Wednesday, January 26, 2022
Homeदेश-समाजउग्र हुए मुस्लिम प्रदर्शनकारी: पत्थरबाजी के साथ लगाई कई बसों में आग, लखनऊ में...

उग्र हुए मुस्लिम प्रदर्शनकारी: पत्थरबाजी के साथ लगाई कई बसों में आग, लखनऊ में पुलिस चौकी फूँकी

लखनऊ के मुस्लिम बहुल हसनगंज इलाके में मुस्लिम भीड़ ने विरोध प्रदर्शन के नाम पर कई पुलिस वाहनों को आग के हवाले कर दिया। यहाँ तक मुस्लिम प्रदर्शनकारियों ने पुलिस चौकी में भी आग लगा दी है।

नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ कई राज्यों में उग्र प्रदर्शन हो रहे हैं। कई जगह हिंसक प्रदर्शन भी सामने आ रहे हैं। इसी बीच उत्तर प्रदेश में एक के बाद एक हिंसक प्रदर्शनों और आगजनी की खबरें सामने आईं हैं। प्रदर्शन करने वालों में ज़्यादातर को कपड़ों से पहचाना जा सकता है। ये बहुतायत में मुस्लिम प्रदर्शनकारी है। जो भारी मात्रा में नुकसान की मकसद से पूरी तैयारी के साथ निकले हैं ऐसा कई प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है।

उत्तर प्रदेश के संभल जिले में मुस्लिम प्रदर्शनकारियों ने उग्र होते हुए 2 सरकारी बसों को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में भी लिया है। रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रदर्शन हिंसक होने के बाद संभल जिला कलेक्टर ने अगले आदेश तक जिले की मोबाइल सेवाएँ बंद कर दी हैं।

वहीं दूसरी ओर लखनऊ हसनगंज इलाके में भी CAA के खिलाफ प्रदर्शन उग्र हो गया। यहाँ के मुस्लिम बहुल हसनगंज में उग्र भीड़ ने कई वाहनों में तोड़फोड़ करते हुए उनमें आग लगा दी। मुस्लिमों की भीड़ ने इस दौरान जमकर पथराव भी किए। अलग-अलग गलियों से निकलकर ताबड़तोड़ पत्थरबाजी की है।

लखनऊ के मुस्लिम बहुल हसनगंज इलाके में मुस्लिम भीड़ ने विरोध प्रदर्शन के नाम पर कई पुलिस वाहनों को आग के हवाले कर दिया। यहाँ तक मुस्लिम प्रदर्शनकारियों ने पुलिस चौकी में भी आग लगा दी है। हालाँकि अभी तक घायलों और हुए नुकसान की पूरी रिपोर्ट नहीं आई है लेकिन भरी मात्रा में हिंसा और उत्पात मचने की कोशिश हुई है।

इस हिंसक घटना के बाद पूरे प्रदेश की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। हालाँकि, दूसरी ओर मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यूपी के डीजीपी ओ पी सिंह ने वर्तमान में हालात पूरी तरह से नियंत्रण में होने की बात कही है।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश के कई राज्यों में हिंसक प्रदर्शन किया जा रहा है। इस दौरान कई जगहों से भारी हिंसा होने की जानकारी भी सामने आ चुकी है। पूर्वोत्तर राज्यों के साथ ही पश्चिम बंगाल, बिहार, दिल्ली, उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में भी प्रदर्शन किए जाने की घटनाएँ सामने आ चुकी हैं।

हिंसक विरोध प्रदर्शनों को हवा देने और लोगों को बहकाकर हिंसा के लिए उकसाने के कई नेता और कार्यकर्त्ता गिरफ्तार भी हो चुके हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माइनस 40 डिग्री हो या 15000 फीट की ऊँचाई… ITBP के हिमवीरों ने तिरंगा फहरा यूँ मनाया 73वाँ गणतंत्र दिवस

सीमाओं की रक्षा में तैनात भारतीय तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) ने लद्दाख और उत्तराखंड की बर्फीली ऊँचाई वाली चोटियों में तिरंगा फहराया।

लाल किला में पेशाब से लेकर महिला पुलिस से बदतमीजी तक: याद कीजिए 26 जनवरी, 2021… जब दिल्ली में खेला गया था हिंसक खेल

आइए, याद करते हैं 26 जनवरी, 2021 (गणतंत्र दिवस) को दिल्ली में क्या-क्या हुआ था। किसान प्रदर्शनकारियों ने हिंसा के दौरान क्या-क्या किया। नेताओं-पत्रकारों ने कैसे उन्हें भड़काया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,622FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe