Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज'मर जाओगी तो सरकार से मुआवजा मिलेगा': बेटे की कॉलेज फीस के लिए बस...

‘मर जाओगी तो सरकार से मुआवजा मिलेगा’: बेटे की कॉलेज फीस के लिए बस के सामने कूद कर माँ ने की आत्महत्या, किसी ने किया था गुमराह

घटना के वीडियो में एक महिला को सड़क किनारे पैदल चलते देखा जा सकता है। लेकिन बस आते देखते ही महिला सड़क के बीच जाकर बस के ठीक सामने आ जाती है।

तमिलनाडु के सलेम में बेटे की कॉलेज फीस भरने के लिए एक माँ ने अपनी जान दे दी। महिला की पहचान पपाथी कि रूप में हुई। वह कलेक्ट्रेट में सफाई का काम करती थी। कहा जा रहा है कि मृतक महिला को किसी ने कहा था कि यदि वह मर जाएगी तो उसके बच्चों को सरकार मुआवजा देगी। इस पूरी घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है। घटना 28 जून 2023 की है।

घटना के वीडियो में एक महिला को सड़क किनारे पैदल चलते देखा जा सकता है। लेकिन बस आते देखते ही महिला सड़क के बीच जाकर बस के ठीक सामने आ जाती है। तेज रफ्तार बस की ठोकर लगते ही महिला नीचे गिर गई। टक्कर इतनी जोरदार थी कि महिला की मौके पर ही मौत हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि पपाथी 15 सालों से अपने पति से अलग होकर रह रही थी। वह अकेले ही अपने बच्चों का पालन-पोषण कर रही थी। बच्चे की फीस न भर पाने के चलते वह डिप्रेशन में थी। 

इसी दौरान किसी व्यक्ति ने उसे गुमराह करते हुए कहा था कि यदि वह मर जाएगी तो सरकार उसके परिवार को मुआवजे के तौर पर 45,000 रुपए देगी। बच्चे की फीस भरने के लिए महिला को आत्महत्या का रास्ता सही नजर आया। इसके बाद बस के सामने आकर जान दे दी। कुछ रिपोर्ट्स में पुलिस सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि हादसे के दिन ही महिला ने एक अन्य बस के सामने आकर जान देने की कोशिश की थी। लेकिन तब वह बाइक से टकरा गई थी। लेकिन दूसरे प्रयास में उसकी जान चली गई।

इस मामले में पुलिस का कहना है कि मृतक महिला पपाथी के बच्चे कॉलेज में हैं। बेटी इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग के फाइनल ईयर में है। एक बेटा पॉलिटेक्निक कॉलेज में आर्किटेक्चर की पढ़ाई कर रहा है। वह गरीब पृष्ठभूमि से आती है और किसी ने उसे इस बारे में गुमराह किया है। मामले की जाँच की जा रही है। हालाँकि, मृतक महिला पपाथी के बेटे ने फीस भरने को लेकर आत्महत्या करने की खबरों का खंडन किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -