Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजतीन तलाक के बाद बड़े भाइयों के साथ मिलकर शौहर ने किया गैंगरेप

तीन तलाक के बाद बड़े भाइयों के साथ मिलकर शौहर ने किया गैंगरेप

तीन महीने पहले ही हुई थी पीड़िता की शादी, मामूली विवाद की वजह से पति ने दिया तीन तलाक

उत्तरप्रदेश से तीन तलाक का एक और मामला सामने आया है। पीड़िता के मुताबिक मामूली पारिवारिक विवाद की वजह से पति ने पहले उसे तीन तलाक दे दिया और बाद में अपने बड़े भाइयों के साथ मिलकर उसके साथ रेप किया। बुलंदशहर के पुलिस अधीक्षक से मिलकर पीड़िता ने मामले की शिकायत करते हुए इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मामला जिले के गुलावठी कोतवाली क्षेत्र का है। पीड़िता की शादी तीन महीने पहले ही मेरठ के इंचाली के सलमान के साथ हुई थी। पीड़िता के अनुसार मामूली विवाद की वजह से सलमान ने उसे तीन तलाक दे दिया। इसके बाद सलमान ने अपने तीन भाइयों के साथ मिलकर उसका रेप किया।

पुलिस अधीक्षक से ​महिला के गुहार लगाने के बाद बुलंदशहर को गुलावठी कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई गई है। मेरठ के एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि मामले की पड़ताल की जा रही है। उन्होंने कहा कि महिला ने अपने पति पर तीन तलाक देने का आरोप लगाते हुए कहा है कि पति और जेठों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म भी किया। उन्होंने आरोप सही जाने पर कड़ी कार्रवाई किए जाने का भरोसा दिलाया है।

गौरतलब है कि तीन तलाक को लेकर केंद्र सरकार काफी सख्त है। फिर भी तीन तलाक रुकने का नाम नहीं ले रहा। हाल में तीन तलाक का एक मामला यूपी के सीतापुर से सामने आया था। इस मामले में शराब पीने से मना करने पर नाराज होकर पति ने पत्नी को तीन तलाक दे दिया। इसके बाद पत्नी की बेरहमी से पिटाई की और उसे घर से निकाल दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe