सोते वक्त 2 बेटियों से की छेड़खानी, विरोध करने पर निज़ाम, रियाज़, महताब और आफ़ताब ने माँ को मार डाला

आफ़ताब, महताब, निज़ाम और रियाज़ ने मुदस्सिर के घर में घुसकर पूरे परिवार पर लाठियाँ बरसाईं। इस झगड़े में मुजैइयम, सफ़ीरुन, जन्नत और साफ़िया गंभीर रूप से घायल हो गए।

उत्तर प्रदेश के भदोही ज़िले में एक महिला को बुरी तरह से पीट-पीटकर हत्या करने का चौंका देने वाला मामला सामने आया है। मामला भदोही ज़िले के औराई थाना क्षेत्र का है, जहाँ लड़कियों को छेड़ने का विरोध करने पर बिलिकिस बेगम (45 वर्षीय) पर कुछ लोगों ने लाठी से हमला बोल दिया। इस हमले में पाँच अन्य के घायल होने की भी ख़बर है।

ख़बर के अनुसार, औरंगाबाद में मंगलवार (2 जुलाई 2019) की रात पुरानी रंजिश को लेकर हुई मारपीट के बाद तनावग्रस्त परिजनों और ग्रामीणों ने मुआवज़ा और आरोपितों की गिरफ़्तारी के लिए हाईवे पर जाम लगा दिया। मौक़े पर पहुँचे उप जिलाधिकारी जीपी यादव और पुलिस क्षात्राधिकारी यादवेंद्र के काफ़ी समझाने-बुझाने के बाद मामला शांत हुआ। पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ़्तार भी कर लिया।

दरअसल, औराई कोतवाली क्षेत्र के औरंगाबाद निवासी मुदस्सिर और आफ़ताब के बीच पुरानी दुश्मनी थी। मंगलवार की रात गर्मी और उमस के चलते मुदस्सिर की दो बेटियाँ बाहर सो रही थीं। लड़कियों को सोता देख महताब और आफ़ताब ने उन पर फब्तियाँ कसनी शुरू कर दी। मुदस्सिर के लड़के मुजैइयम ने इस बात पर एतराज उठाया तो उनके बीच मारपीट शुरू हो गई। चीख-पुकार सुनकर उसकी माँ बिलिकिस बेगम बीच-बचाव करने पहुँची। विरोध करने पर आफ़ताब, महताब, निज़ाम और रियाज़ ने मुदस्सिर के घर में घुसकर पूरे परिवार पर लाठियाँ बरसाईं। इस बीच मुजैइयम, सफ़ीरुन, जन्नत और साफ़िया गंभीर रूप से घायल हो गए। आनन-फ़ानन में घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पुलिस अधीक्षक राजेश एस के अनुसार, हमले में मुदस्सिर की बीवी बिलिकिस बेगम के सिर पर लाठियाँ लगने से वो गंभीर रूप से घायल हो गईं और उन्हें वाराणसी के लिए रेफर किया गया, जहाँ बुधवार की सुबह उनकी मौत हो गई। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि इस हमले में पाँच लोग घायल हुए हैं। आरोपित निज़ाम और उसके लड़के रियाज़ को गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया गया है। दो अन्य फ़रार (आफ़ताब, महताब) आरोपितों की तलाश जारी है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में तनाव के चलते अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"ज्ञानवापी मस्जिद पहले भगवान शिव का मंदिर था जिसे मुगल आक्रमणकारियों ने ध्वस्त कर मस्जिद बना दिया था, इसलिए हम हिंदुओं को उनके धार्मिक आस्था एवं राग भोग, पूजा-पाठ, दर्शन, परिक्रमा, इतिहास, अधिकारों को संरक्षित करने हेतु अनुमति दी जाए।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,743फैंसलाइक करें
42,954फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: