Wednesday, June 26, 2024
Homeदेश-समाजनैनीताल BJP जिलाध्यक्ष के घर देर रात जोरदार धमाका: दरवाजे-खिड़कियाँ ध्वस्त, बुलाई गई ITBP...

नैनीताल BJP जिलाध्यक्ष के घर देर रात जोरदार धमाका: दरवाजे-खिड़कियाँ ध्वस्त, बुलाई गई ITBP की टीम

ऑपइंडिया से बात करते हुए हल्द्वानी कोतवाली थाने के इंचार्ज अरुण कुमार सैनी ने बताया कि धमाके के कारण बीजेपी जिलाध्यक्ष के घर में काफी नुकसान हुआ है।

उत्तराखंड के नैनीताल जिला भाजपा अध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर में मंगलवार (14 सितंबर 2021) देर रात जोरदार धमाका हुआ। धमाके की वजह स्पष्ट नहीं है। ऑपइंडिया को पुलिस ने बताया है कि जाँच के लिए फोरेंसिक और आईटीबीपी के विशेषज्ञों की टीम को मौके पर बुलाया गया है।

प्रदीप बिष्ट के हीरानगर स्थित घर में देर रात करीब 12:30 बजे धमाका हुआ था। धमाका इतना तेज था कि इसकी वजह से घर के मुख्य दरवाजे, खिड़कियाँ तक ध्वस्त हो गए। धमाके की आवाज काफी दूर तक सुनी गई। पुलिस शुरुआती तौर पर घर के सिलिंडर में विस्फोट को इसका कारण मानकर चल रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक धमाके से घर की एक तरफ की दीवार तक क्षतिग्रस्त हो गई। घटना की सूचना मिलते ही एसपी सिटी, सीओ हल्द्वानी, एसडीएम मनीष सिंह और सिटी मजिस्ट्रेट रिचा सिंह समेत तमाम प्रशासनिक अमला घटनास्थल पर पहुँच गया। जिलाधिकारी धीरज सिंह गर्बयाल ने बताया कि घर में धमाके से नुकसान बहुत अधिक हुआ है। विस्फोट का कारण जाँच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा।

ऑपइंडिया से बात करते हुए हल्द्वानी कोतवाली थाने के इंचार्ज अरुण कुमार सैनी ने बताया कि धमाके के कारण बीजेपी जिलाध्यक्ष के घर में काफी नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा, “हम शुरुआती तौर पर इसे घर के सिलिंडर में हुआ विस्फोट मानकर चल रहे हैं। जाँच के लिए फोरेंसिक और आईटीबीपी के विशेषज्ञों की टीम को भी बुलाया गया था।”

सैनी के मुताबिक जाँच रिपोर्ट सामने आने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि विस्फोट कैसे हुआ। अधिकारी ने कहा कि घटनास्थल पर किसी भी तरह की बारूद की गंध नहीं आ रही थी। इन सब के अलावा यह भी माना जा रहा है कि ऐसा आकाशीय बिजली गिरने से हुआ हो। राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस घटना पर संज्ञान लेते हुए डीआईजी को जाँच के आदेश दिए हैं। इसके अलावा उन्होंने इस संबंध में जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट से भी बात की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -