Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजअगवा कर 15 साल की नाबालिग से गैंगरेप: रईश, इशहाक, अकमल और रेहाब फरार

अगवा कर 15 साल की नाबालिग से गैंगरेप: रईश, इशहाक, अकमल और रेहाब फरार

किशोरी गुरुवार की देर शाम घर से शौच के लिए निकली थी। इसी दौरान रईस और इशहाक बाइक से पहुँचे और उसे अगवा कर ले गए। बाद में साथियों के साथ मिल कर उसके साथ दुष्कर्म किया।

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के बिलरियागंज क्षेत्र के एक गाँव में गुरुवार (अक्टूबर 3, 2019) को देर शाम शौच के लिए घर से बाहर गई किशोरी को अगवाकर गाँव के पाँच युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। गुरुवार की रात घटना को अंजाम देने के बाद आरोपित सुबह के तकरीबन तीन बजे किशोरी को गाँव के बाहर स्थित ट्यूबवेल के पास छोड़कर भाग गए।

पीड़िता ने किसी तरह से घर पहुँचकर घटना की जानकारी दी। पीड़िता के पिता की तहरीर पर पुलिस ने पाँचों युवकों को खिलाफ केस दर्ज कर पीड़िता को मेडिकल के लिए भेज दिया है। पुलिस ने आरोपियों के घर दबिश दी पर सभी आरोपित फरार थे।

दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर का स्क्रीनशॉट

बिलरियागंज थानाध्यक्ष आरके सिंह ने बताया कि पीड़िता के पिता की शिकायत पर गाँव के ही रईश छांगुर, इशहाक, अकमल, रेहाब व एक अन्य अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

पिता के मुताबिक उसकी 15 वर्षीय बेटी गुरुवार की देर शाम को घर से शौच के लिए गई थी। इसी दौरान रईस और इशहाक बाइक से पहुँचे और उसे अगवा कर रौनापार थाना क्षेत्र के बातन गाँव निवासी जावेद के पोखरे पर उठा ले गए। जहाँ पर पहले से अकमल और रेहाब मौजूद थे। पाँचों आरोपितों ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया और फिर उसे शुक्रवार की सुबह उसे घर के पास छोड़ फरार हो गए। किसी तरह से किशोरी अपने घर पहुँची और आपबीती घर वालों को बताई। इसके बाद परिवार के लोग उसे लेकर बिलरियागंज थाने पहुँचे व तहरीर दी।आरोपितों को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माँ का किडनी ट्रांसप्लांट, खुद की कोरोना से लड़ाई: संघर्ष से भरा लवलीना का जीवन, ₹2500/माह में पिता चलाते थे 3 बेटियों का परिवार

टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली लवलीना बोरगोहेन के पिता गाँव के ही एक चाय बागान में काम करते थे। वो मात्र 2500 रुपए प्रति महीने ही कमा पाते थे।

फ्लाईओवर के ऊपर ‘पैदा’ हो गया मज़ार, अवैध अतिक्रमण से घंटों लगता है ट्रैफिक जाम: देश की राजधानी की घटना

ताज़ा घटना दिल्ली के आज़ादपुर की है। बड़ी सब्जी मंडी होने की वजह से ये इलाका जाना जाता है। यहाँ के एक फ्लाईओवर पर अवैध मजार बना दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,105FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe