Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजघर से भैंस चुराकर ले जा रहे थे सद्दाम और जुम्मन, उसवीर ने विरोध...

घर से भैंस चुराकर ले जा रहे थे सद्दाम और जुम्मन, उसवीर ने विरोध किया तो गौ तस्करों ने सिर में मारी गोली

उसवीर के भाई ने बताया, "मैं चरपाई पर उसवीर के पास सो रहा था। करीब 12 बजे हमें आवाज हमारे पड़ोसी जगदीश की आवाज आई। वह चिल्ला रहा था कि चोर हमारी भैंस ले जा रहा है।"

उत्तर प्रदेश के कासगंज में पिछले दिनों कुछ गौ तस्करों ने उसवीर यादव नाम के एक स्थानीय युवक की हत्या कर दी। युवक की गलती बस इतनी थी कि उसने तस्करों को चोरी करने से रोका था। मगर, तस्करों ने बदले में उसकी जान ही ले ली। अब तस्कर पुलिस की गिरफ्त में हैं। इनकी पहचान सद्दाम और जुम्मन के तौर पर हुई है।

स्वराज्य की रिपोर्ट के मुताबिक, उसवीर के चचेरे भाई गोविंद ने 16-17 नवंबर की रात घटित इस घटना के बारे में बताया। वह बोले, “मैं चरपाई पर उसवीर के पास सो रहा था। करीब 12 बजे, हमें हमारे पड़ोसी जगदीश की आवाज आई। वह चिल्ला रहा था कि चोर हमारी भैंस ले जा रहा है।”

इस आवाज को सुनने के बाद जब उसवीर और बाकी लोग चोर को पकड़ने गए तो चोर ने उसवीर के सिर में गोली मार दी। साथ वालों ने जल्दी से जल्दी उसवीर को अस्पताल में ले जाने का इंतजाम किया मगर वह बीच रास्ते में दम तोड़ चुका था।

रिपोर्ट के मुताबिक, उसवीर 6 भाई-बहनों में सबसे बड़ा लड़का था। उससे बड़ी एक बहन थी जिसकी शादी हो गई थी। वहीं दो भाई और बहन स्कूल में पढ़ रहे थे और घर पर काम करते थे। गोविंद बताते हैं कि उसवीर एक साल से ज्यादा वक्त से दिल्ली में किराए पर रह रहा था और वहीं काम करता था। वह घर पर लगातार रुपए भेजता था।

गोविंद के मुताबिक उसवीर अपने घर में आय का मुख्य स्त्रोत था क्योंकि उसके पिता अब बुजुर्ग हो रहे हैं। उसकी हत्या से जुड़े मामले को कासगंज सिकंदरपुर वैश्य पुलिस थाने में दर्ज किया गया है। 17 नवंबर को इस संबंध में पुलिस ने अपने ट्विटर पर भी बताया था।

उनके मुताबिक आरोपितों को पकड़ने में चार टीमें जुटी थीं। 20 नवंबर को पता चला कि एक मुठभेड़ के बाद कासगंज पुलिस ने इन भैंस चोरों को पकड़ लिया है और दोनों आरोपितों ने उसवीर को मारने की बात कबूली है। इनके पास से 2 भैंस, कुछ कारतूस, बाइक और दो बंदूक बरामद हुई थी। इन दोनों की पहचान सद्दाम और जुम्मन के तौर पर हुई थी। ये पकड़े जाने वाले दिन भी किसी घटना को अंजाम देने जा रहे थे। इनका एक साथी अब भी फरार बताया जा रहा है है।

उल्लेखनीय है कि ये कोई पहली घटना नहीं है जब किसी गौ तस्कर ने पकड़े जाने पर स्थानीय या फिर पुलिस पर गोली चलाई हो। इससे पहले हरियाणा के मेवात से ऐसी घटनाएँ सामने आई थी। इसके अलावा यूपी में भी अक्सर पता चलता रहता है कि कैसे जब पुलिस गौ तस्करों को पकड़ने आगे बढ़ती है तो वो उन पर गोली चला देते है

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -