Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजसीएम योगी ने यूपी के व्यापारियों से की बातचीत, कोरोना से लड़ाई में ऑक्सीजन...

सीएम योगी ने यूपी के व्यापारियों से की बातचीत, कोरोना से लड़ाई में ऑक्सीजन सहित इन मुद्दों पर हुई चर्चा

CM योगी ने व्यापारियों और उद्यमियों से ऑक्सीजन उत्पादन के क्षेत्र में नए प्रयोग करने का अनुरोध करते हुए कहा, ''ऐसे कार्यों में सरकार हर सम्भव सहयोग प्रदान करेगी, ऑक्सीजन के उत्पादन को बढ़ावा देकर हम मानवता को बचा सकेंगे।"

उत्तर प्रदेश में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ कोरोना की बेकाबू रफ्तार को काबू करने के लिए हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। सीएम योगी ने इसको लेकर रविवार (2 मई, 2021) को प्रदेश के व्यापारियों के साथ बैठक की।

उन्होंने व्यापारियों से अपील करते हुए कहा, ”आज जब प्रदेश और देश कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर से प्रभावित है, तो संकट की इस घड़ी में व्यापारी वर्ग अपनी ऊर्जा और सहयोग के माध्यम से इस महामारी के विरुद्ध चल रही लड़ाई में अपना सक्रिय योगदान दें।”

सीएम ने उन्हें नाइट कर्फ्यू और सप्ताहिक लॉकडाउन में सहायता करने के लिए कहा। योगी ने उनसे आग्रह किया कि अगर कोई उन्हें परेशान करता है तो वे इसके लिए सीएम कार्यालय से संपर्क करें।

व्यापारियों ने हमेशा सभी बाधाओं में समाज और देश का समर्थन किया

प्रदेश के व्यापारियों और व्यापारिक संगठनों के साथ वर्चुअल माध्यम से संवाद करते हुए सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने भरोसा जताया कि एक बार फि‍र इस लड़ाई में सफलता मिलेगी और कोरोना परास्त होगा। व्यापारियों ने हमेशा सभी बाधाओं में समाज और देश का समर्थन किया है।

इस बार कोरोना संक्रमण 30-50 गुना ज्यादा मजबूत

सीएम योगी ने बातचीत के दौरान कहा कि इस बार कोरोना संक्रमण 30-50 गुना ज्यादा मजबूत है। ऐसी स्थिति में राज्य में मेडिकल ऑक्सीजन की माँग बढ़ा दी है। हालाँकि राज्य सरकार के प्रयास कुछ हद तक माँग को पूरा करने के लिए प्रभावी साबित हो रहे हैं।

उन्होंने व्यापारियों और उद्यमियों से ऑक्सीजन उत्पादन के क्षेत्र में नए प्रयोग करने का अनुरोध करते हुए कहा, ”ऐसे कार्यों में सरकार हर सम्भव सहयोग प्रदान करेगी, ऑक्सीजन के उत्पादन को बढ़ावा देकर हम मानवता को बचा सकेंगे।”

जीवन और जीविका पर असर पड़ रहा

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर देश और राज्य में जीवन और आजीविका दोनों को प्रभावित कर रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में जीवन और जीविका दोनों पर असर पड़ रहा है और कोरोना की चेन तोड़ने के उद्देश्य से साप्ताहिक लॉकडाउन, नाइट कर्फ्यू जैसी व्यवस्था प्रभावी की गई है। इस समय में आवश्यक और आपातकालीन सेवाओं को जारी रखा जा रहा है। आप लोग सहयोग बनाएँ रखें।

सीएम योगी ने कहा कि अगर किसी के साथ उत्पीड़न अथवा कोई अप्रिय घटना होती है, तो तत्काल स्थानीय प्रशासन को अवगत कराएँ और फिर भी आप अगर संतुष्ट नहीं हैं, तो मुख्यमंत्री कार्यालय को सूचित करें, त्वरित कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में जीएसटी रिटर्न में वृद्धि हुई है। अब तक 16 लाख व्यापारी जीएसटी में पंजीकृत हो चुके हैं।

सीएम ने व्यापारियों से अपील कि है कि वे अधिक से अधिक संख्या में GST पंजीकरण कराएँ। व्यापारी कोविड प्रबंधन, नियंत्रण व बचाव के लिए अपना हर संभव सहयोग प्रदान करें।

सीएम ने कहा कि राज्य में भाजपा सरकार ने व्यापारियों के लिए सुरक्षा का वातावरण बनाया हुआ है। व्यापारियों के लिए सुरक्षा बीमा योजना के तहत ₹10 लाख के बीमा कवर का प्राविधान है, जिससे व्यापारी लाभान्वित हो रहे हैं।

हम कोविड-19 के विरुद्ध संघर्ष में प्रदेश सरकार के साथ हैं: व्यापारी

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने गगन दास रमानी (आगरा), सजल जैन (झांसी), मनीष बंसल (अलीगढ़), रवि प्रकाश चैधरी (बस्ती), ओपी सिंह (लखनऊ) समेत कई व्यापारियों से संवाद किया। व्यापारियों ने कहा कि व्यापारी वर्ग कोविड-19 के विरुद्ध संघर्ष में प्रदेश सरकार के साथ है।

बता दें कि इस समय उत्तर प्रदेश देश में COVID-19 से सबसे अधिक प्रभावित राज्यों में से चौथे स्थान पर है, यहाँ 13 लाख से अधिक लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं अब तक, राज्य में 3 लाख से कम एक्टिव मामले हैं, जबकि महामारी में 13,000 से अधिक लोग अपनी जान गँवा चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe