Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजसिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण...

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

महिला ने पुलिस को बताया कि 8 मई 2021 को उसके पति का उत्तराखंड में एक सड़क हादसे में निधन हो गया। इसके बाद सहारा देने के नाम पर उसके पति का दोस्त महफूज उसे अपने गाँव ले आया। यहाँ उसने महिला का धर्म परिवर्तन कराने के लिए उससे निकाह कर लिया।

उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के बेरुआ गाँव से धर्मांतरण का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। एक सिख महिला की पति की मौत के बाद महफूज ने सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया। इतना ही नहीं उसके दोनों बेटों का खतना भी करवाया। मामले में 5 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

महफूज पीड़ित महिला हरजिंदर कौर के पति का दोस्त था। रिपोर्ट के मुताबिक घटना शाहाबाद क्षेत्र की है। इस मामले में सेफनी चौकी के इंचार्ज प्रवीण कटियार की तहरीर पर केस दर्ज किया गया है। पुलिस को शनिवार 12 मई 2021 की रात इस घटना की सूचना मिली थी। जानकारी मिलने के बाद पुलिस गाँव पहुँची तो एक चरपाई पर हरजिंदर और दूसरे पर उसके दो बेटे लेटे हुए थे जिनका खतना कराया गया था। उसका बड़ा बेटा 12 तो छोटा 10 साल का है।

महिला ने पुलिस को बताया कि 8 मई 2021 को उसके पति का उत्तराखंड में एक सड़क हादसे में निधन हो गया। इसके बाद सहारा देने के नाम पर उसके पति का दोस्त महफूज उसे अपने गाँव ले आया। यहाँ उसने महिला का धर्म परिवर्तन कराने के लिए उससे निकाह कर लिया। उसका नाम हरजिंदर कौर से बदलकर गुलिस्ता रख दिया। महिला आरोपित को 2-3 सालों से जानती है। उसके दोनों बेटों का भी खतना कराने के बाद एक का नाम फरमान और दूसरे का अनस रख दिया।

इस मामले पर अपर पुलिस अधीक्षक संसार सिंह ने बताया कि शाहाबाद के बेरुआ गाँव में एक महिला को बहला-फुसलाकर धर्म परिवर्तन कराया गया है। आरोपित उसे बाहर से लाए थे। मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe