Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजस्कूली छात्रा का अरशद के सामने अपहरण, होटल ले जाकर 2 दिन गैंगरेप: सदमे...

स्कूली छात्रा का अरशद के सामने अपहरण, होटल ले जाकर 2 दिन गैंगरेप: सदमे में पीड़िता ने फाँसी लगाई, सुनवाई न करने पर SI सस्पेंड

16 सितंबर 2022 को 15 साल की छात्रा को किडनैप करके उसका गैंगरेप हुआ। 18 सितंबर वो किसी तरह अपने घर पहुँची। उसने अपने घरवालों को सारी आपबीती बताई। परिजनों ने पुलिस में घटना की शिकायत दी। लेकिन पुलिस मामले में ढिलाई दिखाती रही। 4 अक्टूबर को लड़की ने आहत होकर फाँसी लगा ली।

उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर में एक नाबालिग गैंगरेप पीड़िता ने फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। पीड़िता के परिजनों ने आरोप लगाया है कि इस मामले में अंबेडकर नगर पुलिस (Ambedkar Nagar Police) आरोपितों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही थी। इस घटना की वजह से उनकी बेटी सदमे में थी, जिसके कारण उसने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। इस मामले में एसपी अजीत कुमार सिन्हा ने एसओ को लाइन हाजिर और सब इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया है।

यह मामला अंबेडकरनगर के मालीपुर थाना क्षेत्र के एक गाँव का है। पीड़िता के माता-पिता दुर्गा पूजा में गए हुए थे तभी नाबालिग ने 4 अक्टूबर 2022 की रात फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली। नाबालिग की मौत के बाद से गाँव में तनाव की स्थिति है। परिवार का कहना है पुलिस की लापरवाही की वजह से उनकी बेटी की जान गई है। प्रशासन आरोपित पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करे और जल्द से जल्द आरोपितों को गिरफ्तार करे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 16 सितंबर 2022 को 15 साल की छात्रा को किडनैप कर लिया गया था। परिवार के लोगों ने थाने में अपहरण का केस दर्ज करवाया था। 18 सितंबर को पीड़िता ने अपने घर पहुँचकर परिजनों को बताया कि लखनऊ के एक होटल में उसके साथ गैंगरेप किया गया। इसके बाद परिवार के लोग पीड़िता को लेकर थाने पहुँचे और उन्होंने गैंगरेप का केस दर्ज करवाया। लेकिन परिवार के मुताबिक पुलिस उनके ऊपर केस दबाने का दबाव बनाने लगी।

वहीं पीड़िता घर वापस आने के बाद से सदमे में थी। पीड़िता ने पुलिस को बताया था, “16 सितंबर को मैं स्कूल से घर वापस आ रही थी। लेकिन घर से करीब 1 किलोमीटर दूर मुझे गाँव की एक महिला और अरशद नाम का शख्स दिखाई दिया। तभी मौके पर एक कार से कुछ नकाबपोश लोग उतरे और मुझे जबरदस्ती कार में बैठा लिया। घटना के समय महिला और अरशद भी मौके पर ही थे।”

पीड़िता ने आगे कहा था, “इसके बाद ये लोग मुझे लखनऊ के एक होटल लेकर गए और वहाँ मेरे साथ गंदा काम किया। वो लोग मुझसे कह रहे थे कि अगर शोर करोगी तो तुम्हें यहीं मार देंगे। उन्होंने मुझे दो दिन तक एक कमरे में बंद करके रखा था। मैं दो दिन तक भूखी-प्यासी इस कमरे में बंद थी। 18 सितंबर को किसी तरह मौका पाकर लखनऊ से घर भाग आई। घर पहुँचकर मैंने परिवार के लोगों को सारी जानकारी दी।”

बता दें कि पीड़िता के आत्महत्या करने के बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया है। स्थानीय जहाँ घटना से भड़के हुए थे वहीं अब पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं। बचाव में पुलिस ने कहा है कि उन्होंने शिकायत मिलने के बाद पीड़िता को मेडिकल टेस्ट के लिए भेजा था। परिवार की शिकायत पर 2 लोगों के खिलाफ केस भी दर्ज हुआ था। पूरे मामले की जाँच भी की जा रही थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -