ्त में हैं। इन इस्लामिक कट्टरपंथियों को लेकर कई रिपोर्ट्स में कहा गया है कि रियाज जब्बार का लोगों को भड़काने का पुराना इतिहास रहा है। पता चला है कि इससे पहले भी रियाज ने उदयपुर और भीलवाड़ा के आसपास के इलाकों में मुस्लिमों को भड़काने का काम किया था। इसके लिए बकायदा उसने एक नेटवर्क तैयार कर रखा था।

जैसा कि इस तरह की किसी भी घटना के बाद होता है। इस केस में भी वैसा ही देखने को मिल रहा है। हत्या के मुख्य आरोपित रियाज के परिवार लोगों ने उसके कृत्य की निंदा करते हुए खुद को इस मामले से ही अलग कर लिया है। उसके परिवार वालों का दावा है कि पिछले 20 सालों से उसका परिवार से किसी भी तरह का कोई संबंध नहीं है। वो भीलवाड़ा के आसिंद का रहने वाला है और 20 साल पहले अपना घर छोड़कर उदयपुर चला गया था। उसके परिजनों का कहना है कि रियाज जब्बार इतने साल कहाँ था, उसने निकाह कब किया और जीवन यापन के लिए क्या करता है उन्हें कुछ नहीं पता। वहीं रियाज जब्बार ने उदयपुर में एक ऐसा नेटवर्क खड़ा कर लिया था कि इसके बल पर वो लोगों को उकसाता था।

जला चुका है पुलिसकर्मी का पुतला

सूत्रों का कहना है कि ये वही रियाज जब्बार है, जिसने एक साल पहले मामूली विवाद के बाद एक पुलिसकर्मी का पुतला फूँका था। रियाज ने पिछले साल हाथीपोल थाना क्षेत्र में हंगामा किया था। इस हंगामें को कंट्रोल करने के लिए पहुँच पुलिस बलों से भी वो भिड़ गया था। इस बीच रियाज को शांत कराने की कोशिश को तहत पुलिस के एक सहायक उप निरीक्षक ने अनजाने में उसकी दाढ़ी को छू लिया। इससे भड़के रियाज जब्बार ने चंद मिनटों के भीतर सैकड़ों कट्टरपंथियों की की भीड़ जमा कर ली और वहाँ पुलिसकर्मी का पुतला फूँका।

परिवार ने बनाई दूरी

कन्हैया लाल की हत्या के बाद आसिन्द में रियाज जब्बार के घर के पास भारी पुलिस बल तैनात है। दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रियाज के बड़े भाई अब्दुल अयूब लोहार ने कहा, “रियाज हमारे बीच 10वाँ भाई है। मैं दूसरा हूँ। 2001 में हमारी बड़ी बहन का देहांत हो गया, जिसके बाद रियाज उदयपुर चला गया और वहीं रहने लगा। उसने वहीं काम किया और वहीं निकाह भी किया। मुझे ठीक-ठीक नहीं पता कि उसका काम क्या था।”

अब्दुल अयूब लोहार ने आगे कहा, “पिछले 20-22 सालों से हमारे बीच कोई बातचीत नहीं हुई। कल रात मुझे पता चला कि उसने (कन्हैया लाल की हत्या) ये किया है। उसने गलत काम किया है। कानून अपराध करने वाले को सजा देगा। धर्म के नाम पर ऐसी हरकत गलत है। भले ही वह हमारा भाई है, उसे अपराध की सजा मिलेगी। जब हम साथ रहते थे, तो वो ऐसा नहीं था। हम नहीं जानते कि उदयपुर जाने के बाद वो किससे प्रभावित हुआ। इसके बाद उसने परिवार से संपर्क नहीं किया। हमें नहीं पता कि उसने किससे शादी की।”

वेल्डर का काम करता है गौस मोहम्मद

कन्हैया लाल की हत्या का दूसरा आरोपित गौस मोहम्मद है। वो एक वेल्डर का काम करता है और उदयपुर का ही रहने वाला है। पिछले कई सालों से वो रियाज जब्बार का खास रहा है और संपत्तियों के लेन-देन में शामिल रहा है। गौस मोहम्मद रियाज के साथ कन्हैया लाल की दुकान पर गया और उनके सिर को कलम कर दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -